Page 1

वर्ष – ०१, अंक -०२

कक भख ू से मरने से बेहतर है कक लड़ कर मरे …….

अप्रैल -२०१४


इस अंक में वर्ष 1 –अं -2 अप्रै

4112– ूल्य ए ए 41

ं ि

: अब्ि ु

यष

री

ं ि

दिल् ी

रशीि

: डॉ ु

हं .

नरें द्र

editor@utn.co.in,hr@utn.co.in ववधी

ब्यरू ो

र : वव य

नए ु

ि

शब न

रवीन ) ेय प्रिे श( िय्यब

र ेश

म् ि ीय शं र ,)

र गभे

खन

ोनभद्र

ो आरए ए

दह

श्र

ऐतिह

गप्ु ि ) ेिर प्रिे श(

नौश ि अं री 

अब

होि )दिल् ी(

गो

ोिी

अप्रव ी

िरू .............................04 और भ

ही प्रध न

ं ी

नहीं बनने िें गे...........................................................06

र गप्ु ि ु

दि

स्दिर

ि ी

ों ो

ेव

ो भी

ेंगे ह

इ ें ..12

ेटे स्ज ि-ए-हबीब..................14 ीवन

ि न !..................17

) ब ंु म(

) ेय प्रिे श(

यष य

ेट

ेय ं

यंि स्

ण ी

बच

े (

अब्ि ु

रशीि

ग ं रौ ी,

ेय प्रिे श ४८६८९० ।

जव ी

द्र ु

और प्र

द्व र आइडडय

वप्रंट ष बैढन

दु द्रि ि

ी ह

-४४ ीतनयर ए प्रिे श

े प्र

भी

फोटो

ेखनी

ि अवैितन

ग ं बोडष

आम ी

ग ं रौ ी

े , ोनी ेय

शि।

नोट-दय य क्षे ेख

ग ं रौ ी

ग ं रौ ी

म् ि एवं

ेय प्रिे श

ह ि होन आवश्य

भख ू

रने

े बेहिर है क

ड़

रें ………21

नहीं है ।

ररविषनीय हच।

भ र.......

ट इगर /अप्रै /2014

2


गरीब को सपना भी नसीब नहीं ने िे खन अच्छी ब ि है ेट क

भ्रष्ट

े बड़ी न िो े न

नैति

स्

ि

इ न

नेि ड

ै े

फण्ड नहीं। यह िे िे श

ु ोर्

नैति

भी इ

े ववरोध

ो अनुश

ी भी ि

भ्रष्ट

र िी िरह

ो नु़ ेक न

बढने

ब्र

े वव रध र

गरीब

रही है और

जि है ।

नि

क्य

। गरीबों ब े

दहज

जय खे

है स्

र वव र

िे ि है ।

म् ीिव री रद्द

य रहिे प्र ट हो

न े ो रोटी

रने

र िी

ए। धन

ुध र नहीं क य े

ि है िो ध ु र िो नहीं

ूिे फे न , प् ड़ ब

ने

नैति

ो शश

ि है और

रन , क्य

ग ि है ु

रें । क्यों न र ढ

री

जय

ि है स्

ि हर

े अनुए बि य

ो नहीं।

रिे और इ

ो शश

वव र ध र

ेि

अध रे आि ी ि

रह है । यह िरी रने

हो

ति, ध ष

े िहि ीूठे घोर्

ें यदि

हुुँ

रोटी

है क

शरीर और जवज

अ न

रहे र

े न िे

े इ

ो िो वक़् क

नीति

ंि न

द ि ि होने

ेक न गरीब

जय

नि

ै े

गज ु

य ह रे

नेि

ब ंध टुटि

ें न िो भ्रष्ट

व ह क्योंक

ए और ीठ ू बो ने व े नेि

नैति

रिे

र आग ि

ह े ही क्यों न ह

न और अ ने र

ुन वी व ि

ै टॉ

ोम ऐ ी व्यवज

न अवश्य

रही है और

ी च ि ीी र

नि

ेिी

ी भी व्यवज

ें आ

री है और

ोगों

े गम्भीर क

ोम

नीति हो गम है , िभी िो अध रे

ेक न जवज ें

र ष्रीय श ष है । क्य इन

नहीं

ों ी

ें वव र ी

र होिी

ेट भर हो ख ी

े बड़ी न िो

है

ोने क

न ो भ

ी र

े छु

ि है

ध न है , नहीं।

यष ि षओं

रिी क्योंक

हि ि

हिी है । इन तनयि

ेक न ज व ि व्यवज

ो इ

ी नींि

ें ।

ें गरीबी, भुख री और भ्रष्ट

रही है , ु ोर्

दयि रद्द ि

यह आ

ैन

र ह रे िे श

री है ,भूख

ब ह रे िे श

िे श

ु ोर्

नून नहीं और न ही िे श ि

जय

म नि र प्रय

जय

े ह

य िो

वव ररि िव्ु यषव्यवज होि

ें

इेिे़ा ़ नहीं ब

र बह

बेहिर होि र ढूढ़ने

े अभ व

ुट रहे हच यह श यि क

नैति

ी इ

ो है और न ही

ी श

ेि

ोम ऐ

व े र

ेट ख ने

िे हच और

र ब ंट र र

िे हच

दहये। नींि िब आिी है

ोम ब

हो रह है । बेश ी

ब ो भू ने

ए गहरी नींि

े बड़ी न िो

ु छ भी नहीं है

एगी। िरअ े न

री है । िभ ु षग्यवश यह

टोट

ेट भो न न

व य अफ ो ै

ोम बे

न िो भर

भी भर

नों

ो नींि नहीं आिी। गरीबी

ेक न

सम्पादकीय

यष रि

ेक न ह ि

अ ने

रिी है , क्योंक े आ र

री।

ो -वव र

गरीब

े ीो ड़ी

दिन गहरी नींि

रें

न ु व

े न

ो रौशन क य ोि और

ने िे ख

र ि रू

ी नदियॉ और

ि िो श यि िे श

े रो

गरीब

धंआ ु े

ड़ ने ुन व

े ब े न

ए म नि र हो र ही

ही ए

ेि । अब्दल ु रशीद (संपादक)

ट इगर /अप्रै /2014

3


दिल् ी

दि

अप्रव ी

*नई ददल्ली से नुरुल होदा * हच.अभी ह

ही

दहंिज ु िन क

आि ी

ध नी नम

दिल् ी हच . यह ुँ भ रि र ज्य

स्

ोग

आिे

ब े ज्य ि

गरीब

िरू होि

िरू ों

े हर हच.

हच.

है . इन

यह ुँ

ें

बंग े

ेय न नहीं र

बि

ि

गभग

ओख

दटष यों

रें िो इन े

ब रे

ें

स्श्

वोटर नहीं ररक्श

ट इगर /अप्रै /2014

रीब

ए फोर

िर

बह र

और

े रहने व े ऐ े

टी

िैय री

खे

क्यूररटी

दहें

डेव

ें ट

र िे हच.ि

ी वो ॉ

ग डष

े ! ये यू

ोगों

ढ़े रहे हच

ढ़े

हच

न ष े

रि

े 10:30

9:30

ररक्श

ें ज्य ि

ह न

ही र जिे दिख ने

ढ़ िे हच और

ुछ

इन ी

र रही हच.ये फोर

ंख्य

गभग 5000

भी हच

हच.आ

बूर

ंगठन ि इंडडयन यू ें

े दिल् ी

ए नौयव ु ों

ो भू

600000

बंग स्

रीव

ी ररक्श

ो ि हच . क्यों ी हच.

ोग यह ुँ

ो आ

दिल् ी

हच.इ

ब ि बन ने और

ों

ें

रने

न दिय

ेक न घर

ी गरीबी ने इदहें ऐ

दहोंने

ी अ ने

है . स्

ोम इंटर ीडडएट िो

ोम णे ए ु ट हच.

रीव

ें ख

ों

खे हच.

ए ए

बक

हच. अगर आ

नेति

ोम नहीं ये

र क

िो

और ररक्श

तनव ी नहीं हच ू

टी

ें आि ी बि ने व े

े होिे हच. ये

ए इन

बने

क य ,इ

ज्य ि िर गए.

बह र,यू ी,अ

ुख्य ं ी भ

ब दिल् ी

र बनी और

ह न नहीं होिी इन ररक्श

दिल् ी

स्श्

ी ह ि बहुि ही ये रही ोम

िरू

ि ि ि ऑटो व ो

ियतनय होिी हच. दिल् ी इन ी

ें

ें

िरू

ेंटर, ी

नौ री

फोर

ए भी ो आगे

ुछ

ढन भी

वै े र हे 4


िो

दहें ओ ेन

े णे ुए न

र येंगे.ये फोर एन ीओ र

ो क

कफर

नीति

खरीि

हच.इन

ेंटर िो रह

ववह र े

हच ें

दिए गहों

ी ु े

िरू भ इयों ेन हच,खि ु

भम

ेरे

िरू

ढ़

े और

रें . िो

ीढ़ी

क र नगर

ें शौ ि अ ी और ि रर ह नैन अ ी

एह न ेश े

ों

इंस् तनयर हच और ए

वव अच्छी

ट इगर /अप्रै /2014

और ढम

ेक न अब वे हच.स्

हच. शौ ि ) म्र े

बि य

र अ न

हि े

नहीं

क ये इ

र क

ववह र

ोड़ बहुि

ढ़

खुि

ॉब ें

यू

ुी े

ब ु ह

ं नी

ें

रूंग ये ररक्श ह ुँ

क र

90 ररक्श ु े े

े 25 बैनर

ोग ि े

े रहे हच, वहीीँ ओख ें

रीब 130

ररक्श े 20

ऊंग .

फोर

शक्ष

(

दिख रही हच.

हच स्

हिे ने

हूुँ

ज़ररये

ढ़

ी नगर

(

ि वी

नयी क र

47

ी आने

च और आगे ि

ढन

गरीबी

े शेख रज् रीब

रने नहीं

ढन

ि

ुहम् ि िज ी ) म्र20

यि अब

ें वो ररक्श न

वहीीँ

शौ ि अच्छी

े बि

ि े

य ये.

ो इन

ररक्श

ो भी व ह

व े

र क

बि ेग .

च अ ने बच् ों

ढ़ ं ग

ये. फोर

भववष्य

र वश

ो भी

ें

ढ़ रहे हच!

च इ

िो ने

ये ररक्श

ढ़

ी अह

ोग

यि

े र

ही

येंगे

री

ी रह हूुँ

े नी

हच शक्ष अगर ये

ु छ अह

ब े बड़ी ब ि है

नही

खो ुँ ग ू . िे श

और ुँ ग ू

होिे

हच.इ

भी

हूुँ ये

अ ने आने व े गरू

ु छ नहीं आ

ोड़ बहुि

बि

हब श यि इदहें

ु ु छ हच. ेर खि हि

दट ट

ें हो रही घटन ओं

हो

व्यव य हच! नेय ज़ ने बि य ी

भूखे

शक्षक्षि

इन

े रह ि

र रे

ें ख ि

ह रे

ीिे ों

हच. ंज़र

दहंिज ु िन

ीिे हच और अ ने

ओख

ो बच

ढ़ िे हच.शौ ि ितु नय

प्य र

ोग

ंज़र नेय ज़ और भी

बि य

शक्षक्षि हो

िरू भी अच्छे होिे

ये

रिे हच

दिन र ि

ॉ ी हच. ेक न

े ए

श्य न आदि

ह ुँ ररक्श

शक्ष

ने

र हच

ों

क िब

िरू ों

हच. ये गरीब

ै े

ररक्श

ॉब भी

ोम ने बि य

रह ें

ें

ेक न प्रेये

ी ये

ोटष नहीं ोग आ

टी

म् नी

ोग

े आ

हच स्

ढ़ रहे हच.

रूंग .

5


नरें द्र मोदी को आरएसएस और भाजपा ही प्रधान मंत्री नहीं बनने दें गे हो गये क

*मोकरष म खान* व छ े

इ ेक्र तन

हीनों

ीडडय

री/भ ग्यववध ि

ड़ने

ी आवश्य ि

अरबों ए ये ी,

ोिी

ुन वी ी े े

नि

िो ें

ही नहीं न े

द्व र

इतिह

ने आडव

ेव

घोवर्ि क य दहें

ीधे

. बन य औ

ी ि

भी ि ों हो

वें ै य

ौन

े नेि

ौन

े क

दहें

येंगे, इ

ी ि

आडव

क्य

ी ए

ु ी है .

रन ें

दिख

न यडू ि

ी इिने

नेि

ीन ने

ं ी बनेंगे

ववभ ग

नेि ओं

ज़े

दिये

जट िैय र ो

2014

हो

ीडडय

दहें

टी र

ें इ

ो ए

ऐ े

ें प्र ररि ी

प्ि

ेिे िे ग .

री

ीडडय

ीडडय

हनय

र रह है

र िे श

ोिी

ो िे श

ै े

न बन हौ

ें

ोिी

ें

ऐ े

हर

अ ने

न ो

ी दहि यि िी ष

इिने

ोिी ी

न रों

क्ष हच

ोिी

नहीं

बस्ल्

ू नीय

गह ववद्य न है . ध ष यों

होन

बस्ल्

व भ वव

यष ि ओ ष ं र

े ह,

फ ि

ही

ष ों ने

शं र

ो र

नीति

घ ं

ोिी

है .

रं िु

यष

रव ह नहीं

क य . शं र

आ स्ेि,

न े

य स् न े यह

नष्ु य

दहंि ू

घ ं प्र ख ु

ने

हच

है

घोवर्ि

ोिी

दहोंने आ स्ेि प्रगट

े रू

ुटक यों

ें ऐ

रह है

प्रय

ें

जय

रने

ोिी

र न खश ु है .

ह े

ो न

होि

भी बन आ स्ेि

िी हच. विष न

भी

े दहि र

अप्र दन

ीयर ग ष

द्र ु यें खख डडयों

अ फ ि

न ष

धर

ीि ि

नीति

ं ी प्रेय शी

भ गवि

ें ग यन बंि

यग .

ने जवयं भ र नरें द्र

यष ि ओ ष ं

ग रं टीड मश्वर

े रू

म बर

ोहन

दहें अ ने प्रिीि

तन

स्

हो

ू ष प्र र

ोम आववष्

ि ब होि है

स्ु श्

ववरोध

ये अ नी

ु छ ही दिनों

र आ ट

ोिी

,

े है . नरें द्र

ो यह ेय न रखन

दहये क

रय

े ह बढ़ न है . अति

है . वै े

ट ो-ीट ों

गम िो ऐश बोन खख डडयों

ो प्रध न

अब 10

ी भू

र िब व ड

ें भी िोहर य

र नहीं होि ,

ि

र ब

गम. भ ं वि:यही अतिरे

यष

रे ग

गय , यू ीए

है क्योंक

यें,

ट गय . एनडीए

बन

भक्ि हो गय है और

ो भी व्यस्क्ि

आये

खख ड़ी भ े ही ज़ीरो

े दहि बन य

ट इगर /अप्रै /2014

रर

ीयर गल् ष

है स्

ोिी

र दिख य . आरए ए

ब ि इ े र तन

न ु :

रने

ग ु िर भ ं

बेनीकफट है . अगर

ेव

िे

घट

इतिह

ि

े र

गये.

ेहनि ने

हौ

ुन व

ेयक्ष

एनडीए

रहे .

ुछ ऐ

व न दिखने

ह शये

रो

िो बे रव ह रही क ं िु

प्रभ ववि

ने

ही बन दिय

ै े

गभग

ीए

ोशी िय हो

नि

ि

ीडडय

,

ुछ

हं

ये

ुन व

खख डडयों

रर ि यें शेर् हच, आडव

ीडडय

ीए -इन-वेदटंग

ीडडय ने

िग न

िे ख

ें

ो टीवी

ें

ने व

तनयं ि नहीं है. यदि 10 वर्ष य िो भ

िो

नहीं

ीडडय

ह े 2004

रं िु

ं ी बन

ौभ ग्यवश ऐ

है , आ

नि

क्ष

होि

ीडडय ह

ओए डी.

ये स्

ीडडय

ीधे प्रध न

िे और

गे. बढ़ ु े

र नरें द्र

ोिी छ ये हुये हच. यदि िे श े िि ि प्र चध

खु ी बह े

न ोहन

प्र ख ु

यष

ोड़ने

ो दहि यि और

र न

ष ो

ब े

रे

अति-

ोिी

प्रभ व

ड़ेग .

रू िे श 6


िोन ं े

नीति ि

ें ही नरें द्र

रू

गु र ि

श न, हम

ें

प्रश न अट

ोिी ि न श ह

ने

िे हच. वह स्

प्रश न,

न,

भी

टी

ु छ हच.

न े

िी है , न ही आरए ए

ि चध

ररयों

ी.

ू ों

ु े हच,

बध

न ु व

ुन वों

आरए ए क्ष

ें

े िौर न

ोगों

ोिी ने

ुन व प्र र न

न े

रने

तनिे श िे दिये

.े आरए ए

ववरोचधयों

ये

रहे . प्रवी

िोगडडय

ोगों

ने

क ं िु

े शभ ु म

भी

रहिे हच. गु र ि प्रिे श

ें आ

गु र ि

हच. भ

ोिी

ि चध

री ि

नेि

बढ़ने

दहें िे श

ें भी

इ े

ोिी

प्रय

घ ं

ोिी

िे न

खुदन ीए

ि

ेय

हिे. अब

ब नरें द्र

बड़े आश

ोिी

प्रेय शी े

िोनों

क्यों

प्र ख ु

ें

येगी. इ

ो स् ि ने नी

गंभीर रू

ये

ोिी

न ी

प्र

रखे

ीए

अ नी

ीए

बन

ोिी भ

ये

िरु म

भी

ीन

भी

ोिी

े बड़े नेि

े अ ने आ

ुन व प्र र

े अ ग रखे

हुये हच. ोिी अ े े ही न ु व ि रव िी छवव व े प्र र ी न भ ं े हुये हच.

ट इगर /अप्रै /2014

नरें द्र

भ ं वन

ें

नरें द्र

न क

धन

ोिी

रें गे.

आने

र यदि

यग क

र बनने

ीए

ं ि

दिय

म घट

ं िों

ट्टर दहंिेु वव िी

रें गे

ि

ह ति

येगी. कफर र

ी अदय बड़े नेि ह ति बन

ोिी

ो व

दिय

ष ों

रने

ोिी ए

यग .

नहीं

ोिी ि

दहये.

वह यह क

ें

बक

च्

व ज ष व है .

िव

हं य

न े

बरि श्ि े

वै े नरें द्र

द ै यफ ू ै क् ररे ग प्र ब्

हच,

ोग

बन

यगी.

ो जवयं नज़र-अंि

े हच

न े

गु र ि भे

ये अभी

ेन

ोिी

े न

ो यह ीट

ि

बड़ वगष

ो आध र बन

ववरोध

रें गे.

यग .

ि

ि

बनिी है िो यह

फं

ोिी

छवव

ौ ब रह हो

ी िरह बह रहे हच और ें र ि दिन

घ ं

ी यो न यह है

/एनडीए

एनडीए

ूं ी तियों

ोिी

ि

नें िो

ेहनि

रर

यहीं

रखी हच, इ

दहें बह रहे हच. भ

यह है

ववेिीय

री

न ु व तनव षच ि

न ु व

द्योग फै

ें क

ही प्र र

घोवर्ि

बड़े

रु क्षक्षि हच.

ह दिय

ें िे खने

िी है .

र रही है .

ोगों ने

येंगे िो

ो भ

े रू

रिे. ति ोररय ं खो

प्रश्न

टी ि

ि

ुन व

भीड़ िो खीं

भीड़

ब े

ै े िे श

े शीर्ष

े अ व

ुट

बह ने

ी. शरीर

ू ों

व्यवज

हच.अंब नी, ट ट , अि नी

नेि ओं बनव ने

स्ब्

ी व्यवज

ोिी

धे प्रबंध

रखिे हच िो कफर

े अजवज

ें

ो ज्य ि आगे नहीं

क य गय . इ भ

टष हे िु धन

रु क्षक्षि नहीं हच. इन

रव ह नहीं

आवश्य

निे हच.

े भी भीड़

र बय न िे िे हच ने गु र ि दिग्ग

जय

ोग

ीन

रने

बड़ी खज़ न िोनों

ि है क ं िु गु र ि िं गों

ै े धरु ं धर

आरए ए

ठि है क

ी है . नरें द्र

ें

ो न िो इ

निे आवश्य ि है और न ही धन

हच. इ

ुप् ी

हे िु

है ग ी

ोिी

यष क ये रहे

े ब हर

ें दहंि ू

ी भी

ये

ें

बड़ी

नेि ओं

द्ध हो व्यय

न ी आयु भी ए

प्र र

बि भ

ो वप्रयि भ े ही गु र ि ि

े भयभीि रहिे हच.

ये गु र ि

ोग

अ फ

ब र तनगेदटव

ोिी

ववर्-व न एक्

ोिी

ै े

नहीं ब े

है . ि ू री

वविे शों

ोिी कफर भी अ र स् ि अ ने वोट बच

ंप्रि तय

रू े िे श

अ ू ि धन

अनु र, व छ े गु र ि ववध न भ

ेम

नेि

ख् ु य ं ी ही नहीं, हों. आडव

आगे न िो अफ रों और नेि ओं ी

ोम ऐ

बह री व

वे व छड़ वगष

आरए ए

दहें प्रध न जवी

र रहे ि

ति

ं ी

े रू

च्

र नहीं

ति

रें ग.े

ोगों े

ें

वे 7


दहें गु र ि

रू

ें

क्य

हन

िनशह

र रहे

िो

दहें

ि

ै े आ

आे

ो प्रय

ब ल्य-

नहीं, वव रध र

ोड़

म् न दिख ने

भ ं ने नहीं िे रहे हच

हच, यही वह

है वन ष िे ख

भ रिी ने

और आ

ही

) ेख -

घ ं ी

व ि ष रही हच.

ेय प्रिे श

बहु ि व ी ीधे श्रेय भी

क य

बक

ें

र दि ने

भ रिी

भी है .

ू ष

र/र

नीति

ववश् ेर्

ूवष

च व, ें द्रीय र ज्य

तन ी

शहरी

वव

ं ी हच.(

ि

मोदी या अरववंद केजरीवाल न ो य भ रि

*पलाश ववश्वास* िोजिों,

ह े ही

, ै

ह ेश

हूं क

ोम

ेन

य क

हि आ रह

आि ी िे न

र िं ू

टी

े ि

ररप्रेक्ष्य

ुन वों

ए तन ष धीन

न िे श

े र भी

ह री

च ि ं

ोड़ी गहर म

अरववंि े

नीति

ि गे

रहे

और े

हच

वब

े अने और

अतनस्श् ि

ट इगर /अप्रै /2014

िव

र ें।

है ।

े बि

च न

िी

ेरे

ीठ

दिन िरें ग,े शेर

े स्

ेक न बि इये

र बनी है

ब ि वह

न बि

गय

टी

बि ू ी

र ोरे ट इंडडय । अरववंि

े खड़ े

खख फ

बि ो

े धआ ुं ध र प्रह र हो रहे

न 1991

अल्

र ोरे ट ें

टी र ोरे ट

े र

ि

िेव ही हच। यह ं

बंग

ोि

र बनी

प्रो क् े ट नही

ि

बि

ौन

बरं गी ि

रों

नप्रतिबद्ध ि

ीछे

र ोरे ट र

ौन

है । है । रं ग नहीं

दहें

ेग । होग ववश्व बच

र प्रो ेक्ट,

ड़ी

न ी

ु े हच और शेर

शए ु आिी

आि ी

व र हो ख

ें एफडीआम रद्द होने

ह े

बनने

रहे गी।वे

र िीखी न र अ व ं ध ै तन

ें अब

आदि

दिल् ी

वव ल्

ें ह ें अ नी है , ो ववश्वबच

है , ररस्ज तियों च यों

रू ि

शेर

ेरे

ग ि र िे

बि नी

फष

र ोरे ट

गे आ

हूं न दट ट

ि

न ी आ

खख फ

व ों

नहीं िें गे। इन ें भी

ी च ि ं हच।

टी

ोम

ी भी

ें और आ र नहीं हच।बनेंगे िो

है ।

ी च ि ं है ।

रीव

भी

ो रखने व े अने

री होन है वव र,

ेर

नर ेध

आ दन भववष्य

ह रे

ें

र ज्यिं

े न

और न आ

र ऐ

ब ि ध ोद िी भ रि अ भय न

नहीं प्र

ुन व

रु ने आ ख े िे ख

ें हच, न े क

ें दिक् ि हो िो

ो होिी न ो न ी ु

ें

ीें। ह ें िरअ तनरं ु श

हजिक्षे

ें े

हौ

ेरे ब् ग िे ख

ोम प्रवक्ि

नीति

आग ी

है । ृ य

अरववंि

हूं।

ौ ि ू र

है ।इ े

नीति

न र खु

दहें खो ने

ेर

नहीं है । न ी र

न च े

ररविषन

र ीह

हच। ौ ूि

प्रध न ं ी

ह दह

र ष्र ति ि

नीति तनध षर ,अ श ष ज ी

ववश्व

बच ,आमए एफ,यन ू ेज ो

आदि

घनघोर

यनव िी

ज ं नों

े वेिनबोगी

अ ेरर ी ररंिे

हच।ववतनवेश

ह यज्ञ 8


े प्र

रु ोदहि अए

ववश्वबच फोडष र

े आये

शौरी भी

े।

फ ं डेशन

प्र े

रु ज ृ ि

नीति, दहेय,

ि

क्षे

ह दह

र े

ररंिे

और र

े ए ट ं ोम दह ब

नीति

है

ै े व ू ष

ेख

प्रध न ं ी नेि ,

ीआमए

है ,

बन

नहीं है ।

ि,

तन

और ड यव र ज्यिं

ट ष ी

षय

बन

जव ष

ग् ोबी र भी नहीं

यह भी ूं ीव िी िं

क्रोनी

ीहों

ै व टे

और आव र ,

रीव

टी

है

निे।

और

नख

है , ो अस्ज ि ति

ें

र ैि

और भ रिीय

नीति

ें बि व

और

ूं ी अ ष व्यवज , िब ों ररविषन

ी ी

ेन हर

ह न िब ह हो गयी। े

े र

रों

े बेिख ी स्

े शररय

और

ेि

रोब र है ।

आंिो न े

दहिों ी

मि र े

बी

न और

ें

ि ु ब

ें िब्िी

है

और बदहज ृ ि बहु ख् ं य ि ि ु य ध ोद िी र ष्रव ि ि ै ं िीय

ेन एं हच।िो व र ं

नीति ें ए

िोनों गय और ब

ी िे श

न ोतनश न ब

िहि

र है ,स् ें व

क्ष भी े

े बंग

दहए क घड़ी

और

शस्क्िय ं ,क

िरू

न क्षधर व ह नी

ें

रोब र ध ोद िी छ िे

ी आखखरी िक्षक्ष

ो ष

ट इगर /अप्रै /2014

ी हेय

िब े

न र

जट

ज ं ृ ति,

ध्रव ू ी र

म् ीि है । ह ें य तन

,

ह री

े िे

हो ंग

ीन

रू

ें ति ं

ी बद्ध है ।खेि ख

े ि

शस्क्ियों, े ि

शस्क्ियों

आदिव ी

न यद्ध ु

नवअचध

ि

ि

ो।

र धीन

ी ववर ि

ं ू ष भ्र ंति

ंग

ै े

े र

न ववद्रोह

गयी। अब

िेभ ग

आंिो न ि

ो िे ख रहे हच और न अंबेड री ें श

ें

ु ही

भ रि

ख द्य

हच। ृ वर्

व िी

ब्

ी अंिर हो रह है ।

िरअ

भी नहीं है । यह म्र ज्यव ि है

शख

है ।ह

स्

यह र

ूं ी ध ोद ि े

भ रिीय

निे हच क

नक्

न गरर ि , य षवर

कफ ह , बक

ै ी घटन

नि रह हूं।

ेहरों

अ ने बहु न

ि ष

और

आि ी

अ भ ं व है ।

न ह ं र, ब बरी ववेवं

दय य ध ोद िी े

ें हररि

गै

क्ष्य भी अरववंि

ें बि व

ेिर

िे ग ं न ,श्री

ि

भ रि

ब े

भ रि

है ।

न ंिो नों

ेिर

दढ री

और

ीन

खों

भ ं व वव ल्

स्

ि ं ी और

ह र ी गु र ि नर ह ं र

ोम बि व

िी,

ें बि व अतनव यष है और नहीं े

नववद्रोह,

ध ोद ि

च ह ेश

व ज ष वी व्यवज

तनवेश हच रे

क् ु ि ब

व ष व ज ष वी,वगष अरववंि

व ज ष वी नज

िश

बि ू हच य र है ।इ ें

फहर य है ।

शैि नी

ही यह भी

ें आधतु न

े ए ंट रहे हच।

ि

नहीं,आ

े र क्र ंति, भो

र ी

ौ ि ू र ज्यिं

ेि वगष

एरी है क

िरू नेि और ि

भ्र ंतियों

यह

ोख ।

है ।भ्रष्ट भी।

िरह नहीं

धन

व्यवज

ौन है और

ौन नहीं,भ रिीय र

े िन ध दष िी िेवों ने ही वव य

है । म्र ज्यव िी वैस्श्व हं

फे र

ररि ,

भी खूब हच। कफर इ

ीआमए इ

हच।यह ं ि

इल्ड

दहेय,

िन हो ें व

है िो

फष

र 9


ेर

और

भ रि

रु

ें,दह

यी

व ू ोेिर ि

ें । ेिर ि नी क्षे

और

ें , श् ीर

न डु

ें

द्ध ृ नवधन ढ्य

ेयवगष और

और अतिररक्ि

हीं भी व

नहीं

है ।

रने

ेयवगष ब

े ि

े गठ ोड़

ि च ी

न 1952 ि बने रहे व े

नेिेृ व

ह ेश

ि

ी अंधी िौड़

ें

ेिर

ब्र ंतियों

रह

ेि नी

िश

ब ुछ

े शररय है ।

न िे श

ें

र ोरे ट, ीडडय

और

म्र ज्यव िी अति

कक्रयि

ख ु तिब र ष्र और

नग

नें

ो य

वषव्य ी ोगों

ख् ु य

ुनौिी है ,आ ने

े शररय

ी क्य

वह

यह

है । अ ढ़

हें , ढ़े

ट इगर /अप्रै /2014

खे

ढोिे े

ीडडय

िरअ

ीे े

ीडडय

अब

भ रिीय व ष

व ज ष वी,वगष व ज ष वी और नज है । रजवि

प्र ख ु ों

नि ि

यह र

ें

ृ ष् ी।

आडव ड ं

बने

ने

िैय र ड ं

ो शए ु हुआ ,

े शररय

हरी े ब्रगेड ह न र ष्र

ं ी

अ भय न ो

िब

ह ी बर

प्र र

ें

खे डड़य

बड़ योगि न

ो र र ी बिौर

ि

है,

ेक न दहंि ू

कफ

आे घ िी

ीडडय

िजिे

े वे

और

यह

हच

योगि न ज्य ि तन प्रबंध ों

व षय

ी क्य

े शररय

ोि हच।

हीं

ीडडय

हें , ो

ेन एं हच, दहें भी अ ने

ि ै व ं ों

ें

ने ह

ंश

नीति

अनु ं

व ि ू बह

बरू है । फषि

वह

वेिन न

नव चध

र ें

और र ज्यों

े वेिन न

हच,

ब ए

ेन

ें

ें द्र न

रच

न वेिन न है िो दय य क

ीडडय फौ

रहे े

र र हनन है ।िे श े

वष

व ज ष वी

फषि अ न

बन

ररव र

ि ु ब

े र

बछ वि ें

क्षों

घ ं

ोम

अचध

रखने

ू न

नी

आे घ ि

हुए

तनर्ेध नहीं है, ं ू ष भ्र तं ि

है । आडव

बन ने

ने

और

ें बछ वि आयोग

क्र ंति

रर

ववजफोट

है भी

नी

ू न

र ोरे ट

बह ने

ें अब न

और न नी ।

हच।

ू न

है ।

यने

अब

ें

रिे

धने

ररव

ें

नीति

बन ने ी

ी र

ही

ीर

हुए

रने

ें नहीं है । अट

ी बतु नय ि बने श टष

दहंिेु व ए ंड

र रख ु

गये। न ध र

ेिर भ रि

ेि

आंिो न

वगष

व ज ष वी ने

दिय और

िग ु तष ि

व ज ष वी

नज

नेिेृ व है ,स् व

ी इ

व ष

व ज ष वी

ख् ु य वव क्ष

ि ों

ीछे

शस्क्ियों

ु ल्ह ड़ी

क्रयशस्क्ि

े शररय िफ ू न स्

च्

द्ध ंि ज ं न

िहि ए

े अ ग अ ग

ही

वेिन

ि

िफ

ेि

ें आ र

ू ूर

ि

ोग िौर

ें

िब्िी ु म्

े अचध

क्य होग ,इ

अंि े

ोग िे श

बन ने

ें

ौबी ों

ोटी

ोर

ीछे नहीं है ।यह

े ि

स् शस्क्ियों

र ि दिन ग रहे

हच। और िो और, ोश हुआ क

र हो

िों दिन ब रह

भी

ीडडय और

ू न

य न हो, ीडडय

ज ं ृ ति

ेि

अ भव्यस्क्ि,

घंटे एढ़ी

ें

ररि ें

र आयेगें,िो

े शररय

ें द्रों ह

ेडदयू

ही

र अ ग अ ग

न है ,बि इये।

रने व े

ीडडय ब इ

शस्क्ियों और ो

ब ं ोचधि 10


रने

ें ह री भ री

गयी।

छ ों

स्ज यों

यव ु

हो हो गयी, ू

नों

और

ेिर िश

ह ों

े कफ

गय

वव रध र

रहे ।

और

ररस्ज तियों

ोम

न क्षधर

ो े

ें नेिेृ व

ें

रे

िं

ी गो बंिी

रीव

ि

ख फ

व ों

े ब

खड़े ि िोड़ र च्छ ो

ड़ ों

ें ह शये

ै े भय

अ व ं ध ै तन तियों

अनु चू ि िोड़ र स्

ड़ें हच,

े हच और

िरी े ें

भी अेयंि

न भ

न ब बू े र

ह ों

ेरे दिवंगि ो ह

हें द्र

ें बि िे िे ख नों ी

हच न क ेि

तनरं ु श िरी े

र ोरट

षय

एरि

अचधणह

हुआ

ट इगर /अप्रै /2014

ुश

भी है ।भ

ें अ ने रहे

ेयी

नय

व ं ि

और

रि र

टे

तू िष

ो ें

ै न

घ ं ि

दहंिेु व नेि ओं औरयह ं ि

ी दहंिेु व व िी

ें प्र

ोम भी भू

प्रतिष्ठ

ो िे र

हीं भी व

ो व ं ि रहे

ेयी

ल् ख े नहीं

ं ि

ें

र रह है ।

ब े अच्छी वक्ि जवर

, ुश

ेट ी,

प्रवक्ि

ट्टर

ोशी

घ ं ी

रु ी

े र र र ी

ड ं ध री आडव

बह री व

और

अववर

न िे श और

िे ख

ह ू

नीति

नोहर

ी र ।

अए

ं ी दहि ू र ष्र ए ंड ोम और हच। घ गु र ि े ब ी दहज ों ें गो नीय नहीं है, वह अब खिर है और ु म् र र प्र टी डी र ें िब्िी भू

ररेय ग

े ऐ े प्रध न ं ी हच

र् ु

रही है ।

ी फौ र हच,आंिो न ररयों ि यर िे ख रहे हच, तन े नरं िर ी

है ,

ें नयी ह

बि व े ये िेव ही तन

िर

है ।

ी र

हच। ब े

ो िं भी

हं दट ै ि

ेि

े और स्

न आंिो न े

स्

बि

क्षे

ख ु ौटों

हं

े नेि भी

ोगों

ें

शस्क्िश ी क

ोिी

ब ि िो यह है क

घ ं ने अ ने

ेिर

घ ं भ

नरें द्र

आ े िर आये। ह िरअ ड़िी हुम भीड़ न तियों घेरे

ें अनु चू ि

व छड़ी

ह री

ह ू

य िे ख रहे

ोग

ह ू ने

वह ं भी क

िो अरववंि

रू े गु र ि

न क्रोश

ेहर

दिय है । अट

िक्षक्ष

ो।

ीस् येग ,ह

क य है । खिरन

भ रि

ें श

ेहरों

ह ू

ेिर खंड

हं

ो िे ख नहीं

और आ

ीन हव ओं व्य ी

एरि है ।

रहे हच।िे ख रहे हच िो अरववंि े

ें न ो

है,

व ि

ौ ूि

े बरु ी िरह न र ोगों

ववएद्ध

ववद्रोह े बह ने

ें

र ह ने भी ही तनरं ु श

नेि और दढ री ब्

अनु स्ज ि रह । आ

र नीति बन ने औऱ अ ने

ग ं ु ध

रिे आं ष

नीतियं

े र

और ह

वजिग ु ि ि ु ब

ह रे

ुग ी

स्

च्छ

ृ ष्

ी ि

नरें द्र

ोिी

आगे म् न हच।ह शये घ ं

और

रें .यह

खिर

ं ट भू

िम

अन गि

भववष्य ोिी

र हच।इ े

ीने

े शररय

अशतन ं े ि है।नरें द्र न ी ु

ब े

ो िं

, नवि वं वध न, घ ं ीय ढ ं े

और

और नन ू

बड़ ि रि

न गरर ि , र

,िे श

अव न है ।ह 11


ू ी क े

न शर

ररव र हच। ूहो

बेटे हच। ह री िु न

शक्ष

ोदट

ें हच और न

िीक्ष बेहि

च्

है

है ।

है क

आ दन

ी िे भू

े शररय

िजि

य ि

न ु ने

दहें िे श

और

ों

िे व

े इतिह

रव ह

यों

रें , न ो न ी ु

ोम

रर ल् न

है

ोम फ ष नही होन न ै े

िो

आ र भी

रू े

र य

ें

न य षदवयन

ख है िो

ख है । स् ी नींव

ि ीर हो रही हच,

ति

रगरों

तन षिओं

ट दिये गये हच य

येंगे।इ ी

ए ह ने

भी क य

है क

ति

है क

धो र

य अस्ज ि क्य

र भी खूब े शररय

नी े

भी ि

बहु न अस्ज ि

ें दिये

दहए।आ

र नी

े ि

ी। िरह

न ी दृस्ष्ट और ह री दृस्ष्ट

े ववनम्र तनवेिन क ं िु यही

ी िौड़ भ गिे

ीन

स्

क्ष्य ह

हो

न े

दय य येग ।

ग ं र री

अब मदहला श्रममकों को भी ममलेंगे हमाल लाइसेंस *श्वेता त्रत्रपाठी*

य ुर

ें

ुह न रोड स्ज ि

ज्योतिर व फु े ंडी

)फ

ज न

ंडी

ी ब् ी

ब े

हुए गभग 6 हच। इ े ह े ंडी

ें हुआ भरो े

ने व े श्र

ोठी

ब् ी(

यह रिी

ट इगर /अप्रै /2014

य ुर

ंडी

श्र

ी।

आ र ह फ

रों

बहुि ही ोखख भर है । ंडी य डष ें म

ंडी

ररव रों

दह ओं घटीं

दट ी

ंडी

और

ुह न ि

रों

ु े

रो ग र ों ने

आ ीवव

ें ज व ि हो

छोड़

फर िय क य । इ

बड़ी

ंडी है । इ

ुह न

ोठी

ृ वर्

नहीं

हुम है । रों दिश ओं े

ंख्य

भी

ें

ी, िु म ि

ब् ी

बे ने

रिी हच। ह

िघ ष न एं ु ट

रं िु

ुआव

दहें

नहीं

न े

दह ंडी

ें ह

बूि भी

ग ंधी

क्योंक ंडी

ोम

ें अ ने

ह न

नहीं

ोम ।

बक

रने व े श्र ृ र्

ों

ो ी

ीव

ह यि 12


यो न -2009 िघ ष न ु ट

े ी

ुआव

अंिगषि

स्ज ति न

व प्रकक्रय

ें

री ि

ज न

तनय

ृ वर्

ंडी

1963 े अनु र

भी व्यस्क्ि

ंडी

इ ें ह

ए वेक्ष

व े, भंड री र े रू ि य डष

रोब र नहीं

है ।

यदि

बन ें र

है

व्यस्क्ि

ंडी

रि

है िो

िे ।

ंडी इ ें

ति

े अ व अदय ुछ

इ ें ति

प्रय ोगों

िे ने हे िु

द्व र

इ ें

भी

दह

भी

इ ें

ंडी क्षे

ोठी

ट इगर /अप्रै /2014

ववर्य

न े

ने

बनव ने हे िु ंडी

ें भी

क ए गए। ि

ोम

भी

दह ी

ी ूवष

ें

म ब र प्रय खखि ों

बनव ने

ंग

ी गम

रं िु

ोम

रष व म नहीं

ें े ी र

ी गम।

एवं

अदय

ने रख गय । इ ें

बन ने

ंडी

ति द्व र

बन ने

ी जवी ृ ति

ंग

ी।

इ ें िो

श्र

गम

इ ें ध री

री

क य ें

आवेिन

ंडी

ति

ों ू ष

ें ति

र रव ए

25 आवेिनों े

प्रजि व

जवी ृ ि

ति

ी बैठ

इ ें फरवरी

गय ।

श्र

इ ें ंडी

ुछ

ें द्र द्व र

इन

ें

फ ररश िे ने

अक्टूबर 2013

खखि

बि

दहें

िैय र

गए।

ी।

े इ

दह

नी

द्व र

ररयों

ो िैय र नहीं

ें द्र ष

री

फ ररश

बड़ी क

व्य

फ ररश िे ने

इ ें

ब े

ंडी

व्य

ों

रं िु

न ु ौिी

25

ोठी

ति

े ज म

इ ें

श्र इ ें

ी,

व्य

दह

दह

ोम

ररयों

बि य

इन

ेृ यु हो गम

ंडी

िजयों

ों

िघ ष न ु ट

च व, अेयक्ष

न ो

ररयों

र व्य

ंडी

े फ यिे

व्य

श्र

े िौर न

खखि

ें द्र द्व र

े ि

दह ओं

ों

भी

ंडी

ढोने

ुछ

श्र

ें

स् न ें

बोी ढोने

ें

ी जवी ृ ति

प्रकक्रय

ंडी

नहीं है । यह

गम।

बोी

ति द्व र

े इ

नहीं क ए गए हच। ो

दह एं

रिी हच। ए

ें

च ड़ों

ढोने

दह ओं

ंडी क्षे

ति

दह

ुछ

री हच।

ें

ें

ों

रने व े व्यस्क्ियों ो

ंडी

ंख्य

श्र

दह

े प्रय

ुह न

रने

ही

इ ें ध री हच।

धन

यही बोी

ररयों

ें द्र

जय ओं

दह एं

ंगदठि

रिी आ रही हच।

नहीं हच। व्य

व े

ंडी

जय ओं ि

ें खु ी

रही

न ी

ें

रने व े ज्य ि िर श्र

ों

ें

तनय ों

ंडी क्षे

ंडी

रने

क्षे

ुद्दों

रह है। र

वह ंडी

ंिभष दह

न े

ुह न

िरू ी

यह

ी जवी ृ ति न

इन

बव ि ू

ो रने

द्व र

ों व

श्र

भी

इ ें

ति

अचध

श्र

य रने

ोम

य ुर

द्व र

ंडी

ें द्र द्व र र इ

एवं

क य

अदय क

व्यस्क्ि

ें द्र

रने व े

ें य

िरी े

ोम

नहीं है ।

ह यि

बन

, िो ने

ने व े,

ोम

ति

ी, ि

ें

दहए। श्र

ब रे

2014 द्व र

े ो

गय । अंि

ें

इ ें 13


बन

िे

दिए

गए

हच।

जवयं

2

शुल्

ह न

भंड री र

गए

इ ें ध री री

ंडी

फोटो

खखि

गभग

िो ने

,

व े,

हच।

ंडी र

ति

च ों

य-

आयो न

वेक्ष

दहए।

इ ें ध ररयों

ही

ने

रने

व े,

बन ने हे िु

रन

451

ति द्व र बन ए

इ ें

ति द्व र अब ि

फष

रने व ों

इ ें

फ ररश

व्य

– 20 ए ए

ोटष

े िजि वे क

पूरा करना जरूरी है : इ ें

प्रति

लाइसेंस हे तु ननम्न शतों का

िे व फोटो

वे फेयर

ुछ

बन नी

यो न एं

दहए।

ऐनतहामसकता को समेटे मस्जजद-ए-हबीब

म0ु इरफ़ान ग़ाज़ीपरु ी ए

दयि

े अनु र

ेिर प्रिे श े िट र ब य

ु द्द गंग निी े ी रु इ ें हज़रि

ऊि ग

ी रह0

ें आय । ग

प्रिे श ही नहीं बस्ल् अ नी अ ग गंग खश ु ह

स्

नीति ,

ी ह न

शहर

य् ै यि ववश्व प्र

द्ध है स्

े ह ों 1330 गव ह है । यह ुँ

िे श-वविे श

ें न

ी े

ऐतिह

ने

ट इगर /अप्रै /2014

ेटे यह रखे गये हच। ,

ीर,

ह ु ल् ,

य् ै यि र

,

ह ु म् ि

ट्टी इेय दि।

नहीं है ।

ुड़न

े ही

ीव

ट्टी

िष ू ब

हच

शहूर ब

ोक

े प्र

यों े न

य् ै यिब ड़ ,

य ं रु , र ू

हुआ

ऊि अब ह ु म् ि ट्टी ग

ह ु ल् ों

तनय

र,

भी ववर न

ी ि रीख आ , ि ड़, य् ै यि

नी न

श ुं ी रु ,

ी भी न ररए ोहि

फ् ु िी रु ,

गु ब, नी व अफी

ह न रखि है । शहीि य क

शहर

अेय स्े

ी रु शहर ेिर ग

न ु ी िह ीब

दहस्ेय ,

ंज ृ ति , व्यव तय

कफरो श ह िग ु

श न म0

ब ू -ए-

रु ,

ह ु म् ि ह ुँ

े ब गी े

े।

,

ी रु शहर

र ( हुआब ग) े न

द्ध है । र जिे वहीं हच,

े वही है , अब आ , ि ड़ व

गह

हुआ े

ै े शैख स् य द्दीन ब गी े नहीं रहे और न ही ब गी ों शहीि

नए ु द्दीन रु ,

े बी

ें ए

खूब रू ि

स्ज ि 14


और स्ज ि े े

हन ें

बग

ें ख न

ब्रजि न

ह और

ि

इ ब ड़ । इ

ब ड़ िो

अब भी

ी ह

ख ू ी- न ू

ौ ूि है ।

ीढ़ी

ि है क

स्ज ि

ह ु म् ि

नहीं बस्ल्

स्ज ि

ड़ ें

ीं। ख ी

स्ज ि

ि ु वज् ह क य

रों िरफ ीं,

ो छोड़ दिय

स्ज ि ि

आने े

स्श् ोआ

ेिर

ो आगे

े बोी

स्ज ि ु

ने

न, धन

द्दी

ह ु ल् ेव

ीढ़ी

हब

ी ीढ़ी

ी रु ी

े ग

रू ब

े िबी हुम है । क भ-ू भ ग

री

ीधे

स्ज ि

ड़

ी ग ी

आ र

ो ू

ी रर

डष

ें ि ष है

िरफ

ें आने

ड़ि है ।

ल् 0

यह ब िश हों

ट्टीयों

रू ब

ी ओर ी

ीढ़ी

अम्ब र और

स्ज ि

े न

स्ज ि,

ीढ़ी, र जिे व ग ी

गर अब अतिक्र

े च स्दिि हच

ोम न ी ध ेने व ु

स्ज ि-

ी बनव म हुम

ी े

र दिय

म्बी- ौड़ी 8-10 फीट

नहीं और न

रह है । अब

गह

ड़ो ी े िरव

े हो र आन

रे नव

ल् 0 े न

स्ज ि

स्ज ि े

ें हो रही है । ीो डड़य ुँ हच।

ख ु बदि

ो गय है । अब

ौ न

ह े क्य न

िी ी।अब

रू ब ही

गर

ह ु म् ि नम द्द ु ीन स्

स्ज ि-ए-हबीब

अ भ ेख ें 3 ववजव 4 धुर ि ष है ।

ेअ

ी िे खरे ख

स्ज ि

ी ओर 16 फुट

और 8 फुट

ि ु वल् ी बन य । अब ए-हबीब

ौ न

ी रु ी

ो अब िो क

यों ने

स्ज ि 2010

ी ि ीर

ड़ ी

भी

स्श्

ीढ़ी और

ब्रजि न र ग ी बन िी गयी है

ौ न

ह ु म् ि नम द्द ु ीन ग

ी ि

ड़

ी ब ि है , िभी बदि हो गम है और इ

ी रू रे ख

गोर ब

8 फुट

ोग

ोगों

े यह ग ी स्ज ि े हि ि

ु छ ह ििष न स् यों

स्ज ि

रिी है । यह

िी ी और स्ज ि े दट्टयों

ह ु म् ि

ए 16 फीट बि य और ह ु म् ि ट्टी व शहर े े

स्ज ि े

ि है ।

भी 8 फीट

ओर 8-10 फुट

े क

स्ज ि े ब यें छोर र 8 फीट ी।

और

र ि ू रे

हो गये हच!

स्ज ि े ी

ीख ी

य बि , अब

ववश

ी िरफ

ग गये। यह 2008

बि ,े

स्ज ि

ीन ब ी है और न

गर अब

ोग

र इन ने

र इन खुि िन,

ु छ रोड

अ नी िरफ आ वर्षि ग ी

ो इ

स्ज ि

न िो

ीन िो है , वह ग यब

ी नहीं हुम

ै ड़ों ी

ीनें।

र स्ज ि े

ह ु म् ि

स्ज ि े आ -

े क

े बि

भी यह ी श न रही

गहें

ड़ो ी

भी ही

नहीं।

ल् 0

ें ख न

है ,

ी रु ू

ोगों

े े

हन

ो आ

गह र

ो िे खने ी ही श न

ीनों

िरफ

ीढ़ी

स्दिर े आ -

ड़

र है

ी ववर न ड़ी ी। स्

ट्टी

रू े स्

होगी।

गर नहीं। श यि ग

ु छ दिव रें , बतु नय िें और े

स्ज ि े

ह िो नहीं है शहीि होने

ी ववश भी

ै े शहीि हुम और हबीब

ब हुम ि

ी बन यी हुम तनव ी

स्ज ि और ख न

स्ज ि

ै े ह े अ नी र है

अब वह ुँ ब िश हों गर

र और यह

े गर

नहीं है ।

स्ज ि-ए-

जलवायु पररवतषन की वजह से भारत में खाद्यान संकटः संयक् ु त राष्ट्र ररपोटष णीन ी

ने खिरे

ट इगर /अप्रै /2014

बू

ने े

ए अक्षय ऊ ष

ी िरफ बढ़ने

ग यी गुह र

15


नम दिल् ी।। व यु बने

ंयुक्ि र ष्र

ररविषन

अंिर

)आम ी ी ी( ो

री

ें

गय । इ

ितु नय

भर

री

ि े वनी

िी है । णीन ी

इंडडय ने भ रिीय नेि ओं रर ोटष

ें दिए गए

र ेय न िे ने है ।

ि े वनी

ही,

ंग

ने िे ी

जवच्छ और

ुरक्षक्षि ऊ

िरफ बढ़ने

ी गह ु र

ें गें हू

भी न

रे

वैस्श्व

ख द्य

ह े

े ही

और ए

ह े

भी गरों

र नी

है ।

अ व्ष यवज ो

ूख

ंबंचधि ख द्य

िे श

ववजिि ृ े े

ो ब ढ़, ग ी ेृ य,ु

ि

ें

व यु गड़बड़ी ए शय

ह द्वी ों

है । रर ोटष ु

अनु र र

प्रभ व

ि ी

रन

ृ वर्

आध ररि

व े भ रि न ून

ड़ ै े

र ही तनभषर

े िक्षक्ष ैि व र

ड़ेग ।

े िन धीरे -

अेयक्ष आर े

यह भी ुछ

दहज ों

ौरी ने ितु नय

ें

बहुप्र ररि

और

है । ु

ए शय े

आ ीवव

ें ों

ें ब ढ़

ढ ं े,

और बस्जियों न हो

ऐ े

ें

ै े शहरों

ो िी

ररविषन

व जिवव

हच, इ

आम ी ी ी

ि,

र खिरे

बढ़

व यु

यष

ी है ।

े खिरे बि

ह ू िो

ें ज ष्ट क य व यु

ि है ।

ंब ु म,

ंभ वन

धीरे -धीरे

ड़ेग और िे श ुध रने

व यु

गय

े रर ोटष

ोखख ' री क य ी

च ेनर

ररविषन

होने

हे क्टे यर

ि है ’।

ें

ह र ष्र

और

रीब 12

ें हुए ओ ॉटन,

ै े फ

र भी

ोखख

ें

ेयप्रिे श

ें

े भ रि

व े

ही

गेहू,

र िी

े वोट ड ने

है और नयी

ें

ु छ ही दिनों

भ रि कफर व

और

स्ब्धय ं न

येंगी।

षन

वव

ीवन जिर

प्र प्ि

क ोय

बषन

खर ब प्रभ व ें

अ व्ष यवज

वस्ृ ष्ट

ज्व र,

प्य

खर ब हो गए

े।

ये घटन एुँ भी आम ी ी ी

अतनय

ि

वर् ष

ैटनष

े र क ए गए भववष्यव ी िरफ ही इश र

र रहे

हच। आम ी ी ी ने इ

ररविषन 2014:

प्रभ व,अनु ू न और शीर्ष

िटीय

बुतनय िी

फी नु

है । '

ने

बेखबर नहीं हो

ववृ द्ध

रर ोटष

च्

भ रि

हररि क्र ंति अब स्ज र हो

गय है । णीन ी ट इगर /अप्रै /2014

व यु

प्रभ व

और शहरी इ

है क

ररविषन

डप्

‘यह ज ष्ट है

धीरे घट रह है । आम ी ी ी

ही

व यु

ि है ।

ी व ह

ए शय

ग यी

फी अर न

अनु र

ररविषन

है । आम ी ी ी ने

यह

हो

रर ोटष

रर ोटष ने

ें

घंटी ब

ैन

ी नयी रर ोटष

क य

हच

ए खिरन े

ण र

वर् ष ौ

ह े भी

ें

ि

ी घटन ओं

ववृ द्ध

ी भववष्यव

डप्

हिी हच

ें

ी। “इ 16


रर ोटष

ें भी गेहूं

खर ब

प्रभ व

भववष्यव इ

जय ए

र े

ि

ष ो

ेक न इ तनर श

रर ोटष

ें

ेव

हुए

ें

ि े वनी

ह गय है क

ए ंघर्ष

ेस्ल् य

नी े

एग िो इ

े जिर

होंगे।

डप्

“नयी

णीन ी

ेय ि

ने

ह क

ह ह क

ोय

ो िरु ं ि ही

आध ररि

ि

बढ़ न

ंग

रिी है क

िंबर

र न ू

ी न

वर प् ंट

आयोस् ि

म् े न

प्रजि वों

ें गंभीर

भग

ितु नय और भ रि ि

ें

ह च व बन

व यु

रर व और

“िे

र अक्षय

ी िरफ

णीन ी

ेन

रु क्ष

दहए”।

बढ़ि है ।

बषन

खिर होि है ।

ंयुक्ि र ष्र

इंटरनेशन

श ंति

ोखख

ने आगे र

क य

न और दहं ोखख

खिरन

न ष

े अप्रेयक्ष नयी

े ववज

ो अगर 2 डडणी

ए खिर

ि है स्

हच य र

ए ह ें इदहें हट

े खर ब

भो न- नी

रने व ी ब िें नहीं बढ़

है । रर ोटष

ह री श ंति और

य े

ववन श

इन े

ररविषन

ुरक्ष

खिर है क्योंक

ुड़ी हच।

ें

व यु

आि ी

ूदह

दहए”।

रर ोटष

गय है क

ठ ने

रिे हुए

ंक्र

आ ी ी ी

होंगे”।

नी

रष व यी

है । यो न ओं

बरने

रे

ी जवच्छ ऊ

गयी

भ रि

र इ

ड़ने

ुरक्षक्षि ऊ ो प्र प्ि

रने

ो जवच्छ ष

ें

क्ष्य

िि

रे ।

मस्ददर की सेवा मे जीवन का बमलदान ! न िय्यब ख न ( म् ु बम): अक् र

रने

ि है

ण् ू य

अ ने श्रेि ी िन

े अनु र

और ि न िे ने क है .

ेक न

इन ि न भक्िो

ुछ

ररव यि ए

इखट्ट

होि

े िन है ,

ट ू ने

रने

खो

के न

ट इगर /अप्रै /2014

घटन ोरी

रिे

े व

व घेश्वर

स्दिर

स्दिर

े घटी

ोरो ने ि न य

रवी िेि ी.

स्दिर

ेटी इ

री

ो हुम.

ेव

घटन

ी िो वह

ंग है. इ

े भक्ि िशषन स्दिर र रहे ी िदह र

े अ व िे श

रु ी 30 वर्ो ी

ववरोध न िी ी ु

म् ु बम

रने आिे है .

िी. ये व ि षि िे र र ि ज े िौर न 6

100

स्दिर

े अदय शहरो

े ंग

रने आये 93 वर्ीय े हेय

र स्ज िी

िे है . इ ी म् ु बम

ीटर

ोर हेय ि

घटन

नगर िदह र

डिी. इ

ो िय्य र हो ी

ये

े व घेश्वरी

न र इ

े व्ि र ि न दिये गये ेटीयो

ै ो

नगर िदह र

े होिी

र रहिी है .

ी न र

े ि न िे िे है िरह

ोगो क

ेटीओ

िन

ोरो

स्दिरो

े नही हर ध ष

िश्ु न है और

ेटीओ

े भक्ि व श्रि

ेटीयो

ही ध ष

े ‘’ि न

ि है ’’ इ

ये िरू -िरू

न क

री ु

े इ े.

री

ो हुम

जट फ िरु ं ि घटन र

हु

गये. और ब ब

ो न िी ी अजि ि

े भिी 17


र ब

दिय

ेक न ड क्टर

नही

े.

गये

ेट

र गिष न ,

म ह

.े स् ज े

होगम. इ े

हेय ि ष

ं न

री

े ों

दिय . इ

े इ

े बि

ेक न क

छ िछ ू

दिन

ू ो

री ह िे व

िे

घटन

न ू गढ

स्दिर

िशषन

बी

न ी

े इ

ौनी ब ब ू

बब

े. इ

गैर अनु स्ज िी

.

ी क

प्रिी वर्ष गु र ि स्ज ि

ोम

ो नही ु

ेक न ए

े ी,

ी भी िरह

स्दिर रिे

छ ू िछ

बोरे व ी

ट ू

है . इ

े. रने

े ह

बि

रोहीि

हेय र

रने

ो बि य

ोगो

े े

होरह

ह े

ौ ूि

री वह

बे ने व े रवी

े व . इ

े भक्ि ह

ख् ं य

रो क े. इ

ौ ूि टे

ह शवर ी

आयो न आयो न

ोगो ने

ी हेय

स्दिर

ो दहर ि

िे

रवी ि

ने

ठी ब ब े

र बर म

गहरे घ व िे र भ ग गये. इ

दिी

गन ु ह श्वी

य . दहोने

य.

र े

दहोने घटन े बि े

ने िोनो र

यु ि (क्र म )

अम्ब ि

ोटे

रवव िेि

हर

े अनु र ब ब ी हेय

शए ु व िी

गु र ि े

ी भी िरह

नही

अब

ी हव ख रहे है. ु

ो अं ु

चगररफ्ि र

श ं तयि आरो ी

ी िो इन

स्दिर

ट ू

बब

डी

ने बोरे व ी िोनो

ब इन

छ ू िछ

टष नर

े र

ोरी

स्दिर

गषिशषन

तन ोटे (32) य.

हो और

रवी फू न (26) ि

ेटी

(यतु नट दिय . इ

ी टी

े िोनो

ी िन

ि नदि ि िे , िरह ोटे

ने ए

ी ववरोध क य िभी इन िोनो ने

हय

यक् ु ि क्र म ु

तन ोटे

आयक् ु ि

व ू ष

दिी

री आुँज र

िो यव ु ो

ंड व

छ ू िछ

री

टॆ

े प् न बन य और अ ने

.

अचध

े यतु नट 12

े ब ि रवी

अ र ध श ख यतु नट र ि

1) अम्ब ि

ब्र ं

नने व े भक्िो

ब रे

रने

ने

े न चगरर ो

और ब ब

न े

हेय

स्

दहर ि

रु ग नही

इ ी बी ो

ौनी ब ब

ोम

ि

ोरी

क्र म

रु

य,

ोम

े बि

ने आ

रु ग

ो स्दिर

नही हुम . इ

रिी.

ी क

ी भी िरह

ए ु

ने ु

12 े

े ब ि िदह र

प्र

े क ये

न ी

घटन

ये

र ,

ने हेय ु

े ो

ब ब रवी िेि ीने व

दहे

रु ग ह

. और वो 1975 े

स्दिर

ून गढ

ह िे व

के न

न ी

हेय ए

स्

वो भगव न

े नही हुम ेव

रिे हुऐ

रे है .

डी ो

ी.

मसंगरौली – लोक सभा ननवाषचन में औसत मतदान 47 प्रनतशत हुआ

ट इगर /अप्रै /2014

18


ग ं रौ ी।।

स्

ें

एवं

तनव ष न 2014 जविं

तनष् क्ष एवं श ंति ू ष हो गय । स् िि न ें

रू ु र् 58.8

41.4 रह । इ

दह

ें ववध न

ववध न भ

अं

े दद्रों

औ ि

गभग 47 प्रतिशि

रह स्

िे व र

िरू ज

म् दन

म् दन हो गम। च िरं गी े

है । इ

न ये

ी एवं र

ि ों/अभ्यच य ष ों

िि न ग ों री अप्र प्ि

े भी

िि न औ ि

प्रतिशि बढ़े ग ।

अभ िष

िि न प्रकक्रय

बंध

ें

री

प्र प्ि

िौर न

ववजि र ी।

े इ

िि न प्रकक्रय जविं

एवं तनष् क्ष ि

ग ं रौ ी

ें

52.82 ुरूर् 56.6

औ ि तनरीक्ष

दह

े दद्र

ररय क्र ं

द्व र

नी

ॉग

िि न े

द्व र एवं

प्रकक्रय प्र रं भ भ

ब े

द ी, च िरं गी

स्

प्रश न

श ंति ू ष

स्

खर ट ,

रने डॉड़,

स् गवॉ,

िि न िौर न ढं ग

दहि ि

र, े

ड़ क्षे

िे वरी

ि

श ं ति ू ष

इक्रो

ेक्टर ऑफी र,

आब्

क्रविी ने

िैन ि

तनव ष न

िि न

े दद्रों

क य

तनरीक्ष

य ि षओं एवं

िरह

डी. ल्य

िि न

भी

र ने

अव ो न

अधीक्ष

वषर, ि ों ि

िि न ि

े े दद्रों

श ंति ू ष

री ए . े वेदद्रन एवं

ें भी अव ो न

भ्र

भ तनव ष न

ेक्टर एवं स्

अव ो न भ्र ने

प्रकक्रय

गड़हर , अचध

ग ं रौ ी

हुम। स् े ें ो अचध री तनव ष न श ंति ू ष ढं ग िि न ट इगर /अप्रै /2014

बरगवॉ,

िि न प्रकक्रय

धन क य

ें

िि न जविं

तघनह गॉव,

ीइ

ें

ें

बदहष् जय

े दद्र

हव

िि न धनह , चगधेर, िे व र ववध न

211-212

िि ि ओं

क य । तनरीक्ष

47 िौर न

प्रतिशि रह । च िरं गी ववध न भ

प्रकक्रय

नैति

िि रही। दहोने ंबंचधिों े च िरं गी औ ि 46.6 अव ो न े दद्रीय दय क ी भी िरह ी रे श नी इ ें दह प्रेक्ष बी.ि ने क य ुरूर् 49.37 े ब रे ें भी न री प्र प्ि 43.51 प्रतिशि इ ी िरह दहोने ववध न भ च िरं गी, ी हीं े क ी भी िरह िे व र ववध न भ ें औ ि िे व र, ग ं रौ ी हव े ी श यिें नहीं ी। 41.79 दह गभग 50 िि न े दद्रों ुरूर् 48.7 34.26

िि न

ुरक्ष

ुरक्ष

दहोने िि न

य ष ों

रिे हुए क ी भी ी अ वु वध े ये

री प्र प्ि

ी।

19


अ र

अधीक्ष

दं ह , अ र

स्

ेक्टर एवं

तनव ष न अचध

दि ी ेक्टर,एवं

च िरं गी ए .डी.ए

ं ीव

र,

हय

डी.ए

ुरक्ष व्यवज

े दद्रीय प्रेक्ष

री श्री

ेक्टर

बी.एन.ि

ें

तनव ष न 2014

अनुर ग

व ष, प्रकक्रय

आशीर्

ठ , जर ंग रू

द्व र

भ तनव ष न

तनव ष न प्रकक्रय

िि न

ू ष होने

टे स्क्न

े दद्रों

अव ो न क य गय ।

प्रकक्रय प्र रं भ हो गम है । े

एवं इ

ए . े वेदद्रन

स्ज ति

िे व र डी. ी.व न ष ,

ग ं रौ ी

ड़ी

ें

ी िे व र एवं च िरं गी ववध न

िि न

िि न

श् ि

ॉ े

ौर

िि न

णी

प्र रं भ हो गय

ब े

ववध न

ग ं रौ ी

िि न

णी

रने

िि न ि ों द्व र णी

िि न े

ह े े

रने

यषव ही

री

रहे गी।

णी प्र प्ि

ये ववध न

रने भ

ही िे र र ि ि

रने

वर

ं टर बन ये गये हच स्

ये अचध ड्यट ू ी

री/

ष ररयों

ग िी गम है ।

सोनभद्र-पमु लस बबषरता के खखलाफ पत्रकारों ने ननकाला जुलस ू

ी ो िं

े स् म् े आ

रु क्ष

होिी

ो ए ब ए ो िे ख रक्ष ु रर

े नि

रन

ेक न

र ही

और

े आ

रने व े

है

ौ े जिंभ

स् म् े

व्यवह र

नि

ी ही

ही

ी र बबषरि ू ष ट इगर /अप्रै /2014

रे ी

रने

िब

ी र

अ ी खं व टम गुएव र े

ु ू

ुल्फे

ो इ तन

प्र र

रन

अदय

ुख्य य ू ष

रों ने े ववरोध

। स्

िे

र है िर

ी बबषरि बि

ए डीए

ी रक्ष म् ीि

व्य ष ही है . स् े

ऐ े

ें

चध

री

प्रेवर्ि ज्ञ न

ंग

हुए ें आरो ी ि रोग व ु

चगरफ्ि र

ै े

य ष ों

रने

ी।

ऐ ी घटन है

ौं िे

रु े स्

ी िजिी

हज़ ब नगी भर ें विी व े

रिे हच इ

बि

घटन

े हो 20


िी है खडड़य

ब बीिे बज़र

गश्ि

ें र ि

े िौर न एन टी

प्ि ह

नी

इन

नी

छे ि

ुछ

े िे

हच और ि ु रे दिन यही

ोग

नेक्शन

गिे

हच.र िोंर ि

क य

रने

ोरी

ने व

े ै े

वैध हो गय यह िो विीध री ही

ने

ेक न इिन

िय है यदि

िो

ोम

ही हजिक्षे

रि

िो

य ीनन वही ह

होि

अह

है िर

हुआ. ब े यह है ी गर होने

भी

अचध

े बि

री

ोम

हच

ें

य ु

ी। इ

श् ि श ी अगुव म नव

ु ू

ें

रों ने

श्रख ंृ

बन िे

तन

ो हु ू ख् हुं ु य य क्ष

रों े

तन

ने े

ए डीए

अभय

भ वन ओं

िे

ि ष

रने

वर

ी ू

ु न े

ु ि

ंग

ीवन व

रहे

री

ए। इ

ें द्र

ी।

ेृ यु

र ी

ें

ी ें

ौ े

तिव री,िे वेश

ोहन,प्रभ ि ु

र,स् िें द्र

अणहरर,िय शं र,ववरें द्र र,वव ु

गुप्ि

आए े

े प्र र

रने

व्यवज

आक्रो शि र

श् ि

चु ि इ

ए डीए

बी

ौं

अ र चध

िह ी

गे।

े री

ववएद्ध

ंब

ने अ नी भड़

रों ो

हुए आक्रो शि

ी।

चध

चगरफ्ि र

अं री

दहे स्

य ष ों

रष व म

तनंि व भे न ष

गय । इ

िोर्ी िरोग व अदय

बंि हुए िद्ध ु ी, हु ी व ववण्ढ गं ने रों ने डीआर ै े ें बैठ

रय

प्रेवर्ि ज्ञ न

र प्र ोि रव नी

ी अगुव म

ड़ें

खु े आ

ोग

ठ िे

वररष्ठ

र ोरी

ि

नहीं?

व े

नेक् न

े रहें

ठो

ेि

स्ज ि

ंडय े

े।

य िव, ुशी

ि

ोग

अवगि

कक भख ू से मरने से बेहतर है कक लड़ कर मरें .. अववन श ु

*एज र ने िोड़े व िे , 35 दिन

रीब

ौटी िो िे ख क फें

ह े

बूर है ।

ह ड़ टूट

ट इगर /अप्रै /2014

दह एुँ

ब फु ीररय अ ने बेटे

े घर

दिय गय है । ए

ु ीबिों

े अनशन

च र

ो िोड़ दिय गय है और

रव

ो ब हर ए

िरफ बी र बेट िो ि ू री िरफ िोड़ दिय घर। फु ीररय ु

, स्

ब ि भी हर रो

ुर

ोने े

फु ीररय ीे ने

ें

र ो

21


ि िरअ

, यह क ज

ै ड़ों ि

ज व ि

रने

ह े ववज व ि होने

वर प् ंट वव

खश ु ह ी

े ये

ग ं रौ ी स्

नों

े।

े फर

बनने

ुछ

ने

नि

खि न

-

ं नी

ि

हिी है । ‘ र

है ।

े िे

ीौि क य

रि और ह नी

ीन

दह

न ु िे- न ु िे

हि क ो

ट इगर /अप्रै /2014

ि

ो नौ री ी

र ये

ं नी

वु वध होगी- हर िरफ

ह े इन ि

ेगी, बच् े ज ू

ि-आदिव ी आुँखों

ने नये हच और न यह ं

ोगों

इन

ने एन ीए , एनटी ी ी,

ने

े ििष

हिी रही है ।

न ति बय र

न ति

ोग

वर प् ंट

ं नी

ी वो

गने

ो बह ि -फु

म।’ धीरे -धीरे

और अंि

ें

ह े

ह नी

ि रह । खि ु प्रश न और

नम)आि ी( हर रो

अब ह र िख ु िरू भम आयी

वर प् ंट

बूर क य गय

ोगों े

र बैठी

ें ज व ि क य गय

े टूटने, छ े

दह

य ह

ं नी

े अनशन

े होिे हुए दहंड ल् ो और एज र ि हुं है । ग ं रौ ी भी भी जवी र ड च िो भी ग ं रु

न ख्व बों

ि

न ु न

गने

’ े ये

ोय

ही अज ि

न । 1962 ें बने ररहं ि ब ंध

बय र ि

वर प् ंट

ें न िो ‘वव

ख्व ब िे खिी रही और

न ति

ररव र

35 दिन

े बंधौर ग ंव

ए घर

वर प् ंट और ें यह ं

ग ं रौ ी

होग , ववज व ि

ो म

े बह ने ठगे

रर यं

ी नहीं है बस्ल्

ी है स् दहें एज र न

येंगे और बी र

ंक

ी फु ीररय

फु ीररय

दह ओं

े क्षे

दिख ये गए

दह

ि-आदिव ी

2007 ें एज र े आने

अ े े क

ि-आदिव ी

घर

र आ र िआ ु -

न ति

ख्ि होिी

े आुँखों

ें

ी गयी। ‘व ि 22


ुि ब

न प् ट न भेि

ु छ नहीं िें गे’। ब ि खे अ ने 50 डड

दिए गए प् ट

ें रहने

े घर और ह

रिे- रिे

ीन

ीन

ढ़ य ही

ु छ नहीं दिय

ें ब े

ो ख ी

बूर

येंगे(

इन ववज व ि

ररव रों

े ववज

दिय ।

ह े

रव य

बि

-

ुआव

ररव रों

न िे वे।

द्योग भी खे । ी खेिी

े।

भी ब

े खरीि

रह ।’

र अन

न ै ति

िे श भर

े ह

हे क

ेक न अब

ोम

ोग ही

े।

ॉ ोनी

े । निी न खेिी क्

ोगों

ब ु छ खि ु

े खेि

। ूर

चगन िी है , “ह ररव र

घर बन ने

नों

िरू बनिे

न शहरों

ने

ह नी अंिहीन है ।

क न रे घर बन िे य

र खेिी ें

दहें

छीन

ॉ ोरे ट ह ों

ो बे

रह है और

दिय गय है । एज र

वर प् ंट

ुववध है और न ही

बन ही रहने ुन फ ोग

े ववज व ि

न ुि

फोटो खखं ने

नी

हिी है

दहीं

े। क

अ न

ग और कफर घर ं नी

ोगों

ोगों

गिी है

ोगों ने

ठ िी है , ‘ह र िीन बेट है । ए

न ो

नों-आदिव

यों

िरू बने रहने

टच र नहीं

ं धनों ें अुँधेर

ं नी व

े र िोड़िे न र आयेंगे।

ॉ ोनी

नी

े घरों

ो ख ी

रने

ट इगर /अप्रै /2014

ं नी ने स्

ी। अगर

बूर होिे हच। स् न

) ोए( ब

ोगों

ोम आश यष नहीं क

कफर

ंग

‘ह

व -ि

ेक न ववज व ि

नहीं खरीिे ।

ति आ

ं नी ने

बि ू आध र ही खे

े फ

गह क

र अभी ेग

न क य

ेयप्रिे श, छेिी गढ़, ी रखंड, डड़श , नोएड ि । हर

रिी है

रि है ।

िरह क

े 60 ब य 90 े

र तनभषर रहने व े

ी। अरहर,गें हू, ध न, ड़ि, ति ी,

ं नी

ह-

ये िो

शु

हि है -

आ गए। ‘ह

ग य-ब ररय ं होिी ी

ं नी

िर आि है ।

ल् ू हे

टव री

शु

न ै ति बड़े

व ों

शु

रिे और गु र-ब र होि

ोग

नी

ो यि

वक्ि

गह

े िे िरू ी

ें

ो छोड़ र

दिन

ुबह

र ग ह है और न ही इिनी

ी अ नी िो ए ड़ ें

ें ज्य ि िर खेिी और

भी

ख्ि आुँखों

ग ति िे वी

न ने इन े इन ी अ व्ष यवज

गभग

ें न िो

ंबे आह िे व े घर

ुछने भी नहीं आि है ’।

ीन

न ति

ं नी और प्रश न

नहीं डो व)

ं नी। अब यही श न और

ीनबरू

ें ब य है वह ं न िो

हुं ि िो ोग नी ह रे ं नी िे श ो रौशन

र है ।

ोग बु डो र

रव दिय ।’ गु बी ीन और घर

ो प् ट

ब ंक

तन

े तन हं

े र आ गय । ह र दिन

ो यि

। गु बी

ही

एग । वै े भी प् ट

23


फष

ुएर्ों

ो ब ंट गय है

िरफ ट ट ी एज र

वर प् ंट

े तन

निी

ने व े

ो भी

ं नी

गू

रने

े शोर् , ववज

हुम हच। हे ववधव फू िीन बेटे ो ढ़ - ख प् ट,

आ ु व

रिे रहिे हच

ए िैय र नहीं।

न,

यन, बे रगी,

ति

,भेि

तन

ं नी

े इंि

े ि हो,गु रतिय हो,

ह नी है

तनय

भी नहीं है । ह

ेक न ििष ए

हरी े र खड़ )ऐश

ें बह दिय

नवर आए दिन

तनय

ो िे ने

बि

ुएर्ों

ग ए रहें गे।’

है और ज्य ि िर दहज व ों

दह ओं

ौशल्य है - ववज

हो स्

ि है ।

ेक न

ं नी ऐश

बरू ी, हि श

ॉण्ड

नी

ी अंिहीन

रिे िे खने

ोन ति

ो खु े

हरी े निी

े अ ने िो बच् ी

ें नौ री ें

ॉण्ड(

ी श िी

हि

ें ही बन य गय ो

ीने

न और हि श

े ग ंव

े र बने

री

ह नी यह ं

री

न ति र

हो,

ी च ि ं है , अ ने

े ि हो, ति द्व र छोड़ िी गयी

े ि हो य कफर खींगरु ी। भ े

ग ति ु

ब ी अ नी अ ग-अ ग

े भरी।

अपना काम-धंधा छोड़कर कब तक बैठे रदहयेगा?- मैं पूछता हूं। “ ौन-

धंध ।

ही नहीं है िो। खेिी-क

अ ने-अ ने घर नहीं गए। अब िो ने ए कफ ह है ।

आव

भी

ें

दह

ब ु छ गव ं िे-

ड़ म

ें

िे ए

ं नी हर रो

ु ी इन

ू िे हच”।

बि

ंग

अनशन

र बैठी

व ब दिय ।

और

दह

ट इगर /अप्रै /2014

े डंडे

नी भी नहीं है । हो ी ि

खौफ िो

दह ओं ने अ न डर भी हिी है , “भख ू

रने

ूरी नहीं होगी नहीं हटें गे”।

दह ओं

भी आुँ ू गै फी

े बेहिर है

र हटने

े गो े

री

ें ह

ोग

दह ओं

िब व बन रही ेक न अ न

ीछे छोड़ दिय है । ड़ म

ें। इ

दह

ोग

24


Utn april dig  
Advertisement
Read more
Read more
Similar to
Popular now
Just for you