Issuu on Google+

ूेस िवज्ञिप्त

गौ मांस िनयार्त खोलने से नाराज िविहप ने भेजा ूधान मंऽी को पऽ (योजना आयोग को भी चेताया, कहा माता के मांस का िनयार्त िघनौनी करतूत)

नई िदल्ली फ़रवरी 17, 2012। िवश्व िहन्द ू पिरषद ने भारत सरकार के पशुपालन िवभाग द्वारा गऊ मांस के

िनयार्त को खोले जाने की संःतुित पर अपनी कडी आपित्त दजर् करते हए ु ूधान मंऽी डा मनमोहन िसंह को एक

पऽ भेजा है । िविहप के विरष्ठ सलाहकार ौी अशोक िसंहल, उपाध्यक्ष ौी ओम ूकाश िसंहल व अंतरार्ष्टर्ीय महामंऽी ौी चंपत राय द्वारा हःताक्षिरत यह ज्ञापन ूधान मंऽी के साथ योजना आयोग के उपाध्यक्ष ौी मोन्टे क िसंह अहलूवािलया को भी भेजा गया है । ज्ञापन में यह मांग की गई है िक सौ करोड से अिधक भारतीयों की आःथा व िवश्वास का केन्ि, दे श की बिष आधािरत अथर्व्यवःथा की नींव, पयार्वरण की रक्षक व संिवधान तथा न्यायालयों के िनणर्यानुसार संरिक्षत गऊ माता के मांस के िनयार्त संबन्धी यिणत ूःताव को अिवलम्ब िनरःत िकया जाए। पऽ की ूित मीिडया को जारी करते हए ु िविहप िदल्ली के मीिडया ूमुख िवनोद बंसल ने बताया िक

बारहवीं पंच-वषीर्य योजना (2012-2017) के िलए भारत सरकार के पशुपालन व डे यरी िवभाग के विकर्ंग मुप ने

योजना आयोग को एक िरपोटर् ूःतुत की है िजसके अध्याय -12 के पैरा 12-3-1 के अन्तगर्त यह कहा गया है िक “वतर्मान में गऊ मांस िनयार्त पर ूितवन्ध है ; अत: आयात िनयार्त नीित में आवँयक संशोधन कर गऊ मांस के िनयार्त की ःवीबित दी जाए”। इस ूःताव पर अपनी कडी आपित्त दजर् करते हए ु िवश्व िहन्द ू पिरषद ने ूधान मंऽी

को िलखा है िक दे श की हिरत बांित व ःवेत बािन्त का आधार, गुरू गोिवन्द िसंह जी महाराज तथा छऽपित िशवा

जी महाराज के “गऊ, गरीव और धमर्” के संदेश, महात्मा गांधी के गऊ रक्षा के संकल्प, नामधारी समाज के गऊ ूःताव को वे तुरन्त िनरःत करें । रक्षाथर् बिलदान को सदा याद रखते हए ु ु ऐसे शमर्नाक, बेहू दे व दखदायी ज्ञापन में संिवधान के अनुच्छे द 48 में िनिहत राज्य के नीित िनदेर् शक िसद्धांतों में गऊबंस की रक्षा के संकल्प, अनुच्छे द 51ए(1)(जी) में िनिहत ूािणयों के ूित करुणा भाव संवंधी मौिलक कतर्व्यों तथा माननीय सवोर्च्च न्यायालय के गुजरात सरकार वनाम िमजार्पुर मोती कुरे शी कसाब जमात व अन्य के संम्बन्ध में िदए गये िनणर्य का िजब भी िकया गया है िजसमें केन्ि सरकार को, गऊ मांस िनयार्त से होने वाली हािनयों का वणर्न करते हए ु , इस पर रोक लगाने को कहा गया था। िविहप ने चेताया है िक यिद इस ूःताव को तुरन्त िनरःत नहीं

िकया गया तो संतों के नेतत्ृ व में िहन्द ू समाज सडकों पर उतरने को मजबूर होगा।

भवदीय

िवनोद बंसल, मीिडया ूमुख, िवश्व िहन्द ू पिरषद – िदल्ली । संपकर्:-9810949109


The Union Agriculture Ministry’s proposal to Planning Commission to lift ban on Beef Export,