Page 1

स्वर्ण युग रजत पवरयां पेज- 13

www.shukrawaar.com

वर्ष 2 अंक 15 n पृष्: 16 n 17 फरवरी - 23 फरवरी 2017 n नयी दिल्ली n ~ 5

l मोदी ब््ांड से भाजपा को उम्मीद l सपा का ‘काम बोलता है’ l दोनो् पर हमलावर बहनजी

मोदी बनाम अखिलेश

धीरे्द् श््ीवास््व

लखनऊ. दो चरणो्के मतदान के बाद यि स्पष्् िो गया िै हक उत््र प््देि

हवधानसभा चुनाव सीधे तौर पर प््धानमंत्ी नरेद् ्मोदी और प्द् ि े के मुखय् मंत्ी अहखलेि यादव के बीच लड़्ा रा रिा िै. लगभग िर

मुख्तार से बढ़ा बसपा का दबदबा ववशेष संवाददाता

लखनऊ. समारवादी पाट््ी के हलए रार का कारण बने मऊ के हवधायक मुख़्तार अंसारी पूव्ी उत््र प््देि मे् बिुरन समार पाट््ी के हलए ट््म्प काि्ज िो गए िै्. पाट््ी ने पिले उनके हिसाब से उन्िे् और उनके पहररनो्को हटकट हदया और अब उनके बड़े भाई व पूवज्सांसद अफराल अंसारी का स्टार प््चारक के र्प मे् उपयोग कर रिी िै. तारुब्ब यि िै हक सपा मे्कौमी एकता दल के हवलय को लेकर हसर पर आसमान उठा लेने वाले पत््कार भी इसे संज्ान मे् निी् ले रिे िै्. हवधानसभा चुनाव के प््ारंहभक दौर तक हवधायक मुख्तार अंसारी की कोहिि रिी हक मुख्यमंत्ी अहखलेि यादव कम से कम उनके हवधायक भाई हिगतुक्ला अंसारी को मोिम्मदाबाद, ग़ाज़ीपुर और उनके पुत् अब्बास अंसारी को वाराणसी या घोसी से सपा का हटकट दे दे्. इसके हलए हवधायक हिगतुक्ला अंसारी अहखलेि की तारपोिी वाले सम्मेलन मे्भी िाहमल िुए. मुख्यमंत्ी के चाचा हिवपाल यादव ने भी इसके हलए प्य् ास भी हकया, लेहकन मुखय् मंत्ी इसे हकसी कीमत पर मानने के हलए तैयार निी् िुए. मुख्यमंत्ी के इस हनण्जय की सरािना भी िुई हक वि रारनीहत के अपराधीकरण के हवरोधी िै्.

समारवादी पाट््ी से हनराि िोने के बाद मुख्तार अंसारी ने बिुरन समार पाट््ी के दरवारे पर दस््क हदया. प््हतफल मे्बसपा ने उनके बेटे अब्बास अंसारी, भाई हिगतुकल ्ा अंसारी के साथ िी खुद मुख़्तार अंसारी को पाट््ी का अहधकृत प््त्यािी बना हदया. यिी निी्, मुख्तार अंसारी के बड़े भाई पूव्जसांसद अफराल अंसारी का भी उपयोग बसपा अपने स्टार प््चारक के र्प मे् कर रिी िै. प््ाप्त रानकारी के अनुसार पूव्ज सांसद अफराल अंसारी अब तक इलािाबाद, प््तापगढ, सुक्तानपुर, अमेठी, लखनऊ, बाकी पेज 2 पर

हवधानसभा क््ेत् मे् भारपा और उसके सियोगी दल प्ध् ानमंत्ी मोदी के नाम पर वोट मांग रिे िै.् विी् सपा और कांगस ्े गठबंधन के प््त्यािी मुख्यमंत्ी अहखलेि यादव के कहरश्मे पर भरोसा कर रिे िै्. किने का मतलब यि हक इस चुनाव मे्िाररीत हकसी प्त्य् ािी की निी्बल्कक सीएम और पीएम की िोनी िै. परंतु एक तीसरा पिलू बिुरन समार पाट््ी (बसपा) का भी िै. लगभग िर क्त्े ्मे् हटकट हबक््ी का आरोप झेल रिी यि पाट््ी पुराने झंझावतो्से पार पा चुकी िै. सूबे की िर समस्या का इलार इस पाट््ी ने हदया िै-'बिन री को आने दो' के नारे के र्प मे्. अपने पुराने हसपिसलारो्के बल पर यि पाट््ी पीएम और सीएम दोनो् को एक साथ िराने का सपना देख रिी िै. पाट््ी कई क्त्े ्ो मे्मरबूती से अपना दमखम हदखा रिी िै.् दावा चािे रो करे् लेहकन िुरआ ् ती दो

'मुलायम के लोग' सपा को हराने मेंजुटे

चरणो् के सच से भारपा भी अवगत िै और सपा-कांगस ्े गठबंधन भी. इसहलए इस चुनाव को लेकर दोनो् खेमो् मे् करो या मरो वाली ल्सथहत व्याप्त िै. देि के सबसे बड़्ेप्द् ि े मे् िो रिे इस चुनावी दंगल मे्हवरय प्ध ् ानमंत्ी नरे्द् मोदी की िो, इसके हलए भारपा के राष््ीय अध्यक्् अहमत िाि, भारत सरकार के मंत्ी रारनाथ हसंि, कलरार हमश्,् श््ीमती उमा भारती, श््ीमती मेनका गांधी, संतोष गंगवार, मनोर हसन्िा और व्यापम घोटाले को राष््ीय स््र पर कुख्यात िो चुके मध्यप््देि मुख्यमंत्ी हिवरार हसंि चौिान आहद पूरा दम लगा रिे िै्. दूसरी तरफ मुखय् मंत्ी अहखलेि यादव की रीत के हलए मोच्ाज संभाले िै् कांगस ्े के राष््ीय उपाध्यक्् रािुल गांधी, मिासहचव अिोक गलिौत, प्द् ि े अध्यक््रारबब्बर और सपा की सांसद श््ीमती हिंपल यादव. बाकी पेज 2 पर

भाजपा के साथ जाने का सवाल नहीं

वववेक सक्सेना

नयी दिल्ली. राष््ीय लोकदल के अध्यक््चौधरी अहरत हसंि ने िुक्वार से बात करते िुए किा िै हक चुनाव बाद भारपा के साथ राने का सवाल िी निी् पैदा िोता. यि पूछे राने पर हक अगर सरकार बनाने मे् हकसी भी खेमे को हवधायको् की रर्रत पड़ती िै तो लोकदल का क्या र्ख रिेगा. इस पर अहरत हसंि का रवाब था 'मै्उन सवालो् बाकी पेज 2 पर

फिर से रावत की उम्मीद

फ्ज्ल इमाम मल्ललक

िेहरािून. उत््राखंि मे्हवधानसभा का चुनाव हनपट गया. अब बिस-मुबाहिसो् मे् सरकार बनाने के दावे हकये रा रिे िै्. अपने-अपने दावे और अपने-अपने सव््े. चुनाव पूव्जसव््ेक्ण मे्उत््राखंि मे्भारतीय रनता पाट््ी की सरकार बनती हदखायी दे रिी िै. लेहकन बुधवार को हरस तरि की वोहटंग िुई िै उससे अगर सव््ेक्ण गलत साहबत िो राये तो इस पर बिुत ज्यादा िैरत निी्िोनी चाहिये. सिी िै हक उत्र् ाखंि मे्अब तक का यि चुनाव िरीि रावत बनाम भारपा िो रो इहतिास रिा उसमे् दोबारा सत््ा हकसी पाट््ी को निी् हमली िै. लेहकन इस बार का गया िै. प््देि के मुख्यमंत्ी िरीि रावत कांग्ेस के इकलौते स्टार प््चारक िै हरन पर चुनाव इस हमथ को तोड़्सकता िै. पाट््ी की नैया पार लगाने की हरम्मेदारी िै. देखा राये तो इस चुनाव मे्मुकाबला िरीि रावत बनाम प््धानमंत्ी नरे्द्मोदी के साथसाथ चार पूव्ज मुख्यमंह्तयो् के बीच िै. एक के एक वहरष््पत््कार की पिले हगरफ्तारी मिीने की िो पर इस िेढ् मिीने मे् तमाम शंभूनाथ शुक्ल तरफ रावत अकेले िै्तो उनके हखलाफ नरेद् ् नयी दिल्ली. रारनेता और ब्यूरोके्ट और हफर तत्काल हरिाई से कुछ सवाल ऐसी कुंठाएं हनकाली राती िै् हरन्िे् आम मोदी के साथ-साथ भगत हसंि कोश्यारी, मे् बुहनयादी फक्क िोता िै हक रारनेता खड़्े िुए िै्. अब यि मिसूस हकया राने हदनो् मे् हनकालने के पूव्ज पुहलस या भुवन चंद्खंिूड़्ी, रमेि पोखहरयाल हनिंक लचीला और सामाहरक संबंधो्को गिराई लगा िै हक हनव्ाजचन आयोग आचार संहिता नौकरिािी दस बार सोचती. क्यो्हक तब और हवरय बिुगुणा िै. इस हलिार से यि से समझता-बूझता िै रबहक एक ब्यूरोके्ट के नाम पर कैसी-कैसी भूले्कर बैठता िै. रारनेताओ् का सीधा दखल प््िासन पर चुनाव बेिद हदलचस्प िै और एक तरफ बस लीक का फकीर िोता िै. अगर आचार संहिता के नाम पर ब्यूरोके्सी और िोता िै और रारनेता अपनी सनक से निी् अकेले रावत की साख िै तो दूसरी तरफ हनव्ाजचन आयोग का िेि हकसी बुरुग्जऔर पुहलस अचानक बेलगाम िो राती िै. उसे थोड़्ा व्यविार बुल्घघ से काम करते िै् मोदी से लेकर बिुगुणा तक िै्रो रावत की हरटायि्ज रारनेता को बनाया राने की लगता िै हक अब वि अपने हदमाग से काम क्यो्हक वे प््िासन की तरि स्थायी घेराबंदी का दावा कर रिे िै्. चुनाव पूव्ज परंपरा िोती तो वि वि भूल कभी निी् करेगी. हरसको चािा पकड़्ा और हरसे कम्जचारी निी्बल्कक पांच साल के हलए िी सव््ेक्ण इन दावो् को सिी साहबत भी कर करता रो हक हनव्ाजचन आयोग ने अहत चािा हरिा हकया, कोई पूछने-राँचने वाला लोकसेवक िोते िै्. रिी िै लेहकन रावत वोहटंग के बाद हरस बाकी पेज 3 पर उत्साि मे् आकर कर दी. दैहनक रागरण तो िै निी्. भले यि सुहवधा मिर िेढ् बाकी पेज 2 पर इटावा. लोहिया के लोग तर्ज पर बनाया गया समूि मुलायम के लोग दो हरलो् इटावा और मैनपुरी मे् समारवादी पाट््ी के उम्मीदवारो् को िराने की कोहिि मे् रुटे िै्. यि कवायद चार पांच सीटो् पर िो रिी िै खासकर हरन सीटो् पर राम गोपाल यादव के करीबी लोग चुनाव लड़ रिे िै्. रानकारो् के मुताहबक ये लोग हिवपाल यादव के खेमे के िै् और बसपा उम्मीदवारो् को हरताने की अपील कर रिे िै्. इसमे्कुछ हरले के पुराने ठेकेदार भी बाकी पेज 2 पर

उतंसाहीलाल पुललस का उतंसाह!


2

www.shukrawaar.com n

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

किसानों पर लाठीचारंज िी कनंदा

लखनऊ. अहखल भारतीय हकसान मरदूर सभा (एआईकेएमएस) की के्द्ीय काय्जकाहरणी ने गुररात के सनन्द क््ेत् मे् हवरोध कर रिे िरारो्हकसानो्पर हकए गए लाठीचार्ज और आंसू गैस िमले की कड़ी हनन्दा की िै. काय्जकाहरणी ने बयान रारी करते िुए किा िै हक हकसान अपनी नम्जदा निर के पानी को उद््ोगो्के हलए िस््ातं हरत करने का हवरोध कर रिे थे और इसके हलए गांधीनगर तक रैली हनकाल रिे थे. गुररात के इस क््ेत् के गांवो् मे् हसंचाई व पेयरल की गंभीर समस्या िै. फसले् सूखी िुई िै्. गुररात सरकार ने गांव के हलए बनाई गई सनन्द निर का पानी बड़े कारपोरेटो्को दे हदया िै. इस मसले पर केद् ्सरकार कुछ निी्कर रिी

मे् भारी पुहलस बल ने उन्िे् नल सरोवर पर रोका और महिलाओ्, बच््ो् समेत उन सब पर बब्जर लाठीचार्ज कर हदया. रब उन्िो्ने पत्थर चलाने िुर्हकए तो आंसू गैस दागकर उन्िे् हबखेर हदया. घायल हकसानो् का 16 हसहवल अस्पतालो्मे्इलार कराया रा रिा िै. मगर िीएसपी आरवी अंसारी का किना िै हक इस घटना मे्सात पुहलसकम््ी घायल िुए िै्और हकसी नागहरक को कोई चोट निी् आई िै. उन्िो्ने करीब 20 हकसानो् को िै. हवहभन्न आरोपो् मे् हगरफ्तार हकया िै. इस उन्िो्ने किा हक 14 फरवरी को बारे मे् एआईकेएमएस के मिासहचव िॉ. वीरामगाम, बावला व सनन्द आहद 32 गांवो् आिीष हमत््ल ने मांग की िै हक घटना मे् के करीब 5000 हकसानो् ने ट््ैक्टरो् से िाहमल पुहलसकह्मयज ो्को सस्पि े् हकया राए गांधीनगर की ओर एक माच्जहनकालना िुर् और पूरी घटना की महरस्ट्ेट रांच कराई हकया था. िीएसपी आरवी अंसारी के नेतृत्व राए.

मोदी बनाम अफिलेश पेज 1 का बाकी देि के सबसे बड़्ेप्द् ि े के हलए िो रिे इस चुनाव मे् समारवादी पाट््ी और कांगस ्े गठबंधन की ओर से अहखलेि यादव 2017 के हलए मुख्यमंत्ी के घोहषत प््त्यािी िै्. इसहलए पिले से तय था हक कांग्ेस और् समारवादी पाट््ी के प््त्यािी मुख्यमंत्ी अहखलेि यादव के नाम पर वोट मांगगे् .े अभी तक िुए दो चरणो्मे्मांगे भी िै.् और, आगे के पांच चरणो् मे् भी मांगे्गे. इसके हलए अहधक से अहधक रगिो्पर मुखय् मंत्ी खुद पिुंचने का प््यास कर रिे िै और लोगो् से अपील कर रिे िै्हक उत्र् प्द् ि े को देि का उत््म प््देि बनाने के हलए िमे् एक बार अवसर दीहरये. मुख्यमंत्ी अहखलेि यादव यिां तक बोल रिे िै् हक अगर िमारे प्त्य् ािी से कोई गलती िुई िै तो उसकी सरा मुझे मत दीहरयेगा. स्टार प्च ् ारक के तौर पर कमोबेि इसी भाषा मे् उनका साथ दे रिी्की उनकी रीवन संगनी सांसद हिंपल यादव. मुखय् मंत्ी और उनकी पत्नी को छोहड़्ए, '27 साल यूपी बेिाल' का नारा लगाने वाले कांगस ्े ी नेताओ् और रािुल गांधी को भी 'काम बोलता िै' का अहखलेिी मंत्समझ मे्आ गया िै. पहरणाम िै हक 2012 मे् समारवादी पाट््ी का चुनाव घोषणा पत्् फाड़् देने वाले रािुल गांधी अहखलेि यादव के साथ मंच साझा कर रिे िै्. अन्य नेता भी सभाओ् मे् अहखलेि यादव के काम की तारीफ कर रिे िै्. रारस्थान के पूव्ज मुख्यमंत्ी अिोक गलिौत पीसीसी काय्ाल ज य मे्एक सरल और सिर उपलब्ध काय्क ज त्ाज की तरि समन्वय का मोच्ाज संभाल हलए िै.् गठबंधन के प्त्य् ािी तो चीख-चीख कर बोल रिे िै्- सीएम अहखलेि, सीएम अहखलेि. इसहलए लगने लगा िै हक हवधान चुनाव मे् कांग्ेस-सपा गठबंधन के प््त्यािी रीते्गे तो अहखलेि यादव रीतेग् े और िारेग् े तो अहखलेि यादव. इस चुनाव को - अभी निी्तो कभी निी् - के तर्ज पर लड़् रिी भारपा मे् चुनाव के ऐलान से पिले सूबे मुखय् मंत्ी के हलए कई नाम चले. मसलन, मनोर हसन्िा, स्मृहत ईरानी, हदनेि िम्ाज से लेकर भारत सरकार के गृिमंत्ी रारनाथ हसंि तक, लेहकन तय िुआ हक सीएम कस फैसला चुनाव बाद.

हफलिाल हवधानसभा का चुनाव भी प््धानमंत्ी नरे्द् मोदी के नाम पर िी लड़्ा रायेगा. और, लड़्ा भी रा रिा िै. पाट््ी के राष््ीय अध्यक््अहमत िाि िो् या देि के गृिमंत्ी रारनाथ हसंि या कोई अन्य मंत्ी या दूसरे राज्य के मुखय् मंत्ी सभी इस चुनाव मे्नरेद् ्मोदी के नाम पर वोट मांग रिे िै.् इसे रीतने के हलए भारपा के राष््ीय अध्यक््भोर के चार बरे तक बैठक कर रिे िै्. गैरो् को तररीि हदये राने से नारार काय्क ज त्ाओ ज ् को लालीपाप हदया रा रिा िै. खुद प््धानमंत्ी हदन रात एक हकये िुए िै्. मतदाताओ् को अपने पक्् मे् करने के हलए वि यिां तक बोल रिे िै् हक उत्र् प्द् ि े मे् दोपिर मे् भी महिलाये् घर से बािर निी् हनकल पाती िै.् अहखलेि यादव को पराहरत करने का मािौल बनाने के चक्र् मे्यि बोलते समय उन्िे् यि भी याद निी् रिा हक वि देि के प्ध ् ानमंत्ी िै.् देि के हकसी भी हिस्से मे्यि िम्नज ाक ल्सथहत उनके हलए भी ठीक निी्िै. इसे लेकर लोग उनसे भी सवाल करे्गे हक देि के सबसे बड़्ेराज्य मे्अगर यि िम्नज ाक ल्सथहत थी या िै तो भारत सरकार ने इसे संज्ान मे् क्यो् निी् हलया? देि का गृि मंत्ालय क्या कर रिा था? राज्यपाल क्या रिे थे? बिरिाल यि चुनाव िै. इसमे् -एवरी हथंग इर राइट इन लव एंि वार- का फॉम्ल जू ा चलता िै. प्ध ् ानमंत्ी भी चला रिे िै.् इसके रवाब मे् सपा और कांगस ्े गठबंधन भी पद और गहरमा का सवाल उठा रिा िै लेहकन वि किने से बार निी्आ रिा िै हक प्ध ् ानमंत्ी और उनके अन्य मंत्ी पय्टज न पर हनकले िै.् रैहलयो्और सभाओ्इस तरि के रुमलो्की वरि से नीचे तक संदि े िै हक इस बार का चुनावी दंगल सीधे सीधे प्ध् ानमंत्ी नरेद् ्मोदी और मुखय् मंत्ी अहखलेि यादव के बीच िै. बिुरन समार पाट््ी और उसकी प्म् ख ु मायावती इस चुनाव मे् एक साथ दोनो् पर िमलावर िै.् पाट््ी ने इसके हलए अपना तौर तरीके भी बदल िै. मीहिया िी, सोिल मीहिया मे् भी स्पा भारपा के आरोपो् का रवाब हदया रा रिा िै. इस अहभयान मे् मायावती के साथ रूझ रिे िै्पाट््ी के वहरष्् नेता सतीि हमश््और नसीमुद्ीन. बोल रिे िै् हक एक साथ दोनो्को िरा रिी िै बसपा.

भाजपा के साथ... पेज 1 का बाकी का रवाब देता िूं रो तथ्यो् पर आधाहरत िोते िै्. िम क्यो् यि मान कर चले हक रालोद को बिुमत निी् हमलेगा. िमे् तो दो हतिाई बिुमत हमलने वाला िै.' पर अगर भारपा को कुछ सीटो् की रर्रत पड़े तो? इसपर चौधरी अहरत हसंि का रवाब था ,भारपा का तो सपने मे् भी समथ्जन निी् हकया रा सकता िै. गौरतलब िै हक पिले चरण के मतदान मे् राट हबरादरी के अहत उत्साि से मतदान मे्भाग लेने की वरि से लोकदल को आगे काफी उम्मीद नरर आ रिी िै. अगर हकसी को भी पूण्जबिुमत निी् हमला तो लोकदल की भूहमका बिुत मित्वपूण्जिो राएगी. वैसे भी चौधरी अहरत हसंि रारनीहत के बड़े सौदागर माने राते िै्. िायद यिी वरि रिी हक गठबंधन से उनकी बात निी्बनी. वे हरतनी सीटे्चािते थे उतनी सीट समारवादी पाट््ी छोड़ने को तैयार निी्थी.

'मुलायम के लोग... पेज 1 का बाकी िाहमल िै्. िालांहक इसका बिुत असर िोता नरर निी्आ रिा िै पर हफर भी चार पांच सौ वोट का ये असर दाल सकते िै. कम अंतर से हनकलने वाली सीट पर इसका असर पड़ राए तो िैरानी निी्िोनी चाहिए.

मुख्तार से बढ़ा... पेज 1 का बाकी गोरखपुर, बस््ी, बहलया और वाराणसी मे् बसपा उम्मीदवारो् के हलए सभा और रनसम्पक्क कर चुके िै्. तारुब्ब यि िै हक इसे वे पत््कार भी संज्ान मे् निी् रिे िै् रो कौमी एकता दल के हवलय को रारनीहत मे् साफ सुथरी रारनीहत के हलए घातक मान रिे थे. लोकसभा चुनाव मे्अफराल अंसारी के इलेक्िन एरे्ट रिे हिवकुमार राय रैसे लोग अपने पूव्ज सांसद की इस व्यस््ता से परेिान िै्. इन लोगो्का किना िै हक उन्िे् अब सीधे सीधे मोिम्मदाबाद, मऊ, घोसी और रमाहनयां हवधानसभा का मोच्ाज सम्भालना चाहिए.

पलानीसंवामी ने ली सीएम पद की शपथ

चेन्नई: राज्यपाल सी हवद््ासागर राव हक अध्यक््ता श्ाहिकला के करीबी पलानीस्वामी ने गुर्वार को तहमलनािु के मुख्यमंत्ी पद की िपथ ली. इससे पिले राज्यपाल ने उन्िे् सरकार बनाने का न्योता हदया था. उन्िे्बिुमत साहबत करने के हलए 15 हदन का समय हदया गया िै. इससे पूव्ज आर िी पलानीस्वामी राज्यपाल से हमलने पिुच ं े थे. पलानीस्वामी के अलावा चार अन्य हवधायक भी गवन्जर से हमलने गए थे. इससे पिले मंगलवार को इदापड््ी के पलानीस्वामी और उनके हवरोधी ओ पन्नीरसेकवम ् दोनो्ने राज्यपाल से मुलाकात कर अपने साथ अन्नाद््मुक हवधायको् का समथ्जन िोने की बात किी. उन्िो्ने बुधवार िाम हफर राज्यपाल से मुलाकात कर अपने खेमे मे् पाट््ी के 134 मे् से 124 हवधायको् के समथ्जन की बात किी थी. तहमलनािु हवधानसभा मे्234 हवधायक िै.् इसके साथ िी पन्नीरसेक्वम ने भी बुधवार को राज्यपाल

से मुलाकात कर 'बिुमत' का दावा हकया और बिुमत साहबत करने का मौका हदए राने की मांग की. पन्नीरसेक्वम के खेमे का दावा िै हक अन्नाद््मुक हवधायको्को उनकी मर््ी के हखलाफ चेन्नई के बािरी इलाके मे् एक हरसॉट्जमे्रखा गया िै. पलानीस्वामी के साथ रारभवन पिुंचे मत्स्य पालन मंत्ी िी रयाकुमार ने किा हक उनके पास 124 हवधायको् का समथ्जन िै. राज्यपाल के साथ बैठक के बाद उन्िो्ने संवाददाताओ्से किा, 'िमने राज्यपाल को पाट््ी हवधायक दल के नेता पलानीस्वामी का समथ्जन कर रिे हवधायको्की सूची सौ्पी िै. राज्यपाल ने किा हक सूची पर हवचार करे्गे और िमे् हवश््ास िै हक लोकतंत् की रक््ा िोगी.' उन्िो्ने किा, 'िमने राज्यपाल को बताया हक पलानीस्वामी के साथ अहधकतर हवधायको् का समथ्जन िै और इसहलए उन्िे् सरकार बनाने के हलए आमंह्तत हकया राना चाहिए.'

फिर से रावत की उम्मीद पेज 1 का बाकी तरि से उत्साि और भरोसे से भरे हदखायी पड़्रिे िै्, उससे भारपा खेमे की बेचैन बढ् गयी िै. दरअसल भारपा भी उत््राखंि मे् कई मोच््ेपर लड़्रिी िै. िरीि रावत के हखलाफ तो वि लड़् रिी िै लेहकन भारपा मे् सब कुछ ठीक चल रिा िै, ऐसा भी निी् िै. दरअसल चार पूव्जमुख्यमंत्ी के अलावा कई दूसरे हदग्गर नेता भी अंदर्नी तौर पर एकदूसरे के हखलाफ खम ठो्क रिे िै्. यानी िरीि रावत अगर कई नेताओ्से रूझ रिे िै् तो भारपा भी अपनी िी पाट््ी के कई नेताओ् से लड़् रिी िै. यि बात भारपा के पक्् मे् निी्राती िै. मुखय् मंत्ी का सवाल चुनाव के दौरान उसे सताता रिा तो भ््ष्ाचार के सवाल पर भी वि बचती रिी क्यो्हक हरन कांगस ्े ी नेताओ्पर वि भ्ष ् ्ाचार का तोिमत लगाती रिी थी, विी नेता अब भारपा मे् िै् और चुनाव भी लड़् रिे िै् तो भारपा काय्जकत्ाजओ् को यि सवाल कचोट रिा िै. इसहलए भारपा ने उत््राखंि मे् लड़्ाई को कांग्ेस बनाम भारपा निी् बनाया बल्कक भारपा बनाम िरीि रावत बनाने की कोहिि की. यिां तक हक प््धानमंत्ी ने तो अपने भाषणो् मे् बार-बार ‘िरदा टैक्स’ का हरक्् कर सीधा िमला रावत पर हकया. रावत ने इन िमलो् का रवाब तरतीब वार हदया और प्ध ् ानमंत्ी सहित भारपा के तमाम नेताओ्पर िमले बोले. तमाम सव््ेभले रावत को पीछे बता रिे िो्लेहकन अपने संह्कप्त काय्जकाल मे्रावत ने पिाड़्के मम्जको समझने की कोहिि की और चुनाव मे् इसे लोगो् को समझाने की कोहिि भी की. िायद यिी वरि िै हक चुनाव मे् कांग्ेस ने नया नारा गढ्ा ‘उत््राखंि खुििाल, िरीि रावत पूरे पांच साल’. इस नारे का हकतना असर लोगो् पर िोगा लेहकन रावत उत््राखंि मे् कांग्ेस के रीत के सूतध ् ार 2002 मे्भी रिे और 2012 मे्भी. इस बार तो उनका सब कुछ दांव पर लगा िै. इसहलए यि चुनाव उनके हलए कहठन रर्र िै लेहकन हरस उम्मीद से वे भरे

िै्, उसने भारपा की परेिानी बढ्ा दी िै. भारपा के हलए सबसे बड़्ी परेिानी वे 14 कांग्ेसी िै्, रो भारपा मे्िाहमल िोकर चुनाव मे्कमल हखलाने मे्रुटे िै्. इनमे्से हकतने चुनाव रीतेग् ,े इसका पता तो 11 माच्ज को िी लगेगा लेहकन रावत ने इसे अपने पक्् मे् भुनाने की कोहिि की. उन्िो्ने लोगो् से साफ किा हक मेरी सरकार को भारपा ने हगराने की कोहिि की और हरन भ््ष्ाचारी किा उसे िी अपने गोद मे्हबठाया. िमने तो इनसे समझौता निी्हकया लेहकन भारपा ने भ््ष्ाचहरयो् से समझौता कर हलया. प्ध् ानमंत्ी के नोटबंदी के फैसले को भी रावत ने मुद्ा बना कर लोगो्से वोट मांगे िै्. रावत को अपने प््बंधन पर भरोसा िै. इसहलए वे चुनाव के बाद उत्साि से लबरेर िै्. भारपा की परेिानी बढ्ी िुई िै. भारपा अभी कुछ आकलन निी् कर पायी िै लेहकन वोट िालने के बाद बाबा रामदेव के बयान से भी भारपा की ल्सथहत को समझा रा सकता िै. उन्िो्ने किा हक इस बार के चुनाव मे्बड़्ेबड़्े सूरमा हनपट राये्गे. वे भारतीय रनता पाट््ी का भी खुले कर समथ्जन करने से बचे. उन्िो्ने किा हक वे इस चुनाव मे् ‘हनष्पक््’ िै्. रामदेव के मुताहबक इस बार के हवधानसभा चुनाव के नतीरो् से उत््राखंि मे् भूचाल आ सकता िै. हनष्पक्् रिने की वरि पूछे राने पर रामदेव ने किा हक देि की रनता काफी हववेकिील िै. िालांहक रामदेव के इस बयान से कुछ भी साफ निी् िै लेहकन वक्त की नब्र पकड़्ने वाले रामदेव के इस बयान के कई अथ्ज हनकाले रा रिे िै्. राहिर िै हक भारपा का खुल कर समथ्जन करने वाले रामदेव अगर खुद को अब हनष्पक््बता रिे िै्तो नतीरो्के कयास भी लगाये रा रिे िै्. ऐसा किा राता रिा िै हक उत्र् ाखंि मे्सत््ा पलट के सूतध ् ार बाबा रामदेव िी थे लेहकन वोहटंग के ट्ि्े को देखने के बाद उन्िो्ने िरीि रावत से अपने हरश्ते मधुर बनाने के हलए िी हनष्पक्् काि्ज खेला िै. बिरिाल रावत बनाम अन्य की इस लड़्ाई मे्नतीरे अगर कांग्ेस के पक््मे्आते िै्तो रावत एक नये अवतार मे्हदखायी दे्गे.


www.shukrawaar.com n

प््ेम पंचोली

3

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

इस चुनाव मेंपानी की लचंता लकसी को नहीं

वष्ज 2017 के हवधानसभा चुनाव मे् उत््राखण्ि मे् कांग्ेस, भारपा, सपा, बसपा सहित लगभग दो दर्जन से अहधक रारनीहतक पाह्टियो् ने अपने-अपने प््त्यािी मैदान मे्उतारे िै.् कुल 70 हवधानसभाओ्के हलये 634 उम्मीदवार मैदान मे्िै्. कांग्ेस ने संकक्प पत्् और भारपा ने दृह्ष पत्् तथा बाहक अन्य पाह्टियो्ने घोषणा पत््रारी हकया िै. पूव्ज के चुनाव की भाँहत इस बार भी लोकलुभावन वायदे के साथ ये पाह्टियां अपने-अपने घोषणा पत्् मे् हवकास की इबारत हलखने की बात करने से बार निी् आए. ताज्ब्ु िो हक एक भी ऐसा वायदा निी् िै हरसके सुिावने सपने इनके घोषणा पत््मे् अंहकत ना िो्. बस! एक बात को इन पाह्टियो् ने बेपरवाि कर दी हक हरन मुद्ो्व वायदो्के साथ आरकल ये पाह्टियां लाउिस्पीकर लेकर घूम रिे िै्वे वायदे कैसे रीहवत रिे्गे इसकी हफक््िायद इन्िे्निी्िै. उक्लख े नीय िो हक इस बात से कोई भी सिमत िो सकता िै हक हबना पानी के कोई रीहवत रि सकता िै? हबना साफ-सुथरी िवा के कोई रीहवत

पाह्टियाँ अपने घोषणा पत््ो्मे्रगि निी्बना पाये. ताज््ुब तो तब िोती िै रब ये रारनीहतक पाह्टियां िर वष्जआपदा के बरट के साथ अखबार बयानबारी करते नरर आते िै्। िाल मे्उन्िे्चाहिए था हक वे अपने घोषणा पत््मे्आपदा के न्यूनीकरण की बात करते, रल संरक््ण की बात करते, रंगल और रमीन को सरसब्र करने की बात करते. बराय इनके घोषणा पत्् उक्टे राज्य के प््ाकृहतक संसाधनो् के संरक््ण निी् रि सकता िै? उत््र आएगा हक निी्! हकतने रलस््ोत िै्. सव््ेक्ण से मालूम िुआ हवदोिन की बात रर्र करता िै. घोषण पत््ो् दरअसल, उत्र् ाखण्ि के असली मुद्ेयिी िै.् हक राज्य के 75 प््हतित रलस््ोत सूखने की के अध्ययन करने से पता चलता िै हक ये इन बातो् का हकसी भी रारनीहतक पाट््ी ने कगार पर िै.् 50 फीसदी रलस््ोत मौसमी िो पाह्टियां रो भी हवकास का रोिमैप लोगो् के अपने घोषण पत््, संकक्प पत््व दृह्ष पत््मे् चले िै्. इसी तरि इस सव््ेक्ण की हरपोट्ज सामने प््स्ुत कर रिे िै् उनके अनुसार बताती िै हक राज्य के अहधकांि रलस््ोत सम्भाहवत उम्मीदवार को वोट िी निी् हमल हरक््तक निी्हकया. आर लोग रानना चाि रिे िै्हक स्कूल वनाग्नी की वरि से सूख रिे िै्या वे अपना रिे िै.् 634 मे्से एक भी उम्मीदवार ने अपने की हबल्किंग बनेगी तो क्या हबन पानी के या रास््ा बदल रिे िै्. यिी निी् हरपोट्ज यि भी घोषणा पत््के अनुर्प लोगो्से मतदान की कोई भी ढांचागत हवकास िोगा तो क्या हबन इिारा कर रिी िै हक राज्य मे्रैवहवहवधता अपील निी् की िै. वे लोगो् से मतदान की पानी के? या राज्य मे् रल हवद््ुत घटने से इन प््ाकृहतक रलस््ोतो् पर बुरा अपील के हलये लोगो्से क््ेत्, राहत की बात पहरयोरनाएँ बने्गी तो क्या हबन पानी के? प््भाव पड़्ा िै. एक तरफ ग्लेहियर हसकुड़् करके मतदान करने को किते िै्. िां! यहद यि सवाल इसहलये खड़्े िो रिे िै् हक रिे िै् और दूसरी तरफ राज्य मे् आपदा की साव्जरहनक स्थानो् पर उन्िे् वक्तव्य देना उत््राखण्ि सरकार ने िी हपछले वष्ज एक सम्भावनाएं बढ् रिी िै्. ज््ात िो हक ऐसे िोता िै तो वे अपने प््हतद््ंदी को खरी-खोटी सव््ेक्ण करवाया था हक उत््राखण्ि मे् तमाम रनाधाहरत मुद्ो् पर ये रारनीहतक सुनाते िुए हदखाई देते िै.् लोग उम्मीदवारो्से

उत्साहीलाल पुफलस का उत्साह! पेज 1 का बाकी दैहनक रागरण के आनलाइन संपादक िेखर ह््तपाठी को हरस तरि से हगरफ्तार हकया गया वि हनंदनीय तो िै िी साथ मे् पुहलस प््िासन की कुंठा का प््तीक भी िै. 13 फरवरी की िाम उन्िे् हगरफ्तार हकया और चौदि फरवरी को तत्काल उन्िे् रमानत हमल गई. उनके वकील ने रब पूछा हक हगरफ्तार हकस हबना पर हकया गया िै तो पुहलस वाले बगले् झांकने लगे. और यि सिी भी था. हनव्ाजचन आयोग ने हरस बात को संज्ान मे् हलया वि कोई छपी िुई खबर निी् बल्कक एक अन्य प््हतद््ंदी आनलाइन पोट्जल वायर का अहभयान था. वायर ने सबसे पिले यि मामला उछाला हक दैहनक रागरण के आनलाइन संस्करण मे् 11 फरवरी की रात एक सव््े छपा िै हरसमे्भारपा को भारी बढ्त हदखाई गई िै. उसके बाद वे सारे लोग एकरुट िोकर िंगामा करने लगे हरन्िो्ने पोस्ट तो निी्पढ्ी थी पर हकसी न हकसी वरि से वे या तो दैहनक रागरण के हवरोधी थे या मोदी के. यूं भी वायर की प््हतष््ा इसी बात की िै हक उसकी वेबसाइट मोदी हवरोहधयो् को एक मंच पर ले आई िै. मगर वायर पोट्जल ने हरस वेबसाइट का हलंक हदया वि रागरण िॉट काम का निी् बल्कक रागरण पोस्ट का िै. रागरण पोस्ट को रागरण समूि का एक पोट्जल तो माना रा सकता िै पर दैहनक रागरण अखबार से उसका कोई नाता निी् िै. तब हफर पुहलस ने हकस िैहसयत से िेखर ह््तपाठी को पकड़्ा. यि भी मरेदार तथ्य िै हक दैहनक रागरण उत््र भारत का सबसे बड़्ा हिंदी अखबार िै मगर रागरण पोस्ट अंग्ेरी की साइट िै और िेखर ह््तपाठी का उससे कोई संबंध निी्िै. िेखर ह््तपाठी काफी सीहनयर पत््कार िै् और एक लंबे अरसे तक वे

दैहनक रागरण लखनऊ के संपादक रि चुके िै्तथा इस वक्त वे दैहनक रागरण के आनलाइन संस्करण रागरण िॉट काम के संपादक िै्. बेितर रिता हक हनव्ाजचन आयोग ने अगर वायर की खबर पर संज्ान हलया िी था तो पुहलस को हकसी को हगरफ्तार करने के पूव्ज यि तो पता करना था हक हरस व्यल्कत को हगरफ्तार हकया रा रिा िै वि असल अहभयुक्त िै भी या निी्. पुहलस को न तो पीआरबी एक्ट के बारे मे्पता रिता िै न संपादक के काय्जक्ेत्का. अगर पीआरबी एक्ट की रानकारी पुहलस को िोती तो यि अवश्य पता िोता हक हकसी भी अखबार समूि मे् कुछ गलत छपने पर आरोप हकस पर आाएगा. दूसरे, वायर द््ारा हदए गए उस हलंक को पता हकया राता हक आहखर छपा क्या था. क्यो्हक अब वि हलंक खुल निी् रिा और वि िायद कुछ क््ण के हलए हदखा िोगा. और वि भी रागरण पोस्ट पर रो अंग्ेरी का पोट्जल िै तो हिंदी के संपादक को पकिऩे का क्या मतलब? राहिर िै ऐसा सब नासमझी और िड़्बड़्ी अथवा स्वयं को राराबेटा हदखाने के हलए उत््र प््देि की पुहलस ने हकया. राज्य के एिीरी (कानून व्यवस्था) दलरीत चौधरी तो काफी अनुभवी और पहरपक्व िै् उन्िे् तत्काल अपने गाहरयाबाद ल्सथत एसएसपी से पूछना चाहिए हक ऐसी त््ुहट कैसे िुई? चुनाव आयोग को चाहिए हक अगर उसे रागरण प््कािन पर कार्जवाई करनी िी िै तो सुनी सुनाई बात पर निी् बल्कक पूरी पड़्ताल करने के बाद िी कोई कदम उठाए. अगर रागरण पोस्ट ने ऐसा कोई सव््े छापा भी िै तो उसका पता चल िी राएगा और यि भी पता चल राएगा हक वि सव््ेहकतनी देर तक रागरण पोस्ट पर हदखा. अगर प््बंधन ने तत्काल कार्जवाई कर उसे िटा

हदया तो यि सिर मानवीय भूल मानकर भुला देना चाहिए और अगर िरारतन हकया गया तो कड़्ी सरा दी राए. पर रो कुछ भी िो पूरी तिकीकात और पुख्ता पड़्ताल के बाद िी. हकसी प््हतद््ंदी साइट के किने पर निी्. प््िासन और पुहलस को हकसी का हमत्् या ित््ु निी् हदखना चाहिए. यूं दैहनक रागरण अखबार की सामान्य छहव भारपा समथ्जक की िै पर ध्यान रखना चाहिए हक दैहनक रागरण के माहलक एक व्यवसायी भी िै् इसहलए वे ऐसी कोई िरकत सरेआम निी् करे्गी हरससे उनके बारार पर आंच आए. एक सामान्य अवधारणा को िकीकत मे् बदलने की नादानी रागरण के माहलक कभी निंी करे्गे. अत रांच िो पर हकसी के किने या हकसी की बात को स्वयं संज्ान मे् लेकर निी् बल्कक पूरी पड़्ताल और ठोस सबूतो् के आधार पर िी. तब िी हकसी भी संस्था की एक हनष्पक््छहव बनती िै.

ववशेष संवाददाता

रानना चाि रिे िै्हक उनके गाँव मे्आपदा का खतरा बना िुआ िै. उनके गाँव के प््ाकृहतक रलस््ोत सूख गए िै्. उनके संवध्जन के हलये वे रीतकर क्या करने वाले िै्. ऐसे अनसुलझे सवाल आर भी खड़्े िै्. कुल हमलाकर उत््राखण्ि राज्य की रो कक्पना थी सो अब मौरूदा रारनीहतक पाह्टियो् ने एक दूसरे को िराने के हलये समाप्त करा दी िै. मौरूदा रारनीहतक पाह्टियो् के पास रल, रंगल, रमीन के संरक््ण व दोिन की कोई स्पष्् नीहत इस दौरान के चुनाव मे्निी्हदखाई दी िै. सभी ने हिक््ा, स्वास्थ्य, सड़्क, पहरविन, हवद््ुत, दूरसंचार, महिला उद््हमता, कौिल हवकास, बांध आहद-आहद हवषयो् को हवकास का मॉिल बताया और इन हवषयो् पर खरा उतरने का वे लोगो् से वायदे कर रिे िै्. लोगो् की प्यास कैसे बुझेगी, बांध के हलये पानी किाँ से आएगा क्यो्हक नहदयां साल-दर-साल सूख रिी िै्. ग्लेहियर लगातार तेरी से हपघल रिे िै्रैसे संवदे निील सवालो्पर हकसी भी रारनीहतक पाह्टियो्ने कोई रोिमैप प््स्ुत निी्हकया िै. (साभार: इंहिया वाटर पोट्जल)

चुनाव में गमंााया बेअदबी का मुदंा मनोज ठाकुर

चंडीगढ़. इसी माि 26 को िोने वाले हदक्ली हसख गुर्द्ारा हसख प््बंधक कमेटी (िीएसरीपीसी) के चुनाव मे्पंराब के मुद्े िावी िो रिे िै्. िाल िी मे्पंराब हवधानसभा का चुनाव िोते िी ज्यादातर हसख नेता हदक्ली मे् िेरा िाले िुए िै्. सत््ाधारी अकाली दल पंथक मद््ो् को उछाल कर अपने वोट बै्क को मरबूत करने की कोहिि कर रिा िै. िीएसरीपीसी चुनाव को लेकर अकाली दल के साथ हिरोमहण गुर्द्ारा प््बंधक कमेटी (एसरीपीसी) भी मैदान आ गई िै. एसरीपीसी की कोहिि िै हक हदक्ली कमेटी पर अकाली दल का नेतृत्व िो. यिी वरि िै हक एसरीपीसी के कई अहधकारी व पदाहधकारी चुनाव पर हविेष नरर रख रिे िै्. पंराब के पंथक मुद्ो् मे् एसरीपीसी को हनरी रारनीहत के र्प मे् उपयोग करने,

मर््ी और अपने फायदे के अनुसार श््ी अकाल तख्त साहिब से िुकमनामे रारी करवाने, हलफाफे से रत्थेदारो् की हनयुल्कतयां हनकालने, पंराब मे् 94 स्थानो् पर िुई श््ी गुर् ग््ंथ साहिब के बेअदबी िाहमल िै्. इसके अलावा, धम्जको रारनीहत के हलए उपयोग करना, पंराब मे् पंथक मय्ाजदाओ्की तोड़्मरोड़्करना, िेरा सच््ा सौदा की ओर से अकाली दल का समथ्जन करना, िेरा सच््ा सौदा के काय्जक्मो् मे् पिुंच कर अकाली दल के नेताओ् की ओर से वोट मांगना, अकाली नेता हसकंदर हसंि मलूका की ओर से अपने िी एक काय्जक्म मे्अरदास को तोड़्मरोड़्कर पेि करवाना, सरबत खालसा के आयोरन मे् सरकारी र्कावटे् खड़्ी करना, सरबत खालसा की ओर से हनयुक्त हकए गए तख्त साहिब के रत्थेदारो् को रानबूझ कर हगरफ्तार करवाना आहद मुद्े भी िाहमल िै्.

मोदी की पहली पसंद मनोज

चला था. इसकी भनक लगते िी श््ी हसन्िा खु लखनऊ. हवधानसभा चुनाव मे् द और उनके हलए लॉहबंग करने वाले भारतीय रनता पाट््ी के एक एक हटकट के स्वयंसेवक हदग्गर पत््कार सह््कय िो गए. हलए बड़े बड़ो् के पसीने छूट गए. ऐसे मे् हकसी तरि से रान बची. इसके बाद रंगीपुर भारत सरकार के रेल राज्यमंत्ी मनोर हसन्िा हवधान सभा उपचुनाव िुआ और भारपा के खाते मे् वाराणसी, ग़ाज़ीपुर, मऊ और दूसरे नम्बर पर गयी. दूसरे नंबर पर इसहलये बहलया की अहधसंख्य सीटो्को लेकर लोग रिी की बसपा उपचुनाव लड़ती िी निी्िै. उपचुनाव के बाद यि चच्ाज थम गयी एक बार हफर कयास लगा रिे िै्हक मनोर हसन्िा उत््र प््देि मे् हकसी भी बड़े पद के थी, लेहकन हवधान सभा चुनाव के एलान से हलए प््धानमंत्ी नरे्द् मोदी और भारपा के पिले भामस और भारपा के समझौते के बद राष््ीय अध्यक््अहमत िाि के प््थम पसन्द इसे लेकर हफर सुगबुगािट िुर्िो गयी. इसे बल हमला िै हटकट हवतरण के बाद. किा रा िै्. याद रिे िै हक हवधानसभा चुनाव के रिा िैमे्भी उनकी सव्ाजहधक सुनी गई. किा एलान से काफी पिले प््देि भारपा अध्यक्् तो यिां तक रा रिा िै हक उन्िो्ने हरसे चािा, के हलए रेल राज्यमंत्ी मनोर हसन्िा का नाम हटकट हदलवा हदया. वाराणसी के हपंिरा से

अवधेि हसंि को हमले हटकट को इसके प््माण के तौर पर पेि हकया रा रिा िै. मऊ हवधानसभा क््ेत् मे् घोषणा के बाद भी चल रिी पंचायत, फेरबदल उन्िी् की कूटनीहत बतायी रा रिी िै. यिी निी्, ग़ाज़ीपुर के मोिम्मदाबाद से समारवादी पाट््ी और कांग्ेस गठबंधन का उम्मीदवार भी श््ी हसंि ने अपनी रणनीहत के अनुर्प तय करा हलया. इसने भी साहबत हकया िै हक हसयासत के अंदर्नी गहलयारो् मे् उनकी िैहसयत बढी िै. इसहलए हसयासी गहलयारो् मे् लोग एक बार हफर बोलने लगे िै् हक उत््र प््देि के बड़े पद के हलए भी मनोर हसन्िा मोदी और िाि के प्थ ् म पसन्द िै.


www.shukrawaar.com n

5

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

भजन संधंया के नाम पर उगाही का खेल

वगरधारीलाल जोशी

भागलपुर. रब कान्िा के भरनो् को सुनने आयी भीड़ को पता चला हक 500 र्पये का हटकट लगेगा तो भीड़ आयोरको्को कोस अपने-अपने घर लौट गयी. भीड़ मे्ज्यादातर बुरगु ज्थे. आयोरन स्थल पर तैनात बंदक ू धारी गाि््ो्ने बदसलूकी भी की. दरअसल, चैहरटी काय्क ज म् के नाम पर लोगो्से उगािी का यि खेल अब खूब फलफूल रिा िै. दरअसल हबिार प््ातं ीय मारवाड़ी सम्मल े न के बैनर तले भागलपुर मे्11 और 12 फरवरी को भरन संधय् ा का आयोरन हकया गया था. इसमे्कान्िा के भरन गायक हवनोद अग्व् ाल मुबं ई से बुलावे पर आये. काय्क ज म् के हलए प्च ् ार हकया गया. सोिल मीहिया और मैसर े के रहरए लोगो् को िरीक िोने और भरन का लुतफ़ ् उठाने बुलावा भेरा. मगर यि निी् बताया गया हक लुफत् मुफत् मे् निी् िै. आयोरको् मे् से एक भागलपुर के हवनोद अग्व् ाल ने इतवार को बताया हक 500 र्पये सम्मल े न मे्सियोग राहि ली गयी िै. मसलन हटकट बेचकर मोटी रकम उगािने का खेल पद््ेके पीछे हकया गया. भरन संधय् ा के नाम पर र्पए कमाने को कोई निी् सराि रिा. यि मारवाड़ी सम्मल े न के बैनर का बेरा इस्म्े ाल बता रिे िै.् राने-माने साहित्यकार हिवकुमार हिव बताते िै्हक यि आयोरन समार के चंदे से िोना चाहिए था न हक हटकट हबक््ी कर. प्व् ि े मे्हटकट वि भी

भरन रैसे धाह्मक ज आयोरन मे् पिली दफा देखा. श्व् ण कुमार िम्ा,ज िहर प्स ् ाद िम्ाज कुकि् ड़ मे्गुड़ फोड़ने रैसा बताते िै.् वरि यि िै हक भागलपुर के तमाम मारवाड़ी समार को इस बात की सच मे्रानकारी तक निी्. सच बात यि िै हक हबिार मे्भागलपुर को हमनी रारस्थान किा राता िै. वाकई यिां काफी तायदाद मे्रारस्थानी समार के लोग वाहिंदे िै. रो अब हबिार की आबोिवा मे् घुलहमल गए िै.् हकसी की चार पीढी तो हकसी की पांच पीढी पिले हबिार आई थी. तब से ये रि रिे िै.् मोटामोटी व्यापार पर भी इनका कब्रा िै. इनमे्बहनया, ब््ाह्मण, नाई, धोबी, हछप्पी, महनयार सभी राहत धम्ज के लोग िै. रंगरेर और महनयार मुलस् लम समुदाय के भले िो मगर भाषा इनकी आर भी रारस्थानी िै. यि मारवाड़ी समार की खाहसयत िै इनकी

भाषा और पिनावे मे्वैसा बदलाव निी्आया. िालांहक, मारवाड़ी सम्मल े न संसथ ् ा पर मुठ्ीभर लोगो्का कब्रा िै. तकरीबन पांच सौ सदस्य िै् रबहक भगलपुर और आसपास िरारो् िरार की आबादी िै. एक सह््कय सदस्य श्व् ण िम्ाज बताते िै् हक ये लोग सदस्यता मे् इराफा पसंद निी् करते. तभी दूसरे हकसी को संसथ् ा से निी्रोड़ते. 25 से 30 लोग काय्क ज ाहरणी मे्िै. इन्िी्का दबदबा िै. बाकी मूकदि्क ज . बीते साल भागलपुर मे् इनका सम्मल े न िुआ. इस नाम पर लाखो्का चंदा िुआ. श्याम मंहदर ट्स् ट् ने अहतहथयो् के रिने और दूसरी सुहवधा मुफत् कर दी. धन का क्या िुआ? अहतहथ भी उम्मीद से कम आए और स्थानीय लोगो्को तो खैर चुन-चुनकर िी न्योता हदया गया था. मसलन आयोरन से लोग हनराि िी

सुशासन में सेंध, पेपर लीक, जांच तेज

संजय कुमार

इसी कसते हिकंरे ने पेपर लीक घोटाने पटना. हबिार एक बार हफर चच्े् मे् िै. की पोल खोल दी. परत दर परत खुलासे से इंटरमीहिएट टॉपस्जघोटाला के बाद एक बार कई सफेदपोिो्और अफसरो्के िाहमल िोने हबिार कम्च ज ारी चयन आयोग परीक््ा के पेपर की बात सामने आने लगी िै. हविेष रांच दल लीक मामले मे् यि चच््े मे् िै.् हवपक्् का ने अब तक कार्वज ाई करते िुए चौबीस लोगो् आरोप िै हक इसने सुिासन के दावे की पोल को हिरासत मे्हलया िै. लगातार इस मामले खोल दी िै. नीतीि सरकार सवालो्के घेरे मे् से रुड़े तमाम कहड़यो् को रोड़ने को लेकर िै रबहक सत््ार्ढ दल के नेताओ्ने हवपक््के पुहलस की छापेमारी रारी िै. पटना के हवहभन्न आरोपो् को खाहरर हकया िै और किा हक इलाको् सहित नवादा और कोलकाता मे् हरस त्वहरत गहत से कार्वज ाई िुई उससे साफ छापेमारी की रा रिी िै. हगरफ्तार लोगो्के पास से पुहलस ने भारी िै हक हबिार मे्न्याय के साथ सुिासन कायम सं ख य ् ा मे्एिहमट काि्,ज मुिर, एटीएम काि्,ज िै. ् खाता बरामद हकया िै. एसएसपी मनु हबिार कम्च ज ारी चयन आयोग की, चार बैक चरणो् मे् िोने वाली परीक््ा के दो चरण 29 रनवरी और पांच फरवरी के प्श् न् पत््तथा उत्र् पुह्सका के लीक िो राने के बाद मामले का सोिल मीहिया पर आने और छात््ो् के िंगामे के बीच रो तस्वीर सामने आयी वि काफी चौ्काने वाली िै. आयोग के काय्ाल ज य का घेराव कर छि फरवरी को छात््ो्ने परीक््ा रद्् करने की मांग की. रब सहचव परमेशर् राम मिारार ने किा हक मामले को सुलझाने के छात््ो्से हमलने आये तब छात््ो्ने उनकी हपटाई हलए और रैकटे के सदस्यो्की हगरफ्तारी के हलए पुहलस लगातार छापेमारी कर रिी िै और कर दी. मुखय् मंत्ी नीतीि कुमार ने मामले की रोर नये खुलासे िो रिे िै.् िालांहक हविेष गंभीरता को देखते िुए तुरं त कार्वज ाई करते िुए रांच दल ने अपनी प््ारंहभक रांच पूरी कर हविेष रांच दल का गठन कर हदया. पटना के हरपोट्जगृि सहचव को सौ्प दी िै. साथ िी आगे वरीष्ठ पुहलस अधीक्क ् मनु मिारार के नेततृ व् की कार्वज ाई रारी िै. हबिार कम्च ज ारी चयन आयोग के सहचव मे् रांच दल ने त्वहरत कार्वज ाई करते िुए आयोग के सहचव परमेशर् राम पर अपना परमेशर् राम की संहलप्तता को देखते िुए सरकार ने उन्िे् हनलंहबत कर हदया िै. इस हिकंरा कसा.

बीच, आयोग के अध्यक््सुधीर कुमार से भी रांच दल ने गिन पूछताछ की िै. सुधीर कुमार ने मीहिया के समक्् स्वीकारा भी िै हक नौकहरयो् के हलए पैरवी के प्य् ास से इंकार निी्हकया रा सकता. राहिर िै हक इतनी बड़ी गड़बड़ी के मौके को हवपक््अपने िाथ से राने निी् देना चािता. भारपा नेताओ् ने इस पूरी गड़बड़ी के हलए सरकार को हरम्मदे ार ठिराया िै. केनद् ्ीय मंत्ी और भारपा नेता हगहररार हसंि ने िो रिी रांच पर सवाल उठाते िुए किा हक घोटाला मे्हलप्त लोगो्को बचाने को लेकर यि एक हदखावा िै. विी्, मुखय् मंत्ी नीतीि कुमार ने एक बार हफर दोिाराया िै हक इस मामले से रुड़े हकसी भी घपलेबार और भ्ष ् ्ाचाहरयो् को बख्िा निी्रायेगा. दोहषयो्के साथ सख्त से सख्त कार्वज ाई की रायेगी. िालांहक, हबिार कम्च ज ारी चयन आयोग के हनलंबहत सहचव परमेशर् राम की संहलप्तता उरागर िोने के बाद उन्िो्ने रांच दल को किा हक वे तो हसफ्कछोटी मछली िै इसमे्कई बड़े िाहमल िै.् अब देखने वाली बात िोगी हक रांच का िोता क्या िै क्यो्हक कई मामले सामने आये िै् रांच गहठत िुई और उसमे् हलप्त छोटे लोग फंस,े लेहकन बड़े लोग, अफसर व नेता आराम से हनकल गये. खैर, मामला की रांच तेरी िोती नरर आ रिी िै. अब देखने वाली बात यि िोगी हक हबिार कम्च ज ारी चयन आयोग घोटाला रांच कोई ठोस पहरणाम दे पता िै या कुछ हदनो्के बाद मामला ठंिे बस्ते मे्चला राता िै.

िुए और अबकी भी भरन गायक हवनोद अग्व् ाल का मन उदास िी था. स्टि े न पर आयोरको्को साफ़ किा हक इतने से लोगो् को मै् भरन सुनाने थोड़ी आया था. विां मौरूद लोग बताते िै,् दरअसल भरन संधय् ा हटकट पर िोने की वरि और समार को न रोड़ पाने के कारण वैसी भीड़ न िोने से वे मायूस थे. लेहकन इस भरन संधय् ा के आयोरन ने लोगो्को मुखर कर हदया िै. लोग खुलकर हवरोध कर रिे िै.् हवरोध इनकी धोखाधड़ी वाली हनयत को लेकर िै. काय्क ज म् का उद्घ् ाटन मिापौर दीपक भुवाहनयां ने हकया. मंच पर आपस मे्िी एक दूसरे को माला पिना दी. स्थानीय अख़बारो्मे् कान्िा के भरनो् की गंगा बिी िीष्क ज से इतवार को खबर छपी. दरअसल अख़बारनवीसो्को भी हटकट पर िुए आयोरन से अंरान रखा गया. सभी ने धाह्मक ज आयोरन समझ सियोग हकया. धोखा एक रगि निी् कई रगि िुआ. सेकस ् टैकस ् की चोरी कर सरकार को चूना लगाया. िायद वाहणज्य कर मिकमा रगे और हिसाब ले. लोग चािते िै ऐसे धाह्मक ज आयोरन के रैकटे पर सरकार और प्ि ् ासन लगाम लगाये. रय माता दी कैटरर के लालू िम्ाज बताते िै् हक ऐसे आयोरन हटकट पर करने की बात रानकर िी िमने काम करने से इंकार हकया. समार मे् फरेब वि भी धाह्मक ज आयोरन के हलए ठीक निी्लगती.

तराई में फिर से लौटी सरंंी

संजीव श््ीवास््व

बहराइच. तराई इलाको् मे् ठंि हफर लौट आई िै. बीते मंगलवार से लगातार धुधं छाई िुई िै. दोपिर मे् कुछ देर के हलए धूप हनकल आती िै मगर िाम ढलते िी हफर कोिरा घेर लेता िै. कोिरे की वरि से वािनो् की रफ्तार काफी धीमी िो गई िै. गलन भरी ठंि से आम रनरीवन अस्-् व्यस्् िो गया. न्यनू तम तापमान सात हिग््ी दर्जहकया गया िै. मौसम हवभाग का किना िै हक अभी ठण्ि से राित हमलने के आसार निी्िै.् विी्हनमोहनया व िायहरया से अब तक दर्नज ो्नवरातो्की मौत िो चुकी िै. पड़ोसी देि नेपाल, उत्र् ाखण्ि व हिमांचल के पिाड़ो्पर लगातार बफ्बक ारी िो रिी िै. इससे तराई इलाके मे्ठंि कम िोने का नाम निी्ले रिी िै. तेर धूप हनकलने की वरि से दो हदन राित रिी, लेहकन मंगलवार से हफर धुधं की वरि से गलन बढ गई, रो अब तक रारी िै. सुबि से िी धुधं व कोिरा छाया रिा. लगभग तीन बरे बादलो्के बीच से सूयज्के ताकझांक की, हकन्तु धूप मे्तक्खी हबक्कल ु निी्थी हरससे धूप बेअसर रिी. फसल अनुसध ं ान केनद् ् के प्भ् ारी िॉ. एमवी हसंि ने बताया हक आईएमिी से हमले पूवा्नज मु ान के अनुसार अभी पांच फरवरी तक ठण्ि से राित हमलने के आसार निी् िै.् अहधकतम तापमान 19 से 21 व न्यनू तम 7 से 9 हिग््ी सेलक् सयस के संकते हमले िै.्

ववदेशी मेहमान: टमाटरों से संवागत अवनल अंशम ु न

बुलाकर हवकास–मिायज््हकया रा रिा िै. रांची. िमारे देि मे् फूल हबछाकर ग्लोबल इन्वेस्टर सल्ममट (मोवमे्टम मेिमानो्के आने पर स्वागत करने का हरवार झारखंि) नाम से आयोहरत इस मेगािै. झारखण्ि मे्भारपा की सरकार इसी 16 िाईटेक तड़क–भड़क वाले राष््-कम्ज को ् ानमंत्ी वीहियो भाषण से नवारेग् .े व 17 फ़रवरी को राज्य की रारधानी मे्देि– स्वयं प्ध हवदेि के कॉप््ोरेट कंपनी मेिमानो् को बुला कई-कई केनद् ्ीय मंत्ीगण भी पधारेग् .े ह््ककेट रिी िै तो यिां के हकसान रास््ो्मे्फूल की हखलाड़्ी धौनी इसके ब््ांि बने िुए िै्. बराय ट्क ् के ट्क ् टमाटर हगराकर हबछा रिे मुखय् मंत्ी की सीधी हनगरानी मे्पूरी की पूरी िै.् फक्कयिी िै हक यि सब हकसी स्वागत के मिीनरी िरारो्पुहलस फ़ोस्जके साथ हदन– रात िटी िुई िै. इस मिायज््मे्कोई हवघ्न न बराय हवरोध मे्िो रिा िै. रांची से सटे पांच परगना क्त्े ्के बुनि् ू मे् िो इसके हलए पूरी रारधानी मे् धारा 144 ऐसा िी िुआ रब विां के हकसानो् ने अपने लगाकर ऐलान कर हदया गया िै हक हवरोध टमाटर की फसल को राष््ीय रारमाग्ज पर करने वालो् को सीसीए लगाकर हरला व लाकर हबखेर हदया. िाड़तोड़ मेिनत से उगाई राज्य बदर तक हकया रा सकता िै. िमेिा की ु हवपक््ी दल झामुमो और कांगस ्े अपनी फसल को घर से ढो–ढोकर लाकर तरि प्म् ख हवरोध का हदखावा रस् म हनभा रिे िै . ् सड़क पर फेक ् ने को मरबूर हकसान सरकार राज्य के हकसान और आहदवासी घबराये की उपेक्ा और हकसान हवरोधी नीहतयो् से िु ए िै ्हक बरसो्से हरस खेती–हकसानी और काफी क्ब्ु ध् िै.् वे सरकार से पूछ रिे िै् हक यि कैसी हवकास नीहत िै हरसमे् राज्य के रंगल से उनका हकसी तरि गुरर-बसर िो हकसानो्की तो कोई हचंता निी्िै और हवकास रिा था आगे क्या िोगा. वे निी्भूले िै्हक मात्् दो माि पूवज् िी तो रबरन ज़मीन अहधग्ि् ण के नाम पर झूठा नाटक हकया रा रिा िै. वैसे हकसानो्की नारारगी गलत निी्िै का हवरोध करने पर इसी सरकार ने तीन-तीन क्यो्हक वास्व् मे्प्द् ि े की सत््ा मे्काहबज़ गोलीकाण्ि करवा कर सात हनद््ोषो्की रान भारपा िासन और उसके मुखय् मंत्ी रघुवर ले ली. इस बार सरकार रो सैकड़ो्कंपनी से दासरी के पैर इन हदनो्ज़मीन पर निी्िै्और एमओयू करेगी उसके हलए ज़मीने् किां से वे काफी ज़क्दी मे्िै.् प्ध् ानमंत्ी नरेद् ्मोदी के आएंगी और अभी रब उनकी िाड़तोड़ मेिनत आदेिानुसार उन्िे् िर िाल मे् हिहज़टल से उगाई फसल की सुरक््ा और वाहरब कीमत इंहिया वाला तेर हवकास चाहिए रो हसफ्क की व्यवस्था सरकार निी्कर रिी. अभी तो ् नी पड़ रिी िै. कल कॉप््ोरेट कंपहनयां िी संभव बना सकती् िै्. सब्री िी सड़को्पर फेक रब ये ज़मीन भी चली रायेगी तो हवस्थाहपत इसहलए इसी सोलि व सत््ि फरवरी को िोकर वे क् य ा करे ग ् , े किां रायेग् े और उनके देि–हवदेि की सैकड़ो्हनरी कंपहनयो्राज्य बाल–बच् ो ् ् के भहवष् य का क्या िोगा? के खच््े पर चाट््ेि हवमानो् से रारधानी मे्


6

www.shukrawaar.com n

दृलंिहीन लंंिकेट मेंभारत बना लवशंंचैंलपयन

फ्जल इमाम मल्ललक

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

किी्हकसी तरि का िोर िुआ और न िी देिभल्कत पर सवाल उठे. कौन रीता कौन िारा, बिुतो् को पता तक निी् चला. न चैनलो् पर बिुत ज्यादा िोर मचा और न िी ढेरो्हविेषज््बुला कर एक अलग तरि का रनून पैदा करने की कोहिि की गई. अखबारो् ने भी इस पर बिुत कम िी हलखा गया िालांहक यि हवश््कप ह््ककेट के मुकाबले थे और भारत मे् खेले गए. इन मुकाबलो्मे्पाहकस््ान की टीम ने भी हिस्सा हलया लेहकन किी्हकसी देिभक्त ने इन मैचो् के आयोरन मे्हकसी तरि की गड़्बड़्ी की. बिुत आराम से सब कुछ हनपट गया और भारत ने पाहकस््ान को िी िरा कर हवश््कप टी-20 ह््ककेट की बादिाित को कायम रखा. यि ह््ककेट हवश््कप दृह्षिीनो्का था और भारतीय दृह्षिीन ह््ककेट टीम ने फाइनल मे् पाहकस््ान को नौ हवकेट से िरा कर लगातार दूसरी बार हवश्् चै्हपयन बनने का गौरव िाहसल हकया. िालांहक भारतीय टीम हदक्ली मे् खेले गए लीग चरण के मुकाबले मे् पाहकस््ान से िार गई थी लेहकन फाइनल मे् भारतीय हखलाह्ड़यो्ने िानदार प्द् ि्नज हकया और पाहकस््ान पर िानदार रीत दर्ज कर हवश््दृषि् ीन ह््ककेट मे्अपना दबदबा बनाए रखा. भारत और पाहकस््ान के अलावा इंगल ् िै् , श््ीलंका, दह््कण अफ््ीका सहित दस देिो्की टीमो्ने हिस्सा हलया था. लेहकन इस हवश््कप की चच्ाज न के बराबर िुई. अखबारो् मे् तो किी्-किी् इसकी खबर छप भी राती थी लेहकन चैनलो्ने इस पर तवज््ो निी्िी दी. फाइनल रीत कर चैह्पयन बनने की खबर हदखाने मे् भी बिुत कम चैनलो् ने िी हदलचस्पी हदखाई. वरि साफ थी हक दृह्षिीन हवश््ट-20 कप ह््ककेट का बारार निी् था और हरसका बारार निी् िो वि चैनलो् पर खबरो् का हिस्सा निी् िो सकता था. बाबा रामदेव ने अगर इसे प््ायोहरत हकया िोता तो हफर बात अलग िोती. इसकी चच्ाज

से िारा था. रबहक पाहकस््ान ने अपने सभी नौ मैच रीते थे. इससे पिले भारत ने सेमीफाइनल मे् श््ीलंका को दस हवकेट से िराया था. पाहकस््ान ने सेमीफाइनल मे् इंगल ् िै् को 147 रनो्से मात दी थी. फाइनल मे् पाहकस््ानी टीम निी् चल पाई. पिले बक्लबे ारी करते िुए उसने नौ हवकेट पर 197 रन बनाए. बदर मुनीर ने 37 गेद् ो्पर 57 रन की पारी खेली. अपनी इस पारी मे्उन्िो्ने 14 चौके और एक छक््ा लगाया. उन्िे्मुिम्मद रमील का बेितर साथ हमला था. उन्िो्ने 15 बॉल मे् 24 रन बनाए. दोनो् ने 58 रनो् की साझेदारी की. भारत की तरफ से केतन पटेल और रफर इकबाल ने 2-2 हवकेट चटकाए. भारत की िुरआ ् त बेितर रिी. भारतीय दृष्िहीन ष््िकेट टीम ने फाइनल मे् पाषकस््ान को नौ भारत के पांच ओवर के बाद स्कोर हबना षिकेट से हरा कर लगातार दूसरी बार षिश्् चै्षपयन बनने का हकसी नुकसान के 54 रन था. दस ओवर के बाद भारत ने हबना कोई हवकेट गंवाए 109 रन गौरि हाषसल षकया. बना हलए थे. भारत ने लक्य् को एक हवकेट खो कर िाहसल कर हलया. पांच साल पिले भी िोती और खबर भी बनती. लेहकन हबना पाहकस््ानी ह््ककेट टीम को भारत मे् खेलने भी भारत की दृह्षबाहधत ह््ककेट टीम ने िोर-िराबे के हवश्् कप ह््ककेट का यि पर पाबंदी लगाने की बात किी गई और न िी बेग् लुर्मे्िी इस हखताब पर कब्रा रमाया संस्करण हनपट गया. किी् हकसी ने हकसी इस पर हसयासत िुई. यि अच्छी बात िै. दूसरे था. पाहकस््ान के हदए गए 198 रनो् के तरि का हवरोध निी् हकया. पाहकस््ान की खेलो्मे्भी इसी तरि की नरीर हमले तो बात हविाल लक्य् को भारत ने 14 गेद् िेष रिते ह््ककेट टीम आई. दस मैच खेली और हबना बने. लेहकन पारंपहरक ह््ककेट िी निी् दूसरे मात््एक हवकेट गवांकर िाहसल कर हलया. हकसी उलझन और परेिानी के मैच खेल कर खेलो् व अंपायरो् तक के भारत मे् आने पर भारत की ओर से प्क ् ाि रयरमैया ने नाबाद वतन लौट गई. हदलचस्प बात यि िै हक िो-िक्ला मचना आम सी बात िो गई. 99 रनो्की पारी खेली. फाइनल भारत और पाहकस््ान के बीच खेला इहसलए हबना हकसी र्कावत के दृष्िीन िृद्िहीन द््िकेट के दनयम गया. लेहकन इस फाइनल की चच्ाज भी मैच के ह््ककेट का हवश््कप भारत मे्हनपट गया. यि िालांहक बिुतो् के हलए इस बात मे् बाद िी िुई. देि के बिुत कम िी लोगो् को बात सकून देने वाली िै. हदलचस्पी िोगी हक आहखर आंखो्से ना देख भारत ने दृह्षिीनो्के टी20 हवश््कप मे् पाने के बावरूद ये हखलाड़्ी कैसे ह््ककेट पता था हक भारत और पाहकस््ान ह््ककेट के फाइनल मे् आमने-सामने िै्. पारंपहरक अपना हखताब बरकरार रखा. उसने फाइनल खेलते िै्. क्या दृह्षबाहधत हखलाह्ड़यो् के ह््ककेट मे् अगर यि बात िोती तो पता निी् मे् हचर प्ह्तद्द्ं ी पाहकस््ान को नौ हवकेट से हलए भी ह््ककेट के हनयम वैसे िी िोते िै्रैसे हकतने हदनो्तक राग देिभल्कत सुन-सुन कर मात दी. मैच बे्गलुर् के हचन्नास्वामी सामान्य हखलाह्ड़यो्के हलए िोते िै,् तो रवाि कान पक गए िोते और इस मैच को हकसी रंग स्टहे ियम मे्खेला गया था. हदलचस्प बात िै िै हक निी्.दृह्षिीन ह््ककेट मे् बिुत कुछ की तरि िी चैनलो्पर हदखाया राता. लेहकन हक हपछले हवश्् कप मे् भी भारत ने अलग िोता िै. पारंपहरक ह््ककेट से बिुत यिां ऐसी बात निी् िुई. आमतौर पर पाहकस््ान को िी मात देकर हखताब रीता था. अलग. दृषि् ीन ह््ककेट मे् हपच की लंबाई, पाहकस््ान के साथ ह््ककेट हरश्तो्की बिाली दोनो् िी टीमो् ने इस टून्ाजमे्ट मे् िानदार स्टपं और बैट की लंबाई वगैरि तो विी िोती को लेकर रो सवाल उठाए राते रिे िै्वि भी प््दि्जन हकया. भारत ने नौ मैचो् मे् आठ मे् िै रो पारंपहरक ह््ककेट का हिस्सा िै. लेहकन निी्उठे गए. न देिभल्कत का राग अलाप कर रीत िाहसल की थी. एक मैच वि पाहकस््ान हपच के सेट् र से बाउंड्ी लाइन की दूरी 45 से

खेल डायरी

ताइक्वडं ो अदिकारी दिरफ्तार

भारतीय ताइक्वांिो मिासंघ (टीएफआई) के संयकु त् सहचव संरय िम्ाज को पुहलस ने हगरफ्तार कर हलया िै. उन पर नाबाहलग हखलाहड़यो्के कहथत यौन उत्पीड़न का आरोप िै. बोकारो पुहलस ने ताइक्वांिो हखलाड़ी के नई हदक्ली के कमला माक्ट्े पुहलस थाने मे् दायर की गई हिकायत के आधार पर िम्ाज को धनबाद के कल बैक ् मोड़ पुहलस थाना क्त्े ्मे्ल्सथत उसके आवास से हगरफ्तार हकया. बोकारो सेकट् र चार पुहलस थाना प्भ् ारी के हमश््ा ने किा हक िम्ाज को यौन अपराध से बच््ो् का संरक्ण ् (पोस्को) अहधहनयम के तित हगरफ्तार हकया गया और उसे बोकारो रेल भेर हदया गया िै. िम्ाज झारखंि राज्य ताइक्वांिो संघ (रेएसटीए) का सहचव भी िै.् उसका बड़ा भाई प्भ् ात िम्ाज टीएफआई का राष््ीय मिासहचव िै. पीहड़ता बोकारो हरले के बम्ाज उप संभाग की रिने वाली िै. उसने आठ फरवरी को प््ाथहमकी दर्जकराई थी।. उसने आरोप लगाया था हक संरय 2008 से उसका यौन उत्पीड़न कर रिा िै और उसने इसकी रानकारी देने पर उसकी अश्लील तस्वीरे् इंटरनेट पर अपलोि करने की धमकी दी थी. उसकी हिकायत के अनुसार तत्कालीन ताइक्वांिो कोच कमलेि ठाकुर ने

एक चैह्पयनहिप के दौरान उसके साथ बलात्कार हकया. रब उसने संरय िम्ाज से इसकी हिकायत की तो उसने उसे रांची के िरमू ल्सथत अपने क्वाट्रज मे् बुलाया और कहथत तौर पर उसके साथ बलात्कार हकया. लड़की ने दावा हकया हक इसके बाद भी वि उसका िोषण करता रिा और अश्लील तस्वीरे्अपलोि करने की धमकी देता रिा. हदक्ली पुहलस ने 10 फरवरी को बोकारो पुलस को प््ाथहमकी भेरी थी हरसके बाद िम्ाज को 11 फरवरी को धनबाद से हगरफ्तार हकया गया.

अंडर-17 दवश्् कप का शुभक ं र जारी

फीफा अंिर-17 हवश््कप भारत मे्इस साल िोना िै. रवािर लाल नेिर्स्टहे ियम मे्िुकव् ार को फीफा

50 गर की िी िोती िै. दृह्षिीन ह््ककेट मे् हरस गेद् का प्य् ोग िोता िै वो प्लाल्सटक से बनी िोती िै और उसके अंदर बॉल हबयहरंग लगे िोते िै्, हरनसे आवार हनकलती िै. आवार सुनकर बक्लेबार यि अनुमान लगाता िै हक बॉल किां हगरी और हकस तरफ घूम रिी िै. दृह्षिीन ह््ककेट टीम मे् भी सामान्य ह््ककेट टीम की तरि 11 हखलाड़्ी खेलते िै.् लेहकन, दृह्षिीन ह््ककेट मे् हखलाहियो् को तीन वग्जमे्बांटा गया िोता िै. बी-1 कैटगे री मे्अहधकतम चार ऐसे हखलाड़्ी िोते िै्रो पूरी तरि से देख पाने मे् अक््म िोते िै्. बी-2 कैटगे री मे्तीन हखलाड़्ी िोते िै्रो आंहिक र्प से दृह्षिीन िोते िै.् विी्बी-3 कैटगे री मे् ऐसे 4 हखलाड़्ी िाहमल िोते िै्हरनकी देखने की क््मता आंहिक र्प से दृह्षिीन हखलाह्ड़यो्से और बेितर िोती िै और वे कुछ दूरी पर ल्सथत चीरो्को देखने मे्सक्म् िोते िै.् दृह्षिीन ह््ककेट मे्गेद् बारी अंिरआम्जकी राती िै. याक्रक और फुलटास गेद् िालने की सख्त मनािी िोती िै. हवकेट पर एक लाइन बनी िोती िै और गेद् बार उस लाइन के आगे गेद् को टप्पा निी् हखला सकता. अगर ऐसा िोता िै तो गेद् को नो बॉल करार हदया राता िै. पारी का चालीस फीसद ओवर बी1 कैटेगरी के हखलाह्ड़यो् यानी पूण्ज र्प से दृह्षिीन हखलाह्ड़यो् द््ारा फे्का राना अहनवाय्ज िोता िै. पूण्ज र्प से दृह्षिीन हखलाह्ड़यो्के बनाए गए रन को दोगुना कर हदया राता िै. यानी अगर कोई हखलाड़्ी एक रन बनाता िै तो उसे दो रन हलखा राता िै. दृह्षिीन ह््ककेट मे् भी सामान्य ह््ककेट की तरि िी स्कोहरंग हनयम लागू िोते िै.् नो बॉल िोने पर बक्लेबार को फ््ी हिट हदया राता िै. फील्किंग मे् अगर पूण्ज र्प से दृह्षिीन हखलाड़्ी एक टप्पे के बाद गेद् को पकड़्लेता िै तो इसे कैच माना राता िै और बक्लबे ार को आउट करार हदया राता िै.

अंिर-17 फुटबाल हवश््कप का आहधकाहरक िुभक ं र ‘खेहलयो’ को रारी हकया गया. िुभक ं र खेल मंत्ी हवरय गोयल और एआईएफएफ अध्यक््प्फ ् कु ल ् पटेल ने रारी हकया. फीफा अंिर-17 हवश््कप के िुभक ं र का नाम ‘खेहलयो’ िै. यि एक हचह््तदार तेद् आ ु िै. हचह््तदार तेद् आ ु लुपत् प््ाय रानवर िै रो मुखय् र्प से हिमालय की तलिटी और दह््कण पूवज्एहिया मे्पाया राता िै. इस मौके पर खेल मंत्ी गोयल ने किा हक मुझे पूरा हवश््ास िै हक यि भारत मे्अब तक की हकसी खेल प्ह्तयोहगता का सबसे यादगार िुभक ं र िोगा. खेहलयो युवा, रीवन और उत्साि से भरा और िमारे देि का सिी मे्प्ह्तहनहधत्व करता िै. वि बच््ो् को फुटबाल से रोड़ने मे् मदद करेगा. पटेल ने किाखेहलयो को हवश््के सामने आहधकाहरक िुभक ं र के र्प मे्पेि करना प्ह्तयोहगता के हलये िमारा एक और बड़ा कदम िै.

िै. नोहटस मे् किा गया िै- हवत्् कानून, 1994 के प््ावधानो्और विां बनाए गए हनयमो्के संबधं मे्सेवाकर के गैरभुगतान को लेकर आपके हखलाफ रांच के संबधं मे्पूछताछ की रानी िै.

सादनया दिज्ाष को सिन

सुरदे् ् खन्ना इलेवन (हदक्ली) की टीम ने पिला आकाि हबिार हवकास आल इंिया प््ाइर मनी टूना्मज टे् रीत हलया िै. पटना के िास््ी नगर स्टहे ियम मे् खेले गए फाइनल मे्हदक्ली की टीम ने मुबं ई की पुहलस रीमखाना को पांच हवकेट से िरा कर हखताब पर कब्रा रमाया.

सेवाकर का कहथत तौर पर भुगतान निी् करने के हलए टेहनस हखलाड़ी साहनया हमर्ाज को सेवाकर हवभाग ने नोहटस भेरा िै. प्ध् ान आयुकत् , सेवाकर काय्ाल ज य ने छि फरवरी को समन समन रारी हकया और उन्िे्या उनके द््ारा अहधकृत व्यल्कत को को उपल्सथत िोने को किा गया

दिल्ली टीि ने जीता दिताब


www.shukrawaar.com n

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

पयंाावरण

कंिंीट के जंगलोंसे लिरता भीमताल

यादो् की धरोिर िै. कुल हमलाकर इस आश््म ने इस क््ेत् मे् आध्यात्म की रो अलख रगाई िै, वि अपने आप मे् एक अद््त हमिाल िै.भीमताल का पौराहणक मित््व हरतना हवराट िै, उतना िी रोमांचक भी. स्कंद पुराण के मानस खण्ि के 45वे् अध्याय मे्भीमताल का हवस््ृत वण्जन आता िै. मिह्षज व्यास ने सप्तऋहषयो् को इस क््ेत् की महिमा बताते िुए किा हक इस क््ेत् मे् मिाबली भीमसेन ने भगवान िंकर की कठोर तपस्या की. पुराणो् के अनुसार एक बार भीमसेन अकेले िी हिमालय की यात््ा पर हनकले, माग्ज मे् उन्िो्ने हचत््हिला के दि्नज कर हचत्श ्े र् मिादेव का पूरन व विाँ ल्सथत वट की प््दह््कणा कर वे पव्जत पर आर्ढ्िुए. हचत््हिला के दि्जन के प््भाव से आकािवाणी ने भीम का माग्दज ि्नज करते िुए उन्िे् भगवान िंकर की आराधना करने को किा तथा आदेि हदया हक आराधना के उपरांत अन्रहलदान कर हिव कृपा से अपनी कीह्तज को युग पय््ंत स्थायी करो. आकािवाणी से हमले माग्जदि्जन को भगवान हिव की मिान कृपा मानते िुए भीम ने अपनी गदा भूहम पर रख दी तथा हिवरी ताल के बीच एक भव्य टापू िै, रिां नाव स्थानीय भक्तरनो्का किना िै हक रो की कठोर आराधना कर उन्िे्प््सन्न हकया. राजेन्द् पंत ‘रमाकांत’ भी श््द्ापूव्जक इस दरबार मे्अपने आराधना गदा से पव्जत का भेदन कर गंगा का आह््ान भीमताल/भवाली. उत््राखंि के द््ारा पिुंचा राता िै. भगवान राम के पू व ् ज र रारा ऋ तु प ण् ज व के श््द्ापुष्प अह्पजत करता िै, उसकी समस्् कर गंगारल से भरी अंरहलयां भगवान सामाहरक, सांसक ् हृ तक, धाह्मक ज एवं आह्थक ज उनके हमत् ् रारा नल ने यिां की पिाह् ड़ यो् मनोकामनाये ् पूण्ज िोती िै्. इस दरबार मे् िंकर को प््दान की. भीम के अंरहलदान से हवकास मे् नैनीताल के भीमताल क््ेत् का को अपनी साधना का के ् द ् बनाया और मां ग ी गई मनौती कभी भी व्यथ्जनिी्राती िै. यि रलािय परम पूजय् नीय िै और रलचरो् मित््व अह््दतीय रिा िै. भीमसेन की यि साधना के बल पर िी इन दोनो् मिाप् ् त ापी मं ह दर के उत् ् र हदिा मे्घोड़्ाखाल, दह््कण मे् का आवास क््ेत्भी िै. पूरनोपरांत विी्पुनः नगरी सनातन काल से श््द्ा व आस्था का संगम रिी िै. नागवंहियो्मे्मिाप््तापी नाग राराओ् ने ब््ह्माण्ि प््हसद्् गुफा पाताल हिह्ड़म्बा मंहदर, पूव्ज मे् करकोटक नाग व आकािवाणी िुई. अिरीरी वाणी ने यि सुनाया हक भीम अब तुम िह््सनापुर वापस करकोटक नाग की तपोभूहम भीमताल का भुवनेश्र के दि्जन कर भगवान िंकर का राओ, तुम्िारा कक्याण िोगा. आकािवाणी पुरातन स्वर्प आधुहनकता की आपाधापी मे् साहनध्य प््ाप्त हकया. मिाभारत के वीर योद््ा अपनी नैसष्गक ि खू ब सू र ती के के आदेि पर भीम वापस िो गए.इस तरि गुम िोती रा रिी िै. भीमताल के सौ्दय्जको भीम व हिहिंबा की अद््त प््ेम गाथा का षलए प्ख् य् ात भीमताल कषित भीम सरोवर भीमताल के र्प मे् रगत मे् गवाि रिे भीमताल की भूहम पर अब भी हदन प््हतहदन ग््िण लगता रा रिा िै. प््हसद्् िुआ और सरोवर के तट पर ल्सथत यि पूरा इलाका हदन पर हदन कंक्ीट के भूमाहफयाओ् की भी तीखी नररे् िै्. उराड़् षिकास के साये मे् अपनी हिवालय भीमेश्र मिादेव के नाम से राना रंगल मे्तब्दील िोता रा रिा िै. हरन खेतो् िोते वन, कंक्ीट के उगलते रंगल इस बात महत््ा गंिा रहा है. राता िै. किा राता िै हक रो भी रन मे्कभी प््चुर मात््ा मे्सेब, नािपाती, आिू, की गवािी देते नरर आते िै्. श््द्ापूव्जक इस सरोवर मे् स्नान करते िै् वे इसके आस-पास के क््ेत् व पिाह्ड़यां खुमानी, पूलम सहित हवहभन्न प््कार के देवलोक मे् आनल्नदत िोते िै्. यिां स्नान रामगढ् , मु क ् त े श ् र आहद क् े ् त ् ो ् का भी यिी सामने ऋतु प ण् ज पिाड़् ी का हविं ग म नरारा फलो्का उत्पादन िोता था, वे अब धीरे-धीरे करने से हनःसंदिे गंगा स्नान का फल हमलता आलम िै . भीमताल व भवाली के मध् य दे ख ने को हमलता िै . आश् म ् पहरसर मे ् ल् स थत आधुहनकता के दंि की चपेट मे् िै्. गेिूं, िै , विी् भीमेश्र का पूरन करने से ल् स थत मे ि रा गां व भीमताल का मनमोिक नवदु ग ् ा ज मं ह दर दि् ज न ाह् थ ज य ो् के हलये रगत मंिुवा, मक््ा, रौ, झंगोरा, कौणी, भट््ा, मनोवां हछत हसह््द की प््ाल्पत िोती िै. गां व िै . इस गां व मे ् ल् स थत आहद िल् क त नव माता की ओर से अद् ् त सौगात िै . मटर उगलने वाले खेत खहलिान हदन भीमताल के आस-पास के तालो् मे् कभी-कभी यिां माता के वािन िेर का प््हतहदन हसमटते रा रिे िै्. भीमताल िी निी् दुग्ाज मंहदर गुर् मोक्् धाम से चारो् ओर के नौकु ह चयाताल का मित््व भी अहत प््ाचीन िै. बल्कक नौकुहचयाताल, गर्ड़्ताल, रामताल, पव्जतो् का नरारा मन को अलौहकक िांहत आवागमन िोता िै. वनो् मे् मानव के बढ्ते इस ताल की हविे षता यि िै हक इसकी सीताताल, लक््मणताल, नल दमयंतीताल, का एिसास प््दान करता िै. यि आश््म दखल से अब यि दि्जन दुल्जभ िो गए िै्. बनावट बड़् ी िी हवहचत् ्िै. इसमे्नौ कोने िै्. सूखाताल, मतवाताल, खुप्ाजताल, अपने आप मे् सनातन संस्कृहत का हवराट मंहदर के पास कत्यूहरयो् की खली पुरातन सह्ड़याताल आहद का सौ्दय्ज भी वनो् के इहतिास समेटे िै. पंचदिनाम रूना अखाड़्े के संत स्वामी दयानंद सरस्वती हरनकी हवनाि से घटता रा रिा िै. राज्य गठन के बाद यि प््बल उम्मीद उदारता व भल्कत, हनष््ा के चलते लोग उन्िे् थी हक यि भूभाग आध्यात्म का हवराट के्द् दयालु मिारार के नाम से पुकारते िै्, बनेगा. पय्जटन के अलावा तीथ्ाजटन स्थल दिको्से यिां साधनारत िै्. उन्िो्ने इस क््ेत् हवकहसत िो्गे. तीथ्ज गमन के हनयमो् का की पावन संस्कृहत के प््चार-प््सार मे्अपना हनध्ारज ण िोगा, इन सबके हवकास से रोरगार अभूतपूव्ज योगदान हदया िै और आर भी वे हवकहसत िो्गे, लेहकन ये सब तो कुछ निी् लोगो्को सन्माग्जकी ओर प्ह्ेरत करते िै.् इस िुआ. िां इन तमाम क््ेत्ो् मे् िराब की आश््म की स्थापना वष््ो् पूव्ज स्वामी श््ी श््ी संस्कृहत रर्र हवकहसत िुई, हरसने 1008 ब््ह्मलीन संत ब््ह्मानंद सरस्वती युवापीढ्ी को खोखला बनाकर रख हदया. मिारार ने अपने गुर्परम हसद््संत स्वामी 1371 मीटर की ऊंचाई पर रनपद हिवानंद मिारार की प््ेरणा से की, उनके मुख्यालय से 23 हकलोमीटर की दूरी पर पावन उद््ेश्य व लक््य को दयालु मिारार ल्सथत भीमताल नौका हविार के हलये िी निी् आगे बढ्ा रिे िै.् भवाली व भीमताल के मध्य बल्कक आध्याल्तमक िाल्नत के हलये भी इस आश््म मे् ब््ह्मलीन संत सरस्वती प्ह्सद््रिा िै. 448 मी. लम्बा तथा 175 मी. मिारार की समाहध के दि्जन बड़्े िी चौड़्ा यि ताल सुंदरता की हमसाल िै. इस फलदायी माने राते िै्.

7

एक स्थान से पूरे सरोवर का आकार निी् हदखाई पड़्ता िै. ब्यास री ने इस स्थान की भी बड़्ी महिमा गाई िै.इस सरोवर की गाथा सनतकुमार से रुड़्ी िुई िै. गिरे नीले रंग के पानी वाले इस ताल की हविेषता के बारे मे् यि बात भी स्थानीय रन मानस मे्प््चहलत िै हक यहद कोई व्यल्कत एक िी नरर मे्इस ताल के नौ कोनो् को देख ले तो उसकी तत्काल मृत्यु िो राती िै, लेहकन वास््हवकता यि िै हक इस ताल के सात से अहधक कोने एक बार मे्निी्देखे रा सकते. 1219 मी. ऊंचे इस ताल की अद्त् हविेषता पुराणो्मे्गायी गई िै. प््वासी पह््कयो्को यि ताल हविेष ह््पय िै. सात ताल की आभा मण्िल से आच्छाहदत ताल भी भीमताल से चार हकमी की दूरी पर बरबस िी आगंतुको् को अपनी ओर खी्च लेती िै. इस प््हसद्् ताल की लम्बाई 990 मी. तथा चौड़्ाई 315 मी. व गिराई 150 मी. मानी राती िै. इसमे् तीन तालो् का समूि बताया राता िै, रो राम सीता सीता लक््मण तालो् के नाम से राने राते िै्.अनुपम सौ्दय्ज की हमिाल नल दमयंती ताल भी भीमताल क््ेत् की िान िै. 1635 मी. की ऊँचाई पर ल्सथत यि ताल रारा नल व दमयन्ती की भल्कत की हनिानी मानी राती िै. स्कंद पुराण मे् भी इस ताल का मनोरम वण्जन आता िै. यि पहवत्् रल से पहरपूहरत िै. इसमे्स्नान का बड़्ा मित््व बताया गया िै. मिह्षज व्यास ने तो यिां तक हलखा िै. इस रल से रो स्नान करते िै् वे कुर्क्ेत्स्नान का फल प््ाप्त करते िै्. कुल हमलाकर उत््राखंि की धम्जप्धान संस्कृहत मे् भीमताल की महिमा न्यारी िै. यिां के स्थलो् का भ््मण केवल पय्जटन की दृह्ष से िी निी्अहपतु तीथ्ाजटन की दृह्ष से भी मित््वपूण्ज िै. प््ाकृहतक सौ्दय्ज की दृह्ष से यि भारतीय भूभाग का मित््वपूण्जक््ेत्िै, लेहकन पाश््ात्य संसक ् हृ त के िमले से ये क्त्े ् हनश्तेर िोते रा रिे िै्, रो हचंतनीय हवषय िै. अंग्ेर यि बात भली-भांहत रानते थे हक यहद भारत भूहम पर अपना रार कायम करना िै तो यिां की संस्कृहत को घात पिुंचाना रर्री िै. उन्िो्ने िमारी संस्कृहत की अनेकता मे् एकता की मूल अवधारणा पर गिरा कुठाराघात हकया. धम्ज, राहत, क््ेत्व भाषा के आधार पर अलगाववाद की घोर नीहत अपनाई व देि पर लम्बे समय तक रार कर इसे खोखला करने का प््यास हकया. लंबे संघष्ज के बाद आरादी हमली. आरादी के बाद भी सांस्कृहतक गौरव को संवारने के ठोस प््यास सामने निी् आए. राज्य बना, उम्मीदे् रगी लेहकन सांस्कृहतक गौरव के प््हत राज्य को रागर्क करने के गंभीर प््यास निी् हकये गये. भीमताल क््ेत् एक उदािरण मात््िै. पय्जटन व तीथ्ाजटन को यहद िासन स््र से समुहचत सिायता व प््ोत्सािन हदया राये तो राज्य से बेरोरगारी भी दूर िोगी व पलायन भी र्केगा.यहद राज्य के भीतर रमीनो्की लूट-खसोट, िराब की संसक ् हृ त यूं िी पनपती रिी तो िेष रि रायेगी पछतावे की हससहकयां. - उत््राखण्ड आज


8

www.shukrawaar.com n

हुए फिसके मददगार अमर फसंह

वववेक सक्सेना त््र और दह््कण भारत की रारनीहत मे् रिां तमाम समानताएं िै्विी्कुछ खास अंतर भी िै. दह््कण भारत मे्लगभग िर अिम दल का अपना चैनल िै हरसके रहरए वि प््देि मे् अपनी रारनीहत चमकाता िै. तहमलनािू मे्अन्नाद्म् क ु का रया चैनल िै तो द््मुक का प््चार प््सार ‘सन’ टीवी के रहरए िोता आया. आंधप् द् ि े मे् रार िेखर रेड्ी का ‘साक््ी’ चैनल उनकी काफी मदद करता आया था. मगर उत््र भारत मे् ऐसा बिुत कम देखने को हमलता िै. िायद यिी वरि िै हक भारपा और कांग्ेस सरीखे राष््ीय दलो् ने भी कभी अपना चैनल िुर् करने की बात निी् सोची. िालांहक इस बारे मे्एक नेता का किना िै हक रब मदर िेयरी का दूध उपलब्ध िो तो भैस ् पालने की क्या रर्रत िै. रब दूध पीना िो तो मदर िेयरी के बूथ पर राओ हसक््ा िालो और तारे स्वाहदष्् दूध का मरा लो रो हक सेित के हलए हकसी भी दृह्ष से िाहनकारक निी्िेाता िै. कुछ दल सत््ा मे् रिने पर पैसे लेकर टोकन िाहसल करते िै्तो कुछ इन चैनलो्के माहलको्, पत््कारो् को सरकारी सम्मान से उपकृत करते िै.् नरेद् ्मोदी सरकार के सत््ा मे्आने के बाद तो तमाम चैनलो्मे्यि िोड़ लग गई िै हक कौन उन्िे् सबसे ज्यादा खुि करता िै. पिले टाइम्स नाउ पर अकेले अरनब गोस्वामी िुआ करते थे रो हक सत््ार्ढ दल की पैरवी करते थे मगर अब हिंदी के चैनल एक दूसरे को पछाड़ने पर आमादा िै. उनकी चापलूसी और चंपगू ीरी की कोई लक्म् ण रेखा न िोने के कारण दूरदि्नज भी, केररीवाल व िाह्दजक पटेल की तरि अच्छा लगने लगा िै. अक्सर यि लगता िै

वफरदौस ख़ान रतीय रनता पाट््ी के हलए उत्र् प्द् ि े हवधानसभा चुनाव की राि आसान नज़र निी् आ रिी िै. भारतीय रारनीहत मे् चाल, चहरत््और चेिरे की बात करने वाली भारतीय रनता पाट््ी अंदर्नी कलि को लेकर ख़ुद से रूझ रिी िै. प्द् ि े मे्उसके अह््सत्व पर संकट के बादल मंिराने लगे िै.् िालांहक भारपा नेता बिुमत िाहसल करने के दावे कर रिे िै.् िाल मे्पाट््ी के वहरष््नेता िािनवाज़ िुसनै ने अपनी पात््ी के तीन सौ से ज़्यादा सीटो्से रीतकर सरकार बनाने का दावा हकया िै. उनका किना िै हक समारवादी पाट््ी और कांगस ्े गठबंधन भी भारपा को निी् रोक सकते. उन्िे्यि भी उम्मीद िै हक उनकी पाट््ी गोवा, पंराब, उत्र् ाखंि और महणपुर मे् भी हवधानसभा चुनाव रीतेगी और सरकार बनाएगी. लेहकन िक़ीक़त यिी िै हक भारपा नेता ख़ुद उत्र् प्द् ि े के चुनाव नतीरो् को लेकर सिमे िुए हदखाई दे रिे िै.् अब तक के मतदान का र्झान यिी बता रिा िै हक इस बार मुक़ ़ ाबला समारवादी पाट््ी-कांगस ्े और बिुरन समार पाट््ी के बीच िै. ऐसे मे्भारपा की परेिानी बढ सकती िै. भारपा ऐसे मुल्शकल दौर मे् अंदर्नी

भा

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

हक इन भो्पू चैनलो् की तुलना मे् दूरदि्जन किी्ज्यादा साथ्क ज व संतहु लत प्स ् ह्ुत दे रिा िै. अच्छा िुआ हक भारपा ने अपना चैनल िुर् निी् हकया वरना उसको सबसे ज्यादा चुनौती इन्िी्सियोगी चैनलो्से हमलती रैसे आर हिवसेना रैसे संगठनो्से उसे हमल रिी िै. िहनवार की रात चैनल बदल रिा था तो पाया हक एक चैनल पर अमरहसंि बैठे िै.् उन पर मुकदमा चलाया रा रिा िै. मै्ने भी पत््काहरता करते िुए यि सीखा िै हक कैसे हकसी नेता को बातो् मे् लपेटा राए. उससे मनवांहछत बयान हदलवाया राए मगर रो िुनर ररत िम्ाज के अंदर िै उसे देखते िुए तो लगता िै हक उन्िे्पद्ह्वभूषण देकर सरकार ने उनका अपमान हकया िै. उन्िे् तो इस सरकार ने भारत रत्न देना चाहिए. वैसे अभी तीन साल बाकी िै. कुछ भी िो सकता िै. अमर हसंि मुलहरम के कटघरे मे्बैठे थे. उनके बारे मे्अपना मानना िै हक वे भारतीय रारनीहत का ऐसा चीनी माल िै हरसकी गारंटी दुकान के बािर हनकलते िी खत्म िो राती िै. वे कब हकसी के पैर पकड़ ले और कब उसकी गद्नज रकड़ ले, कुछ किा निी् रा सकता िै. वे देि के एकमात््ऐसे नेता िै हरन्िे् खुद को दक्ला किने पर गव्ज मिसूस िोता िै. खैर अमर हसंि पर मुकदमा चलाया रा रिा था. वकील ररत िम्ाज थे रो हक प््धानमंत्ी नरे्द् मोदी व भारपा अध्यक्् अहमत िाि के सबसे करीबी व पसंदीदा पत््कार िै्. मै् उनकी योग्यता व क््मता पर कोई हटप्पणी निी्कर रिा िू.ं उनका भी संघ का बैकग््ाउंि रिा िै.् वे कालेर के हदनो् मे् अर्ण रेटली, सुधांिु हमत््ल के साथी रि चुके िै.् अमेहरका मे्भारतीय रारदूत नवतेर

कसीदे काढे रा सकते िै.् मगर ऐसे मे् खुद अपनी छहव खराब िोने का खतरा बना रिता िै क्यो्हक इस तरि की हरपेाह्टि्ग हविुद् चंपूगीरी मान ली राती िै. मगर अप््त्यक्् मदद करके अपनी छहव बचाई रा सकती िै. यि पत्क ् ाहरता की पो्री स्कीम िोती िै. इसके तित आप उस व्यल्कत की तारीफ करने की रगि उसके हवरोधी को हनिाना बनाते िै.् उसका चेिरा काला करते िै.् उसके कच््ेहचट््ेहनकालते िै्ताहक उसके मुकाबले मे्अपने नेता की छहव हनखर उठे. अमर हसंि के रहरए भी ऐसा िी हकया गया. सपा से बेइज््त िोकर हनकाले गए इस रीढहविीन नेता ने अहखलेि, रामगोपाल यादव से लेकर मुलायमहसंि यादव तक को रम कर कोसा.उन्िोने खुलासा हकया हक बाप बेटे की लड़ाई हसफ्क नाटकबारी थी. मै् तो पाट््ी का चुनाव हचन्ि रब्त करवाना चािता था मगर ऐन मौके पर नेतारी ने मुझे ऐसा करने से रोक हलया क्यो्हक वे अहखलेि की मदद करना चािते थे. अहखलेि ने भ््ष् अफसरो् को प््श्य दे रखा िै. यि वे अफसर िै् रो हक मायावती के िासनकाल मे्भी मौर करते थे. मुलायम हसंि को वानप््स्थ मे् चले राना चाहिए था. िां मै्ने किा था हक मै् मुलायमवादी िू.ं मै् दक्ला िू.ं मैन् े अहखलेि ं हकया. मैन् े उनकी गया. रब िर तरफ से यि खबरे्आ रिी िो यादव की पढाई का प्ब् ध हक मुलायम हसंि यादव के साथ िुए टकराव िादी करवाई. दोनो्पहत-पत्नी ने अपनी िादी के बाद अहखलेि का रारनीहतक ग््ाफ बढने की वष्गज ांठ पर रब केक काटा तो रबरन मेरे लगा िै व सपा-कांगस ्े गठबंधन की ओर लोग मुंि मे् उसका टुकड़ा घुसेड़ हदया. वगैरिआकह्षतज िो सकते िै् तो ऐसे मे् भारपा की वगैरि. अब मै्कुछ भी किने को स्वतंत्िू.ं हदक््ते् बढना स्वभाहवक िै. पत््काहरता मे् क्यो्हक नेतारी ने मुझसे किा हक अब तुम आप हकसी दल या नेता की दो तरि से मदद आराद िो. ध्यान रिे हक वे इससे पिले भी हनकाले करते िै.् यि प्त्य् क््व अप्त्य् क््र्प मे्िोती िै. अगर आप प्त्य् क््र्प मे्हकसी की मदद राने पर नेतारी का कच््ा हचट््ा खोलने की करना चािते िै् तो सीधे उसकी प््िंसा मे् धमकी दे चुके थे मगर रब वापस सपा मे् सरना, स्टेटसमैन के संपादक रवी्द् कुमार उनके सिपाठी रिे िै.् उन्िो्ने खुद भी अहखल भारतीय हवद््ाथ््ी पहरषद के उम्मीदवार के र्प मे्हदक्ली हवश्ह्वद््ालय छात्स ् घं का चुनाव लड़ा. प्भ् ु चावला की तरि वे भी संघी पत्क ् ार माने राते िै.् भारपा के प्ह्त उनका लगाव व झुकाव िोना स्वभाहवक िै. उत््र प््देि मे् मतदान के पिले हदन आपकी अदालत मे्अमर हसंि को पेि हकया

भाजपा की कलिन डगर

कलि से रूझ रिी िै. हवधानसभा चुनाव के हलए उम्मीदवारो् को हदए गए हटकट के बाद पाट््ी के नेताओ्का आक््ोि उभरकर सामने आ गया िै. दूसरे हसयासी दलो्के नताओ्को पानी पी-पीकर कोसने वाले भारपा नेता अब अपनी िी पाट््ी के नेताओ्के हख़लाफ़ सड़क पर उतर आए िै.् िालत यि िै हक काय्क ज त्ाज अपनी िी पाट््ी के नेताओ्के पुतले फूक ं रिे िै.् ग़ुसस ् ाये काय्क ज त्ाओ ज ् ने अमेठी मे् केद् ्ीय मंत्ी स्मृहत ईरानी का पुतला रलाया. इलािाबाद मे् भारपा के प््देिाध्यक्् केिव मौय्जका पुतला फूक ं ा गया. इसी तरि बरेली मे्केद् ्ीय मंत्ी संतोष गंगवार के समथ्क ज ो्ने ख़ूब नारेबाज़ी की. फ़ै्ज़्ाबाद के नाराज़् काय्जकत्ाजओ् ने पाट््ी के दफ््तर मे् ताला लगाकर प्द् ि्नज हकया. प्ध् ानमंत्ी के संसदीय क््ेत् मे् भी उम्मीदवारी को लेकर भी ख़ूब तमािा िुआ िै. कांग्ेस छोड़कर भारपा मे् राने वाले दया िंकर हमश््ा उफ़्कदयालु पाट््ी उम्मीदवारी न हमलने से दुखी िै्. वि प्ध् ानमंत्ी के संसदीय क्त्े ्वाराणसी के ििर दह््कणी हटकट चािते थे, लेहकन उन्िे् उम्मीदवार निी् बनाया गया. उन्िो्ने भारपा पर अपनी दुहनया उराड़ देने का आरोप लगाते िुए यिां तक कि हदया हक भारपा की वरि

से उनकी हसयासी हज़न्दगी िी ख़त्म िो गई िै. इसी तरि गो्िा मे्भारपा नेता मिेि नारायण हतवारी भी पाट््ी के रवैये से बिुत दुखी िुए और सरेआम रो पड़े. आहख़र मे् उन्िो्ने आज़ाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर हदया. आज़्मगढ्के पूवज्सांसद व भारपा नेता रमाकंत यादव ने भी हटकट न हमलने पर बग़ावत कर दी और पाट््ी से अपना इस््ीफ़ा देकर चुनाव मे् आज़ाद उम्मीदवार के खड़े तौर पर खड़े िोने की घोषना कर िाली. ग़ौरतलब िै हक पाट््ी के अब तक घोहषत 304 उम्मीदवारो् की फ़ेिहरस्् मे् तक़्रीबन 80 उम्मीदवार बािरी और बड़्े नेताओ् के हरश्तेदार और रसूखदार बताए राते िै्. काय्जकत्ाजओ् को मलाल िै हक वे पाट््ी का रनाधार बढाने के हलए हदन-रात मेिनत करते िै,् अपना ख़ून-पसीना बिाते िै,् और रब फल हमलने का वक़्त आता िै, तो मेवा बािरी लोग, बड़े नेताओ् के हरश्तेदारो् और रसूखदार लोगो् मे् बांट दी राती िै. कानपुर की हबठूर हवधानसभा क्त्े ्से भारपा ने हरस व्यल्कत को अपना उम्मीदवार बनाया िै, उसी िख़्स ने हवरोधी दल मे् रिने के दौरान नोटबंदी के ह्ख़लाफ़्प्ध् ानमंत्ी नरेद् ्मोदी का पुतला फूक ं ा था. इससे भी पाट््ी काय्क ज त्ाओ ज ्

मे्भारी आक््ोि िै. उनका किना िै हक ऐसे व्यल्कत को हटकट क्यो्हदया गया? क्या पाट््ी के पास कोई हनष््ावान काय्जकत्ाज निी् था. बिुरन समार पाट््ी से भारपा मे्आए स्वामी प्स ् ाद मौय्जभी भारपा से नाराज़ चल रिे िै.् वि अपने अलावा अपने हरश्तदे ारो्के हलए भी हटकट चािते िै्. ऐसी िालत मे् भारपा के हटकट के दावेदारो्का क्या िोगा ? ये सोचकर भी भारपा नेता परेिान िै.् उधर, भारतीय रनता पाट््ी के वहरष्् नेताओ् की आपसी गुटबाज़ी और तानािािी भी पाट््ी काय्क ज त्ाओ ज ्की नाराज़गी का सबब बनती रा रिी िै. काय्क ज त्ाओ ज ् को हिकायत िै हक पाट््ी के वहरष््नेता अपने हनरी स्वाथ्ज के हलए ऐसे कामो्को अंराम देते िै,् हरससे रनता मे् पाट््ी की छहव धूहमल िोती िै. इन नेताओ् के कारनामो् का ख़ाहमयाज़ा रिां चुनाव मे्पाट््ी उम्मीदवारो्को भुगतना पड़ता िै, विी् रनता के बीच काय्जकत्ाज भी तरितरि के सवालो्से रूझते िै.् हफ़लिाल मामला नोटबंदी और बढती मिंगाई का िै. इतना िी निी्, लोकसभा चुनाव मे्भारपा ने रनता से रो वादे हकए थे, उस पर अभी तक कोई अमल निी् हकया गया िै. रनता ने मिंगाई और हवदेि से काला धन स्वदेि लाने के नाम

ववचार

हलए गए तो खुद को मुलायमवादी किने लगे. उन्िो्ने मुसलमानो्के प्ह्त सिानुभहू त हदखाने के हलए मुलायमहसंि यादव का मराक उड़ाया. हिंदओ ु ्को चेताया हक यिी मुलायम हसंि किा करते हक मै्ने मल्सरद की रक््ा करेन के हलए सरयू नदी का पानी खून से लाल कर हदया. अब वे मल्सरद हगरवाने के हलए हरम्मदे ार कांगस ्े से िाथ हमला चुके िै.् एक अच्छे वकील की तरि ररत िम्ाज ने अमर हसंि के मुंि से वि सब कुछ हनकलवाया रो हक भारपा के िक मे् राता था. सरकारी गवाि की तरि लगता था हक मुलायम सब रट कर आए थे. उन्िो्ने सुषमा स्वरार से लेकर लाल कृषण ् आिवाणी तक की तारीफ की. मोदी के गुण गाए. उस नोटबंदी को सािहसक कदम बताया हरसका उत््रप््देि मे् हरक्् करने की हिम्मत खुद प्ध ् ानमंत्ी की भी निी्िो रिी िै. अमर हसंि द््ारा मोदी की तारीफ करना कुछ ऐसा िी लगा हक रैसे खानदानी िफाखाना का झोलाछाप वैद्, एम्स के िायरेकट् र पद पर आवेदन करने वाले िाक्टर को अपना प्म् ाण पत््दे. हफर अपने एक हमत्् की वि बात याद आ गई हक रब हकसी भीड़भाड़ वाले बारार मे् हकसी हरक्िेवाले से आपकी मस््ीिीर टकरा राती िै तो आप पान वाले को भाइसािब किकर संबोहधत करते िुए उससे अपने हनद््ोष िोने का प््माण पत्् देने के हलए किते िै हक क्यो् भाईसािब, आपने तो देखा िी था हक मै्अपनी लाइन मे् िी चल रिा था. आपकी अदालत के रर रािुल देव थे रो हक अपने भी संपादक रि चुके िै्व संघ से उनका पुराना नाता रिा िै. यि सब देखकर वो िेर याद आ गया हक ‘उसी का ििर, विी मुदई् विी मुहं सफ, मुझे यकीन था मेरा कसूर हनकलेगा.

पर भारपा को वोट हदए थे. लेहकन न तो हवदेि से काला धन वापस आया और न िी मिंगाई से हनरात हमली. िालत यि िै हक मिंगाई कांगस ्े िासनकाल के मुक़ाबला कई गुना बढ गई िै. लोग अब भारपा काय्क ज त्ाओ ज ् से पूछने लगे िै्हक क्या यिी िै्अच्छे हदन? ग़ौरतलब िै हक बािरी लोगो्के साथ िी भारपा को अपने नेताओ् और काय्जकत्ाजओ् की नाराज़गी भी झेलनी पड़ रिी िै. भारतीय रनता पाट््ी ने सब्ज़ बाग़ हदखाकर दूसरे हसयासी दलो् के नताओ् को अपने साथ तो कर हलया, लेहकन अब उनसे हकए वादे पूरे करने मे् भारपा को पसीना आ रिा िै. नये लोगो् के पाट््ी मे् आने और उन्िे् हटकट हदए राने से पाट््ी के पुराने हनष््ावान नेता और काय्क ज त्ाज ग़ुसस ् े मे्िै.् उनकी नाराज़गी भारपा को भारी पड़ सकती िै. बिरिाल, भारपा काय्जकत्ाजओ् की नाराज़गी का मामला हसफ़्कउत्र् प्द् ि े तक िी सीहमत निी्िै, बल्कक देिभर मे्कमोबेि यिी िाल िै. पाट््ी काय्क ज त्ाओ ज ् की यि नाराज़गी भारपा को हकतना नुक़सान पिुच ं ाएगी, यि तो चुनाव नतीरे िी बताएंगे. ये चुनाव नतीरे आगामी लोकसभा पर ख़ासा असर िाले्गे, इसमे्कोई दो राय निी्िै.


www.shukrawaar.com n

राजकाज

अहमद पटेल की सक््ियता

सो

9

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

हनया गांधी के रारनीहतक सहचव अिमद पटेल आम तौर पर उन िम््ीले नेताओ्मे्हगने राते िै्रो साव्र ज हनक र्प से अपनी सह््कयता निी्हदखाते. उनके काम करने का तरीका सबसे अलग िै. रिां आम नेता अपनी िैहसयत बनाने के हलए सुरक््ाकह्मजयो् के फौर रुटाने की तरकीब आरमाते रिते िै् विी् अिमद पटेल इस सबसे बिुत दूर रिते िै्. उन्िो्ने संप्ग के 10 साल के काय्जकाल मे् भी कभी कोई सुरक््ा निी्ली. दिको्से उनके घर पर एक हनरी सुरक््ा एरे्सी का कम््ी तैनात रिता िै. उन्िो्ने कांग्ेस के सत््ा मे् रिते मुख्यमंत्ी, राज्यपाल, के्द्ीय मंत्ी तक तो बनवाये मगर खुद कभी सरकार मे् कोई पद निी् हलया. मगर इन हदनो् उनकी सह््कयता काफी बढ् गयी िै. बरट सत््के दौरान कांग्ेस की ओर से रो चंद अच्छे भाषण िुए उनमे्उनका भाषण अव्वल माना रा रिा िै. उन्िो्ने बड़्े हिष्् िब्दो्मे्मोदी सरकार की ऐसी तैसी की. इस बार वे रमकर सामने आये. संसद के सत््के दौरान उन्िो्ने हवपक््ी पाह्टियो् की बैठक की कमान संभाली. हरस हदन प््धानमंत्ी नरे्द् मोदी ने पूव्ज प््धानमंत्ी मनमोिन हसंि को अपना हनिाना बनाया, उसके अगले हदन संसद मे् हवपक्् की रणनीहत तैयार करने के हलए तमाम हवपक््ी दलो्की बैठक िोनी थी. समस्या यि थी हक गुलाम नबी आराद उत््र प्द् ि े मे्चुनाव मे्व्यस््थे और आनंद िम्ा,ज हवपक््तो क्या अपनी िी पाट््ी के नेताओ्के एकरुट निी् कर सकते िै्. इसहलए अिमद पटेल ने कमान संभाली. नेता हवपक्् गुलाम नबी आराद के संसद भवन ल्सथत कमरे मे् बैठ कर रणनीहत तैयार की. तृणमूल कांग्ेस के िैरक े ओ ब््ायन से लेकर िरद यादव तक के साथ लंबी बातचीत की. बिुत कम लोग यि बात रानते िै् हक रब उत््र प््देि मे्सपा और कांग्ेस के बीच बातचीत लगभग टूट गयी थी और दोनो् िी दलो् ने नेता अगल अलग चुनाव लड़्ने की बात किने लगे थे उस समय भी अिमद पटेल ने खास भूहमका अदा की. उन्िो्ने पिले अहखलेि यादव से बात की और हफर उनकी सोहनया गांधी से सीधी बात करवाई. िालांहक इस गठबंधन का श््ेय खुद लेने की रगि इसके हलए सोहनया, रािुल और ह््पयंका को िी इसका श््ेय हदया. अब 11 माच्ज के बाद

उनकी सह््कयता और बढ्ने वाली िै.

सरकार को घेरने को तैयार

रट सत्् के पिले चरण मे् भले िी प््धानमंत्ी नरे्द्मोदी ने पूव्जप््धानमंत्ी िॉ. मनमोिन हसंि को बरसाती पिना कर निला हदया िो मगर माच्जमे्िुर्िोने वाले अगले चरण मे् हवपक्् उन्िे् िमाम मे् नंगा करने की तैयारी मे्रुट गया िै? कांग्ेस और इसकी हवपक््ी पाह्टियो् ने उनकी घेराबंदी करने की पूरी तैयारी िुर् कर दी िै. हवपक्् को भरोसा िै हक तब तक पांच राज्यो् के हवधानसभा चुनावो् के नतीरे आ चुके िो्गे और भारपा बंगले झांक रिी िोगी. आम आदमी पाट््ी से लेकर वामपंथी दल तक सरकार को संसद मे्घेरगे् ,े कांगस ्े , आप और माकपा, तीनो् िी दलो् ने प््धानमंत्ी के हखलाफ हविेषाहधकार िनन का नोहटस हदया िुआ िै. राष््पहत के अहभभाषण पर पेि धन्यवाद प््स्ाव पर चच्ाज के दौरान हरस तरि से प््धानमंत्ी ने भगवंत मान पर िराब पीकर ससंद मे्आने की बात निी्की, उससे वे वेिद खफा िै् और उन्िो्ने लोकसभा सहचवालय मे् प््धानमंत्ी का यि बयान सदन की काय्जवािी से हनकाले राने की मांग की िै. उधर राज्यसभा मे् कांग्ेस, िॉ. मनमोिन हसंि पर की गयी हटप्पणी को लेकर नोहटस देने रा रिी िै. विी्माकपा को इस बात से नारारगी िै हक अपने भाषण मे्

लगता िै. इसका सीधा असर हदक्ली के नगर हनगम और गुरद् ्ारा प्ब् ध ं न कमेटी के चुनाव पर पड़्ता नरर आ रिा िै. हदक्ली के तीनो् िी नगर हनगमो्पर भारपा का कब्रा िै और वि पांच साल के सत््ा हवरोधी र्ख और अपनी नाकाहमयो् के कारण रक््ात्मक र्ख अपना रिी िै. पाट््ी के िी नेताओ् ने एक दूसरे पर भ््ष्ाचार के आरोप लगाये और बार बार सफाई कह्मजयो् की िड़्ताल के कारण प््धानमंत्ी नरे्द् मोदी के स्वच्छता अहभयान की सड़्को्पर लगे कूड़्ेके ढेरो्ने धह््जयां उड़्ा कर रख दी. िर दल का मानना िै हक कम से कम तीन राज्यो् उत््र प््देि, उत््राखंि और पंराब के चुनाव नतीरो्का इन चुनावो्पर असर पड़्ेगा. रिां उत््र प््देि की सीमा हदक्ली से लगती िै तो विी्बड़्ी तादाद मे्उत््र प््देि, उत््राखंि और पंराब से आये लोग रारधानी के हनवासी िै. अगर पंराब मे्आम आदमी पाट््ी की सरकार बनती िै तो उसका सीधा असर हदक्ली के गुरद््ारा चुनाव पर भी पड़्ेगा. नगर हनगम चुनाव मे्भारपा के हलए हदक््ते पैदा िो्गी. यिी वरि िै हक पंराब के बड़्े अकाली नेताओ् रैसे प््काि हसंि बादल, सुखबीर बादल, सुखदेव हसंि हढठान प््धानमंत्ी ने उसके एक हदवंगत मिासहचव आहद ने गुरद््ारा चुनाव प््भार के हलए हदक्ली पर अपमानरनक हटप्पणी की. इस मामले न आने का फैसला हकया िै. माच्जमे्गुरद््ारा ं क कमेटी के और अप्ल ्ै मे्नगर हनगमो् मे्सीताराम येचुरी को बोलने तक निी्हदया प्ब् ध गया. ध्यान रिे हक बरट सत्् का अगला के चुनाव िै्. अगर आप ने गुरद््ारा चुनाव चरण नौ माच्जसे िुर्िोने वाला िै और 11 लड़्ा या तीनो् हनगम चुनाव मे् भारपा िारी माच्ज को सभी राज्यो् के चुनाव नतीरे आ तो उसका सीधा असर के्द् सरकार पर राये्गे. अगर भारपा का प््दि्जन अच्छा निी् पड़्ेगा. यि चुनाव के्द्सरकार के कामकार रिता िै तो हवपक््ी दल संसद की कामकार पर रनमत संग्ि साहबत िो्गे. ऐसे मे् निी्चलने देगी और पिले चरण मे्रो मुद्े सरकार के हलए हदक््ते बढ्े्गी और केररीवाल और हवपक्् उनका रीना दूभर अधूरी रि गये, वे यूं िी लटके रि राये्गे. करेगा. इसकी आसानी से कक्पना की रा सकती िै.

चुनाव से कचंकतत भाजपा

रा

ज्यो् मे् हवधानसभा चुनाव के हलए मतदान िो रिे िै् पर नतीरे आने के पिले िी उसका असर हदखायी देने लगा िै. अभी तक रो खबरे्िै्उसके मुताहबक पंराब मे् मुकाबला आप और कांग्ेस के बीच िै. अकाली दल-भारपा का सूपड़्ा साफ िोता

कांग्ेस के बढ्ते हौसले

त््र प््देि मे् सपा के साथ चुनावी गठबंधन के बाद कांग्ेस के िौसले काफी बुलदं िै. अब वि संपग् तीन की तैयारी कर रिा िै. आम चुनाव भले िी दो सवा दो

साल बाद िो मगर पाट््ी ने अपनी रो रणनीहत तैयार की िै, उसके मुताहबक वि प््देिो्को क््ेत्ीय दलो् के िवाले कर लोकसभा चुनाव मे् ज्यादा से ज्यादा सीटे् िाहसल करने की कोहिि करेगी. पाट््ी के भरोसेमंद सूत्ो् का मानना िै हक िाईकमान यि बात अच्छी तरि से समझ चुका िै हक अगर उसे भारपा को िराना िै तो उसे क््ेत्ीय दलो् के साथ गठबंधन करना पड़्ेगा. चंद राज्यो् को छोड़्कर कांग्ेस अपने राज्यो् के सिारे िी रारनीहत करे्गी. कांग्ेस के सामने भारपा और आप, दोनो्िी चुनौती बन कर उभरे िै्. दोनो्ने िी पाट््ी का सफाया हकया िै. हदक्ली के बाद अगर पंराब मे्आप की सरकार बनती िै तो इसका सबसे ज्यादा नुकसान कांग्ेस को िी िोगा. गठबंधन की िुर्आत हबिार से िुई थी. अब सपा के साथ भी गठबंधन िुआ िै और लोकसभा चुनाव तक रारी रिने की संभावना िै. हबिार मे् कांग्ेस रद(यू), या रारद के साथ िाथ हमलायेगी तो झारखंि मे् पाट््ी नेताओ्ने रेएएम व रेवीएम नेताओ्के साथ बातचीत िुर् कर दी िै. मिाराष्् मे् िरद पवार की राकांपा, तहमलनािु मे्द््मुक तो आंध् प््देि मे् वाईएसआर कांग्ेस से गठबंधन िोगा. पह््शम बंगाल मे्रर्र थोड़्ी हदक््त िै. विां पाट््ी को िी यि तय करता िै हक वि ममता बनर््ी की तृणमूल कांग्ेस

के साथ िाथ हमलाये या संप् एक की तरि वामपंहथयो्का दामन थामे.

डीह के ठौर पर 'लंदन' की बाते्

िा

ल िी मे्तराई क््ेत्मे्कांग्ेस के भावी मुहखया रािुल गांधी रनसभा के हलए

आये. इनका पटकथा लेखक स्थानीय मुद्ो् से ,समस्याओ् से पहरहचत न था , सो भावी मुहखया विी पुराना पन्ना पढकर बांच गये . कुल रमा पच््ीस हमनट के लेख मे्न तराई की बाढ का हरक््और न कटान का हरक््, गन्ना हकसानो् पर रिम खाते िुए दो हमनट उन्िे्रर्र दे हदए गए . बेचारे दुधवा के रीव भी हनराि िो गए हक , हकतनी आस ..हफर भी बकवास . भला िो अगले मुख्यमंत्ी री का रो अपनी सभा मे्तराई की बाढ-कटान का हरक््कर क््ेत्के प््हत अपनी प््हतबद््ता बता दी सो गठबंधन मे्रान आ गयी निी्तो इनके पटकथा लेखक ने तो प््त्यािी का रारनैहतक रीवन िी दांव पर लगा हदया था . इसीहलए किते िै् हक खेत की बाते् करने वाले मेड़ पर भी चलना रानते िै् , गोक्फ कोस्जके लॉन खेत निी्िोते , निी्तो आलू वास््व मे्फैक्ह्टयो्मे्िी बनता. प््स्ुदत-दववेक सक्सेना


www.shukrawaar.com n

कुमोद कुमार यादव

पटना. यि मौका था वहरष्् पत्क ् ार संरय कुमार की पुसक ् ‘मीहिया : महिला, राहत और रुगाड़’ के लोकाप्ण ज का. इस दौरान चह्चतज कहव आलोक धन्वा ने किा हक मीहिया को वे सकारात्मक र्प मे्देखते िै.् यि चौथा खम्भा िै और भहवष्य मे् भी आगे िी बढ्गे ा. िालांहक, कई बदलाव िुए िै् और आगे भी िो्ग.े उन्िो्ने किा हक आर रो हवषय आया िै गंभीर िै और इस पर हवमि्जकी रर्रत िै . हबिार संगीत नाट््अकादमी के हनदेिक आलोक धन्वा, वहरष््पत्क ् ार व रगरीवन राम िोध संसथ् ान के हनदेिक श््ीकांत, प्भ् ारी हिंदसु थ् ान समाचार की वहरष््पत्क ् ार ररनी िंकर, वहरष््पत्क ् ार व साहित्यकार अवधेि प््ीत कथाकार मदन कश्यप और प्भ् ात प्क ् ािन के पीयूष कुमार ने 8 फ़रवरी को पटना पुसक ् मेला मे्प्भ् ात प्क ् ािन के स्टॉल पर पुसक ् का लोकाप्ण ज हकया. इस दौरान वहरष््पत्क ् ार श््ीकांत ने किा हक पुसक ् का यि हवषय चुनना काफी सािस का काम िै. साथ िी काफी बोक्ि िै . उन्िो्ने किा हक मीहिया भी समार का िी आइना िोता िै और सिी तस्वीर आईने मे् हदखनी चाहिए. विी् चह्चतज कहव मदन कश्यप ने किा हक सरकारी नौकरी मे्रिते िुए भी ऐसे बोक्ि हवषयो्पर हकताब हलखना िी काफी चुनौतीपूणज् काय्ज िोता िै, हरसे संरय कुमार ने कर हदखाया िै. राने-माने कथाकार अवधेि प््ीत ने किा हक आर मीहिया का भी कारपोरेटीकरण िो

मीविया में मवहला, जावत और जुगाडं

चुका िै और इस दौर मे् मीहिया भी हसफ्क बारार की दौड़ मे् िी िाहमल िै. मीहिया िॉउस खबर को बस््ुके तौर पर देखता और बेचता िै. पत्क ् ार ररनी िंकर ने अपने अनुभव साझा करते िुए किा हक महिलाओ्के हलए मीहिया मे्राि बनाना और उसपर आगे बढते रिना अहधक मुलश् कलो् भरा िोता िै. उनमे्काहबहलयत िोते िुए भी अक्सर कहनष्् पुरष् कम््ी प्म् ोिन पा राते िै. उन्िो्ने किा हक पुसक ् का नाम िी काफी कुछ बयान कर देता िै. क्या है पुसक ् मे्

संजय कुदं न

ि

11

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

मारे देि मे् न्याय प्ण ् ाली को एक पहवत्् क्त्े ् माना राता िै और इसके हकसी भी पिलू को साव्र ज हनक चच्ाज से दूर रखा राता िै. न्यायपाहलका के फैसले और हटप्पहणयां कुछ-कुछ दैवी वचन मानी राती िै.् पर रब िम पद्ाज िटाकर इसके भीतर दाहखल िोते िै्या इसमे्घुसने को मरबूर िोते िै्तो यि समझना मुलश् कल िोता िै हक यि न्याय तंत्िै या अन्याय तंत.् िमारा सामना िोषण की एक व्यवल्सथत प्ण ् ाली से िोता िै हरसमे् िर स्र् पर बैठा व्यल्कत इंसाफ हदलाने के नाम पर पीह्ड़त और उसके पहररन का रक्त चूसने को आतुर नरर आता िै. दरअसल भारत की न्याय-व्यवस्था भी िमे् अंगर ्े ी िासन से हवरासत मे्हमली िै. भारत मे्न्याय प्ण ् ाली लागू करने का ह््बहटि िासन का मकसद कानून के रहरए रनता को न्याय सुहनह््शत करना निी्बल्कक ह््बहटि साम््ाज्य का हवस््ार करना और उसकी पकड़्को मरबूत बनाना था. िां, इसके माध्यम से उसने दुहनया को हदखाया हक उसने भारत मे्कानून का रार कायम हकया िै. िम आर भी उसी न्याय-व्यवस्था को ढो रिे िै.् िमने आर तक उसका रनतांह्तकीकरण निी्हकया िै बल्कक ररो्को देवतुकय् मानकर न्याय-व्यवस्था मे्सुधार को अरेि् े पर आने िी निी्हदया. न्याय-व्यवस्था की हवसंगहतयो्पर साव्र ज हनक र्प से भले िी चच्ाज न िो पर साहित्य ने समार के एक प्म् ख ु यथाथ्जके र्प मे्उसे पकड़्ा और उसके भीतर की हवसंगहतयो्को अपने तरीके से उरागर भी हकया. रब िम इस व्यवस्था मे्सुधार या बदलाव चािते िै्तो िमे्उसकी हवकृहतयो्को ढंकने की बराय उस पर हवचार करना िोगा. उससे टकराते िुए कोई सुसगं त िल ढूढं ना िोगा. बिरिाल न्याय-व्यवस्था मे् सुधार के हिमायती

‘मीहिया : महिला, राहत और रुगाड़’, पुसक ् एक आइना िै रो मीहिया की तस्वीर को हदखाने की एक कोहिि िै. हकस तरि से पत्क ् ाहरता, हमिन से व्यवसाय और हफर सत््ा की गोद मे् बैठ गयी यि तो सब रानते िै.् हसद््ातं ो्को ताक पर रख रनता की भावनाओ् से खुलआ े म खेलने का काम रारी िै. सरकारी और गैर सरकारी वर्नज ाये्िर रगि टूट रिी िै.् दूसरो्पर िमला बोलने वाले मीहिया पर भी िमले िुए और िो रिे िै.् मीहिया पर महिला प्म्े ी िोने का आरोप लगता रिा िै. मीहिया के अंदर महिलाओ्के साथ िोने वाला व्यविार

चौ्काता िै. मीहिया मे्नौकरी देने या ब्क ्े देने के नाम पर यौन िोषण की कई घटनाएं बदनुमा धब्बे की तरि िै.् सोिल मीहिया और वेब मीहिया पर आने वाली ऐसी खबरे्मीहिया के चहरत््पर सवाल उठाती िै. भारतीय मीहिया हकतना राहतवादी िै, इसका खुलासा मीहिया के राष््ीय सव््े से साफ िो चुका िै. 90 प्ह्तित से भी ज्यादा ह््दरो् के मीहिया पर काहबर िोने के सव््ेने भूचाल ला हदया था. भारतीय मीहिया मे् दहलत-हपछड़े-अक्पसंखय् को् की भागीदारी निी्के बराबर िोने के पीछे उन्िे्एक साहरि

इंसाफं की उलझी गवलयां न्यायिास््के युवा अध्यते ा और लेखक अपूवज्अग्व् ाल ने काब्नज कॉपी (अरहवदं रैन), मीहिया ट््ायल (मीनाक््ी साहित्य के रहरए न्याहयक व्यवस्था को समझने और उसके स्वामी) और दफा 604 (दयानंद पांिये ). सुधार के हलए रर्री हवमि्जको आगे बढ्ाने का फैसला इन किाहनयो्मे्आपको न्याय के आसन पर बैठे पंचो् हकया. उन्िो्ने हिंदी की कुछ किाहनयां चुनी िै,् हरनमे्न्याय को ईश्र् का दर्ाज देने वाले भोले-भाले लोग हमलेग् े तो ऐसे तंत्के हकसी न हकसी पिलू को छुआ गया िै और उसकी िख्स भी हमलेग् े रो सचमुच उस आसन पर बैठकर खुद हविंबनाओ् की ओर संकते हकया गया िै. ऐसी 17 मे्देवत्व मिसूस करते िै्और िर तरि के भेदभाव से ऊपर किाहनयो् के दो संगि् उन्िो्ने तैयार हकए िै.् पिला िै उठकर दोषरहित फैसला देते िै.् इस तरि वे न्याय के स्भ्ं ‘हमस्टर कानूनवालॉर चैमब् र’ और दूसरा िै ‘दफा 604’. की गहरमा कायम करते िै् लेहकन ऐसे हकरदारो् से भी का नू न वा लॉ र आपका सामना चैमब् र मे् िोता िै, रो इस हन म्न हल हख त पद की मय्ादज ा को किाहनयां िै:् पंच तार-तार करते िै.् प र मे श् ् र इन किाहनयो् मे् (प्म्े चंद), फाँसी न्याय तंत् के ( हव श््ंभ र ना थ संचालक भी िम्ाज कौहिक), मौरूद िै् और रर का फैसला इससे पीह्ड़त लोग (हवष्णु प्भ् ाकर) भी. एक रर मुलहरम अज््ात सािब हसक््ा ( हव द््ा सा ग र उछालकर तय नौ हट या ल ) करते िै् हक कौन घ ह्ड़ या ल ित्यारा िै और इस लमसंटर कानूनवालॉज चैमबं र, संपादक: (ह्दयेि) वकील दफा 604, संपादक: अपूवजंअगंवं ाल, तरि एक हनद््ोष अपूवजंअगंवं ाल, राजकमल पंक ं ाशन, सािब की हकताब राजकमल पंकं ाशन, 1-बी, नेताजी सुभाष व्यल्कत फांसी के (दयानंद पांिये ) मागं,ज दलरयागंज, नयी लदलंली, 400 रंपये. मूलयं : 400 रंपये. फंदे पर चढ् राता साक््ी (पद्र ् पाल) असली मोिन दास कौन (उदय िै. मासूम बच््े अपने हपता को छुड़्ाने के हलए रर के प्क ् ाि). सामने हरश्त् की पेिकि करते िै्रबहक उन्िे्हरश्त् का ‘दफा 604’ मे्संकहलत किाहनयां िै:् दंि (प्म्े चं द), मतलब भी निी्मालूम. यि न्याय तंत्कब हकस िख्स को फैसला (भीष्म सािनी), हचत या पट (ह्दयेि), धरती दलाल मे्तब्दील कर दे, यि किना कहठन िै. एक ग््ामीण अब भी घूम रिी िै (हवष्णु प्भ् ाकर), दफा 379 ( अभय), पाता िै हक उसका पड़्ोसी मदद के नाम पर उससे काफी

के तित मीहिया मे् घुसने निी् देने की मानहसकता को दोषी करार हदया गया. हनरी मीहिया की तरि िी सरकारी मीहिया मे् भी इनकी भागीदारी निी् के बराबर हदखती िै. िालांहक आरक्ण ् के आधार पर यिां दस से बीस प्ह्तित दहलत-हपछड़े हदख राते िै.् विी्, भारतीय रीवन मे् रुगाड़ एक ऐसा िब्द िै हरससे िर कोई वाहकफ िै. इस िब्द से मीहिया भी अछूता निी्िै. इसका प्भ् ाव यिां भी देखा राता िै. इन्िी्हवषयो्पर इस पुसक ् मे्हवस््ार से प्क ् ाि िालने की कोहिि की गई िै.

वसूल रिा िै और उसकी मरबूरी का फायदा उठा रिा िै. एक पीह्ड़त को तारीख पर तारीख हमलती राती िै और उसे लगता िै हक वि तारीखो्के रंगल मे्भटक कर रि गया िै. उसे न्याय हमलने की कोई उम्मीद निी् रि गई िै. िालांहक कई बार न्याय के सव््ोच््आसन पर बैठा िख्स भी व्यवस्था द््ारा पीह्ड़त िो राता िै. किाहनयो् मे् न्याहयक तंत् के रोरमर्ाज कामकार के हचत्् भी हमलते िै.् रमानत देने से लेकर मुकदमो् की तारीख तय करने मे्बेिद लापरवािी और अगंभीरता हदखाई राती िै. इसमे्पीह्ड़त की बराय न्याय तंत्के संचालको् के हितो्का ध्यान रखा राता िै. यि भी साफ हदखता िै हक न्याय तंत्अंतत: समथ्जतबके के पक््मे्िी खड़्ा िोता िै. कमरोर और गरीब वग्जके हलए यि उत्पीड़्न तंत्िी साहबत िोता िै. सबसे बड़्ी हविंबना तो यि िै हक रो इस तंत्के भीतर रिकर इसे दुरस ् ्करने की कोहिि करता िै, और कायदो्के हिसाब से चलना चािता िै, वि इस व्यवस्था मे् हटक निी्पाता. या तो वि खुद इससे बािर हनकल राता िै या हफर उसके फैसले रद््ी की टोकरी मे्उठाकर फेक ् हदए राते िै.् इसमे् प्म्े चंद से लेकर आर के दौर मे् हलख रिे दयानंद पांिये तक की किाहनयां िै.् यानी 1911 से लेकर आर तक के दौर की एक झलक हमलती िै और न्यायव्यवस्था मे्आ रिी क्ह्मक हगरावट का भी अंदारा हमलता िै. लेहकन अपूवज् अग्व् ाल का मकसद पूरे तंत् की एक भयावि तस्वीर पेि कर लोगो्की आस्था को ठेस पिुच ं ाना निी्िै. उन्िे्यकीन िै हक तमाम हवसंगहतयो्के बावरूद िमारी न्याय-व्यवस्था मे्सुधार की संभावनाएं बची िुई िै. इन हकताबो्की सार-सज््ा हविेष र्प से प्भ् ाहवत करती िै. प्ख् य् ात हचत्क ् ार अहभमन्यु हसन्िा के रेखाहचत््किाहनयो् मे्हनहित भावो्को व्यक्त करने मे्समथ्जिै.्


www.shukrawaar.com n

विनेमा

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

संवरंजयुग की रजत पलरयां मनोहर नायक

मे् खुमार, रादूनगरी से आया िै कोई रादूगर’. इसके बाद उन्िो्ने 'अफ़्सर’ का लीस से साठ के दिक तक को हिंदी गाना बराया, 'नैन दीवाने इक निी्माने,् करे ह्फ़क्मो्का स्वण्क ज ाल यानी ‘गोक्िन मनमानी, माने ना.’ सुरयै ा ने भारतन से किा एरा’ किा िै. मोटे तौर पर यि समय 1941 था हक िम दोनो् (सुरैया-देव) के अलावा से 1965 तक का माना राता िै. यि आज़ादी िायद िी हकसी को याद रिा िोगा हक इसी से ठीक पिले और बाद का समय िै और गाने को ह्फ़क्माने के साथ िम दोनो् हबछड़ अगर िम पूरे राष््ीय पहरदृश्य को देखे् तो गये थे. नरहगस को सआदत िसन मंटो पिले से पायेग् े हक रीवन के तमाम क्त्े ्ो्मे्उस समय रानते थे. मिबूब ख़ान ने उसे 'तक़्दीर’ मे् हदग्गर प््हतभाएं सह््कय थी्. हिंदी हसनेमा, हरसे अब बॉलीवुि किते िै,् मे्भी िर तरि पिली बार पेि हकया. ख़ान के साथ उसने चार ह्फ़क्मे् की्. रारकपूर के साथ पंद्ि, के िुनरमंदो्का रमावड़ा था. इस काल की नाहयकाओ्के बारे मे्बात हदलीप कुमार के साथ सात. हदलीप-रार मे् करे् तो सुरैया, नरहगस, मधुबाला, नूतन, नरहगस को लेकर प्ह्तस्पध्ाज थी. 'अंदार’ मे् विीदा, वैरयंतीमाला, मीना कुमारी, गीता तीनो्थे और यि प्म्े ह््तकोण की एक पुरअसर बाली, उषा हकरण, साधना के बारे मे् कुछ ह्फ़क्म थी. बाद मे् नरहगस रार कै्प की िो किे हबना बात निी्बनती. सुरयै ा नरहगस से गयी्. उनकी रोड़ी ने नरहगस को अहभनेत्ी के पंद्ि हदन छोटी थी्. नूतन से अहभनय मे् र्प मे् हवकहसत िोने का ख़ूब मौका हदया. ् का प्त् ीक हचह्न 'बरसात’ मे् उन्नीस थी्और सौ्दय्जमे्मधुबाला, मुनव्वर आरके ह्फ़क्मस दोनो् की एक प््णय भंहगमा पर िै. लेहकन सुक्ताना, नलहन रयवंत उनसे बीस थी्, इसने नरहगस को मुकत् आकाि मे्पर फैलाने लेहकन सरने का उनका तरीक़्ा, बातचीत की से बाहधत हकया. 'रागते रिो’ के अपने नफ़्ासत सबसे अलग थी और इस सबके एकमात् ् आह् ख़ री सीन मे् वे 'रागो मोिन ऊपर उनका सुरीला कंठ. वे र्पिले पद््ेकी पिली ग्लमै र गल्जथी्. िायद हरतनी िोिरत प्यारे’ गाते िुए रारकपूर को पानी हपलाकर और दौलत उन्िे्हमली, उतनी हकसी को निी्. उनके कैम्प से हवदा िुई्. मिबूब ख़ान की लोग उनके आहिक तो थे िी, प्म्े नाथ और 'मदर इंहिया’ ने उन्िे् उस ऊंचाई पर खड़ा ं ा. रिमान भी उन्िे् िाहसल करना चािते थे. वे कर हदया रिां तक कोई निी्पिुच मधुबाला का वास््हवक नाम मुमतार पृथ्वीरार कपूर की नाहयका भी रिी् और उनके दो बेटो्रार और िम्मी की भी. सिगल रिां बेग़म् था. मीना कुमारी की तरि वे भी के साथ काम करने की इच्छी 'तदबीर’ मे्पूरी बाल कलाकार के र्प मे् ह्फ़क्मो् मे् आयी्. ् प्म्े ी ने उन्िे्मधुबाला िुई. दोनो् 'उमर खय्याम’ और 'परवाना’ मे् इंदौर के कहव िहरकृषण भी आये- गायक अहभनेता और गाहयका नाम हदया. मधुबाला रैसी सुंदर और कोई अहभनेत्ी साथ-साथ. सुरयै ा ने नाहयकाओ्को ताहरका निी् िुई. हदलीप कुमार से उनकी िान िौकत के सलीके हसखाये. गह्मयज ो्मे्वे लोनावाला चली राती. रिां उनका बंगला था वि अब सुरयै ा रोि िै. रारकपूर-नरहगस, हदलीप कुमारमधुबाला के प्म्े के कारण ह्फ़क्मो्मे्रान पड़ राती थी. सुरयै ा का देव आनंद के साथ यिी आलम था. उनके सिपाठी रारू भारतन को एक बार उन्िो्ने अपनी प्म्े गाथा सुनायी थी. देव आनंद ने आकािवाणी के हविेष रयमाला काय्क ज म् मे्अपने साथ काम करने वाली नाहयकाओ् का हज़क्् हकया, पर हरस नाम को सब सुनना चािते थे वि हछपा गए. थोड़ी ख़ामोिी के बाद बोले हक एक नाम तो मै्भूल िी गया, सुरयै ा का और हफर गुनगुनाने लगे, 'लेके पिला पिला प्यार, भरके आंखो्

चा

उनकी अनेक ह्फ़क्मे् दद्ज से हलपटी िुई िै्. हदलचस्प बात यि िै हक हदलीप कुमार के साथ की 'कोिेनरू ’, 'आज़ाद’ रैसी ह्फ़क्मो्मे् वे काफी खुिनुमा और हदलकि िै.् वे अपनी आंखो् और आवाज़ से अहभनय करती थी्. उनकी संवाद अदायगी अनूठी थी. 'साहिब ु ाम’ की छोटी बिू का हकरदार क़्रीबी थी, रो 'तराना’, 'अमर’, 'संगहदल’ बीबी और ग़्ल मे् ख़ूब नज़र आती िै. 'तराना’ का अहनल उनके असली रीवन की सच््ाई बन गया था. हवश््ास के संगीत संयोरन मे्प्म्े धवन का वे बिुत पीने लगी थी्. वे हनरंतर सुख की हलखा और तलत-लता का गाया गीत 'नैन तलाि मे् रिी्. 'बैरू बावरा’ उनकी पिली हमले नैन िुए बावरे’ मे्उनका प्म्े देखते िी सफल ह्फ़क्म थी हरसके हलए पिला ह्फ़क्म बनता िै. 'नया दौर’ मे् बीरआर चोपड़ा से फ़ेय् र अवाि्जउन्िे्हमला. कमाल अमरोिी से मामला फंसा और हदलीप ने भी उनके उन्िो्ने प्यार हकया. हनकाि िुआ पर िादी ह्ख़लाफ़् कोट्जमे् गवािी दी. यिां से दोनो् के चली निी्. मीना बेितरीन अदाकारा और रास््े अलग िुए. लेहकन 'मुगल-ए-आज़म’ हनिायत दद्जमंद इंसान थी. 'दायरा’, दोनो्की बेितरीन ह्फ़क्म िै. 'मोिे पनघट मे् 'पहरणीता’, 'चांदनी चौक’, 'एक िी रास््ा’, नंदलाल छेड़ गयो रे’ और 'प्यार हकया तो 'हमस मेरी’, 'हदल अपना और प््ीत परायी’, िरना क्या’ गानो् के अलावा कई दृश्यो् मे् 'भाभी की चूहड़यां’, 'कैसे किूं’, 'मै् चुप रिूगं ी’, 'चार हदल चार रािे’् , 'बिू बेग़म् ’, 'मेरे षहंदी षसनेमा के पहले सुनहरे अपने’ 'पाक़्ीरा’ आहद ह्फ़क्मो्मे्काम हकया. ीरा’ के हरलीज़ के आसपास िी चालीस दौर की अषभनेित््यो् ने षसनेमा 'पाक़् बरस मे्उनकी मृतय् ु िो गयी. गुलज़ार उनके को पषत परमेश्र और सती करीबी रिे िै्और उनकी 'मेरे अपने’ ह्फ़क्म साषित््ी की छषियो् से मुक्त मे्उन्िो्ने वृद्ा का रोल हकया था. एक बार िो्ने गुलज़ार से किा था हक उन्िो्ने अपनी षकया. इस दौर की नाषयका ने उन् रवानी 'पाक़्ीरा’ को दे दी (यि कई सालो् बहुत से बंधनो् को तोड़ षदया मे्बनी थी) और बुढापा 'मेरे अपने’ को. नूतन एक सिर और उन्मकु त् अहभनेत्ी और आज की बेधड़क रिी िै.् कैसे भी हकरदार को अपनी प्ह्तभा से अषभनेष्तयो् का माग्ि प््शस्् असाधारण और यादगार बना देने की सलाहियत उनमे्रिी िै. 'तेरे घर के सामने’, षकया. 'हदक्ली का ठग’, 'पेइंग गेस्ट’, 'अनाड़ी’, उन्िो्ने कमाल हकया िै. मधुबाला ने अनेक 'छहलया’ रैसी िक्की-फुक्की ह्फ़क्मे् िो् या ह्फ़क्मे्की्. 'मिल’, 'चलती का नाम गाड़ी’, 'सुराता’, 'बंहदनी’ रैसी संरीदा ह्फ़क्म,े् नूतन 'काला पानी’, 'बरसात की रात’ आहद. अंतत: िमेखा कामयाब रिी िै.् ग्लमै र के हबना भी वे उन्िो्ने हकिोर कुमार से िादी की हरन्िे्उनके िमेिा अगली पंलक् त की अदाकारा रिी्. िादी के बाद अहभनेह्तयां सफल निी्िोती थी्. इनमे् हपता 'बहनया दामाद’ किते थे. हदलीप कुमार अगर ट््ेरिी हकंग थे तो अपवाद नूतन रिी्. िादी के बरसो् बाद भी ज उन्िे्देखने चाव से टॉकीर पिुच ं ते रिे. मीना कुमारी हनस्संदेि ट््ेरिी क्वीन थी्. दि्क

13

उन्िे्पांच बार ह्फ़क्म फ़ेय् र अवाि्जहमले. विीदा रिमान को सत्यहरत रॉय 'इंटेलीरे्ट ब्यूटी’ किते थे, वैसे िी रैसी सुहचत््ा सेन, रो हबमल रॉय की 'देवदास’ मे् पारो बनी थी् और बांग्ला ह्फ़क्मो् की इस मिानाहयका ने विां उत्म् कुमार के साथ िी तीस से ज्य् ादा ह्फ़क्मे् की्. विीदा यिां उन्िी् की टक्र् की अहभनेत्ी रिी िै.् वे गुरद् त््की खोर थी्और िुरआ ् त उन्िो्ने 'सीआईिी’ मे् खलनाहयका के हकरदार से की थी. गुरद् त््के हदलो-हदमाग़् पर वे छा गयी थी्. उनकी 'कागज़ के फूल’, 'प्यासा’ और 'साहिब बीबी और ग़्ुलाम’ मे् वे थी्. विीदा ने 'धरती’, 'ितरंर’, 'पिचान’ रैसी साधारण ह्फ़क्मे्भी की िै,् लेहकन उनके पास बिुत अच्छी ह्फ़क्मे् भी िै:् 'तीसरी कसम’, 'ख़ामोिी’, 'आदमी’, 'सोलिवां साल’, 'काला बाज़ार’, 'राम और श्याम’, 'हदल हदया दद्ज हलया’, 'फाक्गुन’, 'चौदिवी्का चांद’ आहद. पर इन सबसे ऊपर िै 'गाइि’. वैरयंतीमाला ह्फ़क्मो्मे्'बिार’ के साथ आयी्. सन 1955 मे् वे 'देवदास’ मे् हदलीप कुमार के साथ थी्. उन्िे्इसके हलए सिायक अहभनेत्ी का ह्फ़क्म फ़ेय् र अवाि्जहमला था रो उन्िो्ने निी् हलया क्यो्हक वे मानती थी् हक उनकी भूहमका नाहयका से कमतर निी् थी. हबमल रॉय ने भी बाद मे्किा हक इस ह्फ़क्म मे् दो नाहयकाएं थी्. हदलीप कुमार, हरनके साथ 'पैगाम’, 'संघष्’ज , 'लीिर’, 'नया दौर’ और 'गंगा रमुना’ ह्फ़क्मे् उन्िो्ने की्, उन्िे् अनगढ िीरा मानते थे. 'नाहगन’, 'नयी हदक्ली’, 'आिा’, 'एक झलक’, 'नज़राना’, 'अमरदीप’, 'संगम’, 'आम््पाली’, 'ज्वल े थीफ’ आहद ह्फ़क्मो् मे् उनकी भूहमका ज़बद्जस् थी. वे कुिल नृत्यांगना िै् और उनकी चाल मे्िी गज़ब लय रिती थी. इस युग की ताहरकाओ्की फेिहरस््लंबी िै. उषा हकरण िै,् हरनके अहभनय के हदलीप कुमार कायल थे. िह्मजला टैगोर एक नयी बयार लेकर आयी थी्. पह््दनी नृतय् ांगना और कुिल अहभनेत्ी थी्. 'हरस देि मे्गंगा बिती िै’ के हलए उन्िे् ह्फ़क्म फ़े्यर अवाि्ज हमला था. संधय् ा, नाहदरा, रमुना, सरोरा देवी, बेग़म् पारा, बीना राय, नहलनी रयवंत, श्यामा, िकीला, माला हसन्िा, आिा पारेख ने कई सौ ह्फ़क्मो् मे् काम हकया. लड़हकयो् की फैिन को नया सलीका देने वाली साधना थी् रो हनस्सदं िे संरीदा अहभनेत्ी थी्. सायरा बानो, हनर्पा रॉय, अहनता गुिा, नाहदरा, हनम्मी, कुमकुम, लीला नायिू, नंदा, कक्पना, हसम्मी, तनूरा, इंद्ाणी मुखर््ी रैसी अहभनेह्तयो्का इस युग को स्वण्क ज ाल बनाने मे्कम योगदान निी्था. (लेखक वहरष््पत्क ् ार िै.्)


www.shukrawaar.com n

पयंाटन

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

करते. मेरा िी उदािरण लीहरये-मेरे पास कोई कार निी्िै. मेरे दोनो्बच््ेभी साइहकलो्का िी उपयोग करते आ रिे िै.्‘ हटना सैबब् ी बेिद स्वस्थ, सुदं र और खूब लंबी महिला िै.् उन्िो्ने किा, ‘देहखये यि हसफ्कपय्ावज रण की सुरक््ा और संरक्ण ् के हलये िी बड़्ा कदम निी्िै, िमारे व्यल्कतगत स्वास्थय् और संपण ू ज् मानव सभ्यता के हलये भी मित्वपूणज्िै.’ कोपेनिेगन को िेहनि लोग दुहनया की ‘साइहकल-रारधानी’ किते िै.् इसमे् अहतियोल्कत निी्िै. दुहनया मे्पिली बार इसी ििर मे्‘साइल्कलंग एम्बस े् ी’ स्थाहपत िुई िै. इस संसथ ् ान के अध्यक्् िै-् ट््ॉल एंिरसन.

हवश््युद्से िुर्िुआ. युद्के बाद, ऊर्ा-ज संकट के दौर मे् लोगो्के बीच ये खासतौर पर लोकह््पय िुई.् पर सन 1960 के दिक मे् अचानक यिां हवकहसत िो रिी साइहकल संसक ् हृ त पर अचानक ‘िमला’ सा िो गया. ऐसा लगा हक चमचमाती रंग-हबरंगी कारो्के आगे साइहकले् गायब िो रायेग् ी. कारो् का उत्पादन तेरी से बढ्ा. उस समय की पहरविन व्यवस्था पर कारो्ने मानो धावा बोल हदया िो, रैसा आर भारत मे् हदख रिा िै. लगा हक ििरो्-कस्बो्का सारा पहरदृशय् बदल राएगा. पर पय्ावज रण और रलवायु-पहरवत्नज से रुड़्े मुद्ो्पर हरस तरि इस देि मे्नए ढंग का रनरागरण उभरा, उसने बड़्ी बड़्ी पूर ं ी-समह्थतज कारो्की संसक ् हृ त को कड़्ी चुनौती दी. अंततः उसे सफलता भी हमली और साइहकले्सड़्को् पर हफर छाने लगी्. िेहनि हसहवल सोसायटी की पिल ने इसमे्बड़्ी भूहमका हनभाई. अपने प्व् ास के एक खास हदन की बात बताऊं. िेहनि कक्चरल सेट् र मे्िमारी बैठक दोपिर तक खत्म िो गयी. मििूर हसटी िॉल स्कव् ायर और हटवोली गाि्न्े रैसे इलाको्मे् अकेले राने की इच्छा िुई. िम अकेले िी ििर मे्मंिराते रिे और सच पूहछये, उस हदन िमने चारो्तरफ साइहकलो्का रलवा देखा. कइयो् से साइहकल सवारी के फायदे-नुकसान पर चच्ाज भी की. फायदे छोड़्नुकसान बताने वाला कोई निी्हमला. ििर के बीच बिते बैक-वाटर मे् चलते छोटे-मझोले या बड़्े मोटरबोटो्स्टीमरो्मे्याह््तयो्के साथ उनकी साइहकलो् के हलये भी पय्ापज त् रगि देखी. िर मोटरबोट मे्याह््तयो्की संखय् ा के बराबर साइहकलो्की कतारे्थी्. यिी िाल रेलगाहियो्, खासतौर पर मेट्ो या ट्ब्ू स ् मे्भी िै. एक और बात रो मुझे रो बेिद पसंद आई, यिां के लोग अपनी साइहकल को प्ह्ेमका की तरि री-रान से मुिब्बत करते िै.् साइहकल के बारे मे् उनसे बात कीहरये तो वे अपनी उसकी खास संरचना, उसकी हिराइन, ब््ािं या उसे तैयार करने वाली कंपनी की उपलल्बधयो् की पूरी किानी कि देग् .े

संसथ ् ान ििर-योरना, साइहकल संसक ् हृ त, साइहकल-ट्क्ै स ् , साइहकल-हनम्ाण ज और उपकरण-सुधार योरना एवं सुरक््ा और स्वास्थय् रैसे मसलो्पर काम करता िै. इसने यूरोप, अमेहरका (खासकर न्ययू ाक्)क और एहिया(खासतौर पर चीन) के साइहकलफेिरेिनो्या संबद््संसथ् ाओ्से रीवंत संपक्क बना रखा िै. मिानगर मे्साइहकल-एिवोकेसी के कई केद् ् भी काम कर रिे िै.् इनमे् ‘कोपेनिेगन साइहकल हचक’ सबसे प्म् ख ु केद् ् माना राता िै. िेनमाक्क मे् साइहकलो् की लोकह््पयता अचानक निी्बढ्ी िै. इसका हसलहसला दूसरे

कोपेनिेगन मे्इस नवरागरण को रनता और सरकार का बराबर का सियोग हमला िै. इसने हसफ्क पय्ावज रण और ऊर्ाज संकट का समाधान िी निी्पेि हकया, सामुदाहयक और व्यल्कतगत स्वास्थय् के अनेक उलझे मसलो्को भी िल हकया िै. िेनमाक्कके इस सफल प्य् ोग से क्या भारत रैसे हवकासिील देि सबक लेग,े् हरनकी ज्यादातर सड़्के्इन हदनो्बड़्ी कारो् के हिसाब से बनायी रा रिी िै,् रिां ििरी मध्यवग््ीय समारो् मे् मोटापा और मधुमिे के िमले लगातार बढ्रिे िै!् (लेखक की पुसक ् ‘ह््कस्टहे नया मेरी रान’ का एक अंि)

साइलकलोंपर मचलता मुलक ं

उव्मल ण श े

साइहकलो् पर सवार िोकर सड़्को्पर हनकलती िै. रंगस वक्त मै् िेनमाक्क की रारधानी हबरंगी साइहकलो्का रेला लग राता िै. इनके ्ै बने िै.् ऐसी बिुत सारी साइहकले् कोपेनिेगन मे् िू.ं बेिद सुिाने मौसम मे् अलग ट्क कोपेनिेगन और भी सुदं र लग रिा िै. इस ििर हदख रिी िै,् हरनमे्छोटे बच््ो्को आराम से का आकष्ण ज हसफ्क इसकी सुदं र प््ाकृहतक- सोते िुए ले राने के हलए बाक्स बने िै.् ऐसी भौगोहलक ल्सथहत निी्िै. इसे आकष्क ज बनाने साइहकलो् को किी् महिलाये् तो किी् पुरष् मे् इसके अपने समार, आम लोगो् की चलाते हदख रिे िै.् मुझे लगता िै, िेनमाक्कमे् ज कारोबार मे्हनत-नये खोर सभ्यता-संसक ् हृ त और रीवनिैली की अिम साइहकल-हनम्ाण और िोध िो रिे िै.् तभी तो इतने नये-नये भूहमका िै. इसकी साफ-सफाई, िहरयाली, अं द ार और हिराइन की साइहकले्सड़्को्पर झीले,् समंदर, बेिद सुसव् ादु भोरन परोसने हदखाई दे रिी िै . ् किी् हबक्कल ु िक्की वाले रेसर् ां, हथयेटर, कला-दीघ्ायज े् और साइहकलो् की ते र रफ् त ार लोगो् को लुभाती िै ऑपेरा, ये सारे इस ििर को सुदं र बनाते िै.् तो किी् अपे क ा ् कृ त हिराइनदार साइहकलो् की लेहकन ये चीरे्दुहनया, खासकर यूरोप के कई और ििरो्मे्भी हमल रायेग् ी. रो चीर यिां सुदं रता आकह्षतज करती िै. ये साइहकले्यिां मुझे हबक्कल ु नायाब सी हदख रिी िै और मिर आवागमन का साधन निी्िै,् ये िेहनि सबसे ज्यादा आकह्षतज कर रिी िै, वि िै-यिां समार और यिां की समृद् सभ्य़ता मे् नये की सड़्को्पर फराट््ेसे चलती साइहकले.् देि मूकय् रोड़्रिी िै.् रीने का पूरा सलीका बदल के दूसरे ििरो्-उपनगरो्, यिां तक हक गांवो् चुकी िै.् ििर के लोग िो्या गांव या उपनगरो् भी साइहकलो्का रलवा लगातार बढ्रिा िै. के, ये साइहकले्सबकी रीवन िैली का हिस्सा बन चुकी िै.् कोपेनिेगन मे् तो आहधकाहरक तौर साइहकलो् ने कारो् को कोपेनहेगन मे् साइषकलो् ने पीछे छोड़् हदया िै. वे कारो् को पीछे छोड़् षदया है. िे पर मैन् े पता करने की कोहिि की. पता चला हसफ्क संखय् ा मे् आगे कोपेनिेगन निी् िै,् अपनी चमक षसफ्फ संख्या मे् आगे नही् है्, हक और आकष्ण ज मे् वे अपनी चमक और आकर्िण मिानगर (ग्ट्े र हसटी) बेिकीमती कारो्को भी मे् बेशकीमती कारो् को भी मात की लगभग 37 फीसदी से ज्यादा आबादी इस मात दे रिी िै.् इन बड़्ी दे त ी है . ् बड़् ी कारो् की तरफ वक्त अपने कामकार कारो् की तरफ सड़्को् पर ज्यादा लोगो् की सड़्को् पर ज्यादा लोगो् की के हलए यातायात के तौर पर साइहकलो् का नरर निी् राती. कारो् नजर नही् जाती. सिारा लेती िै. िेष के मामले मे्वैसे भी यि आबादी लोक-पहरविन-सरकारी बसे,् अपने देि रैसा निी् हक लोग हकसी बड़्ी नौकाएं , स् थ ानीय रे ल या मे ट ो ् आहद या हफर हवदेिी कार को आंखे्फाड़्-फाड़्कर देखगे् .े तमाम तरि की छोटी-बड़्ी-मझोली कारे्यिां हनरी कारो्के रहरये यात््ा करती िै. िर रेलटैलक् सयो् के र्प मे् चल रिी िै.् िायद, मेट्ो और नौका आहद मे्साइहकल-सवारो्की इसीहलए अपने देि की तरि कारो्के नये-नये सिूहलयत के हलए अलग स्थान बनाये गये िै् मॉिल या ब््ािं मे्यिां लोगो्की ज्यादा र्हच ताहक वे अपनी आगे की यात््ाओ्के हलए अपने निी्िै. वे नयी-नयी िैली की साइहकलो्पर साथ साइहकले्ले रा सके.् अगर कोपेनिेगन अपना लक्य् पाने मे् सफल रिा िै तो सन ज्यादा गौर करते नरर आते िै.् ििर की एक बड़्ी आबादी अल-सुबि 2017-18 तक साइहकलो् से सफर करने

वालो्की तादात 55 से 60 फीसदी िो रायेगी. पूरी दुहनया के हलए यि एक चमकदार हरकाि्ज िोगा. कोपेनिेगन मे्यि चमत्कार यूं िी निी्िो रिा िै, इसके पीछे 50 सालो्की सुसगं त नगरयोरना की अिम भूहमका िै. ‘ग्ट्े र कोपेनिेगन’ और आसपास के इलाके मे्िर सड़्क के साथ साइहकलो्के हलए अलग रास््े (ट्क ्ै ) बनाये गये िै.् इसकी लंबाई 412 हक.मी. से कुछ अहधक िै. सुरक््ा के इतने बेितर बंदोबस्् िै् हक सबसे कम दुघटज् नाये् साइहकलो्वालो्की िोती िै.् स्कल ू ी बच््ो्और उनके अहभभावको् को साइहकल-सवारी के प्ह्त आकह्षतज करने के हलये कई रचनात्मक योरना बनायी् गयी् िै.् हसफ्क कोपेनिेगन मे् स्कल ू ी बच््ो् के साइहकल-पथ को सुरह््कत और आरामदायक बनाने के हलए िाल िी मे्5 करोड़्िेहनि मुद्ा खच्जकी गयी. मिानगर मे् 96 फीसदी स्कल ू ी बच््ो्के पास साइहकले्िै,् 55 फीसदी बच््ेरोराना साइहकलो्से िी अपने स्कल ू राते िै.् एक अनुमान के मुताहबक ििर के अंदर्नी हिस्से मे्सुबि के वक्त लगभग 35 िरार साइहकले्एक साथ सड़्को्पर िोती िै.् इन पर चलने वाले िोते िै-् पांच साल के बच््े से लेकर 85 साल के बूढ.्े साइहकल सवारो्की इतनी बड़्ी संखय् ा के चलते कोपेनिेगन की सुबि वाकई देखने लायक िोती िै. ििर के अनेक चौरािो् या ट्ह्ैफक हसगनलो् पर मैन् े देखा हक ‘ग््ीन-लाइट’ िोने पर सबसे पिले साइहकल-सवार हनकलते िै.् कारे् बाद मे् चलती िै.् अपने कोपेनिेगन प्व् ास के दूसरे हदन कोपेनिेगन की वास्क ्ु ार हटना सैबब् ी से मुलाकात िुई. मैन् े साइहकल सवारो्की भारी संखय् ा के बारे मे्पूछा तो वि बताने लगी्हक ‘इन हदनो् ििर के अंदर्नी इलाके मे् 55 फीसदी आबादी साइहकलो्से चल रिी िै. कुछ समय बाद िायद पूरे मिानगर मे् िम यि आंकड़्ा छू लेग् .े अनेक पहरवारो् के पास तो कारे् िै् िी निी्. ऐसा निी् हक वे कार निी् खरीद सकते पर वे इसकी रर्रत निी्मिसूस

15


16

www.shukrawaar.com n

17 फरवरी - 23 फरवरी 2017

कंयोंबमबम हुआ गिबंधन

नीरज वतवारी

लखनऊ. दूसरे चरण के मतदान के बाद सपा-कांग्ेस गठबंधन के िौसले रारनीहतक हवश्लेषको् को बुलंद नरर आ रिे िै.् इस मुलस् लम बािुकय् क्त्े ्मे्अहधकतर वोट उन्िे् भारपा के हखलाफ मे् राता िुआ नरर आ रिा िै तो बसपा के सोिल इंरीहनयहरंग का फीका िो चला आकष्जण भी उन्िे्इस समीकरण के बनने का कारण हदख रिा िै. दूसरे चरण मे् सिारनपुर की बेिट, नकुर, सिारनपुर नगर, सिारनपुर, देवबंद, रामपुर महनिारन, गंगोि तथा हबरनौर हरले की नरीबाबाद, नगीना, बरिापुर, धामपुर, नेितौर, हबरनौर, चांदपुर, नूरपुर मे्मतदान आयोहरत हकया था. इस दौरान 11 हरलो्की 67 सीटो् पर लोगो् ने अपने मताहधकार का प््योग हकया. इस बीच हनव्ाजचन आयोग के मुताहबक, कुल 65.5 प््हतित मतदान दर्ज हकया गया और इसी के साथ 720 उम्मीद वारो् का भाग्य ईवीएम मे् कैद िो गया. आयोग के मुताहबक, िाम पांच बरे तक बरेली मे्62.17 फीसदी, िािरिांपुर मे्65 फीसदी, लखीमपुर खीरी मे्68.51 फीसदी, पीलीभीत मे् 65.62, फीसदी, बदायूं मे् 61 फीसदी मतदान िुआ. मुरादाबाद मे् 64.30 फीसदी और सिारानपुर मे् 71 प््हतित मतदान िुआ. समारवादी पाट््ी के प््वक्ता रारे्द् चौधरी ने किा , पिले चरण के बाद दूसरे चरण के मतदान मे्भी साइहकल अपनी बढत

बनाए िुए िै. 67 हवधानसभा क््ेत्ो् के िुए मतदान मे् समारवादी पाट््ी एवं कांग्ेस गठबंधन के 50 प््त्याहियो् की रीत सुहनह््शत िै. 'दूसरी तरफ कांग्ेस नेता हसरार मे्िदी ने किा हक पह््शम को खबर हमल रिी िै उसके मुताहबक अक्पसंखय् को्ने सपा कांग्स गठबंधन को पुररोर समथ्जन हदया िै .गठबंधन की सरकार तय िै. पह््शम के कई हरलो्मे्तैनात रि चुके पूव्ज आईपीएस अहधकारी िैले्द् प््ताप हसंि किते िै्, ‘दूसरे चरण का मतदान सपाकांग्ेस के गठबंधन को बल देता िुआ नरर आ रिा िै. इसका बड़ा कारण यि िै हक यि क्त्े ्मुलस् लम बािुकय् िै. यिां पर लोग भारपा को तथाकहथत तौर पर िी स्वीकार करते िै.्’ वे अपने तक्क को हवस््ार देते िुए किते िै्, ‘बसपा इस बार अपने सोिल इंरीहनयहरंग के आकष्जण से मतदाताओ्को हरझाने मे्भी कामयाब निी्िो सकी िै. ऐसे मे्मतदाताओ् ने सपा-कांग्ेस गठबंधन को स्वीकार करते

नाले बंद हों तो गंगा साफ़ हो शुकव् ार संवाददाता

लखनऊ. से्टर फॉर साइंस ऐ्ि एन्वायरमेट् की ओर से 'क्या गंगा कभी साफ िोगी' िीष्क ज पर मंगलवार को रारधानी के एक हनरी िोटल मे् एक काय्जक्म का आयोरन हकया गया था. इसमे्गंगा ऐक्िन प्लान पर कई तरि के सवाल उठे. आईआईटी कानपुर के प््ो. हवनोद तारे ने सुझाव हदया हक नदी की सफाई तभी िोगी, रब नाले साफ िो्गे. इसके हबना नदी की सफाई की कवायद बेकार चली राएगी. गौरतलब िै हक इस काय्जक्म का आयोरन ऐसे समय पर हकया गया था रब उत्र् प्द् ि े मे्चुनाव का मािौल गम्जिै और भारपा इस भावी प््ोरेक्ट के रहरए मतदाताओ्को हरझाने की कोहिि मे्भी रुटी िुई िै. इस अवसर पर प््ो. हवनोद ने किा हक सरकार नालो् की सफाई पर ध्यान निी् दे रिी. नालो्की गंदगी हफर से नदी मे्राएगी तो नदी साफ कैसे िोगी. प््ो. हवनोद ने किा हक गंगा को साफ करने के हलए दो बार ऐक्िन प्लान बना. िरारो् करोड़् खच्जिुए. अब नदी हफर से साफ की रा रिी िै. इस बार भी बरट का आंकलन कुछ ऐसा िी िै, लेहकन 'नमाहम गंगे हरवर बेहसन एरेस ् ी' मे् बैठा एक भी व्यल्कत गंगा की रानकारी निी् रखता. विी्, सरकारो्और ििरी हनकाय का RNI- DELHIN/2015/ 65658

ध्यान नदी की सफाई के बराय अहधक से अहधक र्पया रुटाने पर िै. उन्िो्ने किा हक एनरीटी तक को इस मुद्े पर के्द् को फटकार लगानी पड़्ी िै. पय्ावज रण हविेषज््राकेि रायसवाल ने किा हक कानपुर मे् गंगा बैरार से रोराना पांच करोड़्लीटर पानी रोराना हलया रा रिा िै. अभी िालात ये िै्हक नदी को पैदल पार हकया रा सकता िै. 2030 तक यि आंकड़्ा 1600 एमएलिी पिुंच राएगा तो गंगा मे् पानी िी निी्बचेगा. उन्िो्ने किा हक गंगा मे् कम से कम 50 फीसदी हिमालयन वाटर िोना चाहिए. सीएसई के वाटर प््ोग््ाम के िायरेकट् र सुरि े रोहिला ने किा हक नमाहम गंगे पहरयोरना के तित सरकार ने गंगा हकनारे के पांच हकमी पहरहध के 180 ििरो् को हलया िै, लेहकन केवल इससे कुछ निी् िोगा. नदी के आसपास और अहधक दूरी तक के 600 ििरो्को लेना िोगा. गंगा मे्हमलने वाली दूसरी नहदयो् पर भी फोकस करना िोगा. इनकी सफाई निी्िुई तो गंगा हफर से गंदी िो राएगी. गंगा हकनारे बसे 600 ििरो् मे्60 के पास भी हसटी सैहनटेिन या मास्टर प्लान निी्िै. ऐसे मे्गंगा की सफाई दूर की कौड़्ी िै. काय्क ज म् मे्सीएसई के िांतनु पाढ्ी ने सीवेर मैनेरमे्ट मे् बेितर काम करने वाले ििरो्के बारे मे्रानकारी दी.

िुए उसे अपने वोटो् से नवारा िै.’ एक सवाल के रवाब मे्िैलदे् ्किते िै,् ‘पह््शम मे्यादवो्की संख्या भी कम िै. चूंहक, ऐसा माना राता िै हक यादवो् का ज्यादातर वोट सपा को िी राता िै. ऐसे मे्मुल्सलम बािुक्य इस क््ेत् मे् कांग्ेस और सपा का गठबंधन लोगो्को रास आया िोगा.’ विी्, वहरष्् पत््कार हसद््ाथ्ज कलिंस भी इस बात को स्वीकारते िै्हक दूसरे चरण के मतदान मे्गठबंधन को मरबूती हमली िै. वे किते िै्, ‘कुछ रगिो् पर राष््ीय लोक दल ने भारपा को कमरोर हकया िै. मगर ज्यादातर मुल्सलम मतदाताओ् ने गठबंधन को िी अपनी पसंद माना िै.’ वे किते िै्, ‘गठबंधन को लोगो् ने इसहलए स्वीकार हकया क्यो्हक यिां पर भारपा का ज्यादा तय वोट निी् िै. बसपा ने भी अपनी चमक इस बार कुछ खो सी दी िै. ऐसे मे्लोगो्के पास सपा-कांग्ेस का गठबंधन स्वीकार करना िी एक रास््ा रि गया था.’

यूपी में गुंडाराज कंयों -पाठक

लखनऊ. भारतीय रनता पाट््ी के प््देि मिामंत्ी हवरय बिादुर पाठक ने आर प््देि के मुख्यमंत्ी श््ी अहखलेि यादव से पूछा सवाल-आर का सवाल. 1अहखलेि यादव बताये्गे हक पांच वष्ज के िासनकाल मे्उनके द््ारा स्वीकृत बरट की हकतनी धनराहि खच्जिुई? रन सरोकार से रुड़े केन्द्ीय योरनाओ् की धनराहि खच्ज करने का प््हतित क्या रिा? रब धनराहि लक््यो् के हिसाब से निी् खच्ज िुई तो कैसा हवकास िुआ? िाँ हवकास िो रिा िै उत््र प््देि मे् अपराध का, गुण्िारार का, अहखलेि यादव रवाब दे्?

यूपी मेरा माई-बाप: मोदी

हरिोई. प्ध् ानमंत्ी नरेद् ् मोदी ने िरदोई की रैली मे् किा हक मै् यूपी से सांसद बना और यिां पर हमली रीत से देि को स्थाई सरकार हमली और गरीब मां का बेटा पीएम बना. उन्िो्ने किा हक यूपी ने मुझे गोद हलया िै. यूपी मेरा माईबाप िै. मै्माईबाप को निी् छोड्ग् ा. मै्भले िी गोद हलया िू,ं लेहकन यूपी की हचंता िै मुझ.े यिां की ल्सथहत बदलना मेरा कत्वज य् िै. इस कत्वज य् को हनभाने के हलए मुझे लोगो्का आिीव्ादज चाहिए. पीएम ने अपील की हक भारी बिुमत से यूपी मे् बीरेपी की सरकार बनाइए. वादा िै हक पांच साल के भीतर िर समस्या का िल खोरकर दूगं ा. मोदी ने आगे किा हक हपछले दो चरणो् के मतदान मे्अनुमान लगाने वालो्ने किा हक बीरेपी का ग््ाफ तेरी से बढ्ा िै. इसके हलए यूपी के लोगो्का धन्यवाद. मोदी ने किा हक वैज्ाहनको् ने कल इहतिास बनाया िै. उन्िो्ने किा हक दुहनया के िर अखबार टीवी ने भारत के इसरो के वैज्ाहनको्की तारीफ की. पीएम ने किा हक देि को नई ऊंचाइयो्पर ले राने के सभी प्य् ास कर रिे िै.् देि आगे बढ् राए, लेहकन यूपी को भी आगे बढ्ना िै. यूपी के हबना देि आगे निी्बढ्सकता िै. अगर यूपी हबिार से गरीबी गई तो देि से गरीबी गई. अगर यूपी से बेरोरगारी गई तो देि से भी बेरोरगारी चली राएगी. उन्िो्ने पूछा हक क्या कारण िै हक यूपी से गरीबी राने का नाम निी्ले रिी िै. लोगो्मे् कमी निी्िै, पैसो्की कमी निी्िै. संसाधनो् की कमी निी्, समाथ्यज् की कमी निी् िै, संकक्पो्की कमी भी निी्िै.अगर कमी िै तो यिां की सरकारो्के इरादो्की कमी िै. कांगस ्े

की सरकार रिी िो या सपा की सरकार िो, हकसी ने राज्य का हवकास निी्हकया. केवल वोट बैक ् संभालने मे् लगे रिे. केवल यिी काम हकया गया. यूपी को सपा बसपा कांगस ्े से मुकत् िोना िोगा, तब यूपी का भाग्य बदलेगा. पीएम मोदी ने समारवादी पाट््ी सरकार पर िमला करते िुए किा हक िर थाना समारवादी पाट््ी का काय्ाल ज य बन गया िै. थानेदार को भी केस दर्ज करने से पिले समारवादी पाट््ी नेता से इरारत लेनी पड़्ती थी. इससे मुलक् त के हलए सरकार बदलनी िोगी. गुिं ागद््ी करने वालो्को रोकने के हलए रर्री िै सरकार बदले. िांहत अगर चाहिए तो कानून व्यवस्था का हरम्मवे ारी से पालन िोना चाहिए. इसमे् रारनीहत निी् िोनी चाहिए. अपना पराया निी्िोना चाहिए. पूरे देि मे्रारनीहतक ित्याओ्मे्सबसे ज्यादा ित्याएं यूपी मे्िोती िै.् यि यूपी सरकार का काम बोलता िै या यि यूपी सरकार का कारनामा िै. रनता रनाद्नज की सुरक््ा के हबना हकसी का भला निी्िो सकता िै. िमारे देि मे्सबसे अहधक गैग् रेप की घटनाएं िोती िै,् तो वि भी उत्र् प्द् ि े िै. समारवादी पाट््ी से सवाल हकया, आप पर पहरवार वाले िै,् पहरवारवाद वाले िै.्.. क्या यिां की बिन बेटी आपकी बिन बेटी निी्िै.् यिां के नेता कैसा बयान देते िै.् यूपी को बदला रा सकता िै. यूपी मे् गैर-कानूनी िहथयारो् से रार हकया राता िै. यूपी मे्कट््ेका रार चलता िै. यिां पर इन िहथयारो्से 3000 लोग मारे राते िै.् इसका कारोबार कौन करता िै. क्या पुहलस कुछ निी्कर सकती िै.

जासूसी कांि में भाजपा नेता शावमल पूजा वसंह

भोपाल. मध्य प््देि कांग्ेस ने आईएसआई के हलए रासूसी करने के आरोपी ध्व्ु सक्सने ा पर आरोप लगाया िै हक वि प््देि के प््मुख हवपक््ी नेताओ्के फोन चुपचाप हरकाि्ज हकया करता था. पाट््ी के प््देि अध्यक्् अर्ण यादव ने िीरीपी ऋहष कुमार िुकल ् ा से मुलाकात करके इस मामले मे्भारपा के एक वहरष््नेता की संहलप्तता की रांच की मांग की. िालांहक उन्िो्ने हकसी का नाम निी् हलया लेहकन अगर सूत्ो् की माने् तो उनका सीधा इिारा प््देि के पूव्ज मंत्ी और भारपा के राष््ीय मिासहचव कैलाि हवरयवग््ीय की तरफ िै. गौरतलब िै हक हपछले हदनो्मध्य प््देि से हगरफ्तार हकये गये आईएसआई के हलए रासूसी करने वाले आरोहपयो् के भारपा से हरश्तो्की बात ने पाट््ी को एक पल के हलए भले िी स््ब्ध कर हदया था लेहकन आहखरकार दो हदन की चुप्पी के बाद पाट््ी ने अपनी लाइन स्पष््कर दी हक उनमे्से कोई भारपा का सदस्य निी्िै. अगर िोगा भी तो उसे हनकाल बािर हकया रायेगा. िालांहक पाट््ी का बयान तथ्यो्पर खरा निी्उतर रिा िै. क्यो्हक हगरफ्तार हकये गये युवको् मे् से एक ध््ुव सक्सेना खुद को भारतीय रनता पाट््ी की युवा िाखा भारयुमो की आईटी

सेल का अध्यक््बताता रिा िै. उसने सोिल मीहिया पर इसकी रानकारी दी िै. प््देि के मुख्यमंत्ी हिवरार हसंि चौिान, पाट््ी मिासहचव कैलाि हवरयवग््ीय समेत कई प्म् ख ु भारपा नेताओ्के साथ उसकी तस्वीर ने पाट््ी को सकते मे्ला हदया. गत नौ और 10 फरवरी को रब एटीएस ने मध्य प््देि के अलग-अलग इलाको् मे् छापेमारी कर पाहकस््ान की खुहफया एरे्सी आईएसआई के हलए रासूसी करने वाले 15 लोगो्को पकड़्ा तो पूरा देि स््ब्ध रि गया. यि एक बड़्ा नेटवक्क था हरसमे् बकायदा अपने टेलीफोन एक्सचे्र तैयार कर रखे थे. आरोहपयो्मे्से कई के रसूखदार रारनीहतक संबंध भी िै् हरनका प््दि्जन वे सोिल मीहिया पर तथा अन्य स्थानो्पर करते रिते थे. माकपा के राज्य सहचव बादल सरोर ने भारपा पर सीधा िमला बोलते िुए किा हक मुख्यमंत्ी हिवरार हसंि चौिान, गृिमंत्ी उमािंकर गुपत् ा और एक अन्य मंत्ी हवश््ास सारंग के साथ आरोपी ध््ुव सक्सेना की तस्वीरे् सामने आ चुकी िै्. ग्वाहलयर से हगरफ्तार व्यल्कत तो पाट््ी पाष्जद का हरश्तेदार िै.' उन्िो्ने किा हक आरएसएस और भारपा का असली राष््वाद यिी िै. उन्िो्ने अंग्ेरो् की मुखहबरी की और अब पाहकस््ान के हलए रासूसी के काम मे्लगे िै्.

स्वत्वाहधकारी, प््कािक और मुद्क: क््मता हसंि के हलए अमर उराला पल्बलकेिंस हलहमटेि, सी-21, 22, सेक्टर-59, नोएिा, उत््र प््देि से मुह्दत एवं दूसरी मंहरल, बी-146, िहरनगर आश््म, नयी हदक्ली- 110014 से प््काहित. संपादकः अंबरीि कुमार (पीआरबी अहधहनयम के तित समाचारो्के चयन के हलए हरम्मेदार) सभी कानूनी हववादो्के हलए न्याय क््ेत्हदक्ली िोगा. संपक्क: +91.8004903209, 9793677793 ईमेल: shukrawaardelhi@gmail.com

Shukrawaar newspaper 17 23 february 2017 medium resolution  
Read more
Read more
Similar to
Popular now
Just for you