Issuu on Google+

हिन्द ू धर्म व हिन्द ू राष्ट्र के दे शभक्त आदरणीय बंधओ ु ं और भागानियो सादर नमस्कार मेरा सौभाग्य है की मुझे आपके जैसे हहन्द ू धमम प्रेममयों के बीच में अपने विचार प्रगट करने का अिसर हदया गया है | सिमप्रथम मै आपको साांप्रदामयक हहां सा वबल २०११ की रचना के बारे मै बतलाता हूां | यह वबल नॅशनल काउां मसल National Advisery council द्वारा बनाया गया है | इसमे २३ सदस्य है जजसमे ७ लोग है जजन्होंने वबल की ड्राज्टां ग की है , ये सदस्य जनता द्वारा नह ां चुने गए है बजकक मसर्म सोमनया गााँधी द्वारा चुने गए है जो उनकी अध्यक्ष है इस कममट के मेंबर सब अकपसांख्यक है | कुछ का नाम हहन्द ू जेसे है पर िे अमधकतर अकपसांख्यक है कुछ हहन्द ू है पर िे हहन्द ू विरोधी है जैसे अरुणा रॉय | इस कमेट

का अध्यक्ष तथा कमेट

में बहुमत अकपसांख्यको का होना

आिश्यक है | अतः इस वबल की पूर योजना में हकसी बड़े राजनैमतक षड्यांत की गांध आती है | इस वबल के द्वारा कमेट के ७ सदस्य जो जनता के द्वारा नह ां चुने गए ि ् सब सत्ता अपने हाथ मै रख कर दे श को सरकार

अर्सर पुमलस र्ौज सभी

राजनैमतक डालो पर तानाशाह करे गे | इस मलए ये वबल बहुत चालाकी से बनाया हुआ षडयांत्र है जजसके द्वारा काांग्रेस दे श की सत्ता को हमेशा अपने हाथ में रखना चाहती है | अतः सिमप्रथम यह वबल एांट डे मोक्रेसी है | यजबबला हहन्द ू और मुसलमानों मै धमं के आधार पर भार भेदभाि उत्पन्न करता है और हहन्दओ पर अन्याय करता है मसर्म इसमलए की िे हहन्दध ु ु मम को पालन करते है यहद िे अपना धमम छोड़ कर मुसलमान हो जाये तो उन पर कोई अन्याय नह ां होगा यह वबल मानता है की बहुसख्यक हहन्द ू ह दे श में सब दां गों


के मलए जजम्मेदार होते है और धामममक अकपसांख्यक जजन्हें ग्रुप कहा गया है कभी भी दां गों के मलए जजम्मेदार नह ां हो सकते चाहे िे हकसी शहर में ७० % भी हो अतः उन पर कभी भी मुकदमा नह ां चल सकता इससे हहन्द ू मुसलमानों में स्थयी घ्रणा हो जायेगी | सार दमु नया जानती है की हहन्द ू समाज बुद्ध महािीर ि ् गाांन्धी के उपदे शो पर चल कर अहहसा परमोधममः और सिे भिन्तु सुजखनः के मसद्धाांत पर ह चलता है | उसे हहां सक बतलाना क्योंहक िे हहन्द ू है ये एांट सेकुलर अथामत धमम मनरपेक्षता विरोधी है और ९० करोड़ हहन्दओ पर ु अन्याय है ि सार दमु नया में उनका अपमान है अतः एांट जजस्टस भी है अथामत न्याय विरुद्ध है तथा दे श का िातािरण द्वे षपूणम बनाने िाला यह वबल एांट हारमोनी है अथामत सद्भािना विरोधी है | इस वबल की धारा ७१ और ७२ के अनुसार यहद कोई धामममक अकपसांख्यक हकसी हहन्द ू के विरुद्ध वबना हकसी सबूत के भी कोई मशकायत पुमलस में दजम करता है तो िो हहन्द ू र्ौरन मगर्तार करके जेल भेज हदया जायेगा | उसकी कोई जमानत भी नह ां होगी और यहद जुमम गांभीर हुआ तो उस हहन्द ू को आजीिन कठोर कारािास होगा इससे सारा हहन्द ू समाज भय से काांपता रहे गा | ऐसा भय औरगांजेब के राज्य में भी नह ां था | सभी हहन्द ू सांस्थानों के नेता जेल में होंगे इसका दरु ु पयोग करके कोई भी धामममक अकपसांख्यक हकसी धनिान हहन्द ू से लाखों रुपये ऐांठ सकता है | हहन्द ू मकान मामलक अपने मकान से धामममक अकपसांख्यक को बाहर नह ां मनकल सकता | हहन्द ू उद्योगपमत अपने र्ैक्टर में काम करने िाले हकसी अकपसांख्यक को उसके खराब काम की िजह से मनकलेगा तो उस उद्योपमत के जखलार् मशकायत करके उसे जेल भेजिा सकता है | क्या दमु नया में कह ऐसा अन्याय अपनी िोट बैक बनाने के मलया हकया जाता है अतः एांट जजस्टस है अथामत न्याय विरुध है | इस वबल द्वारा ९० करोड़ हहन्दओ ै ामनक अमधकार ि मानि अमधकार छीन मलये जायेंगे | ु ां के सभी सांिध


अतः ये सांविधान विरोधी है और मानिामधकार विरोधी भी है | अतः इसकी अपील सांयक्त ु राष्ट्र सांघ में की जानी चाहहये इस तरह वबल विश्व की आबाद के ६ िें भाग अत्यांत सहनशील ि शाांमतवप्रय हहन्दओ का कट्टर विरोधी है | अथामत ु एांट हहन्द ू है | यहद कोई प्रोर्ेसर कोलज में पढाते हुए अमेररका के ९/११ आतांकिाद हमले के बारे में जजक्र करता है कोई मुसलमान विद्याथी इसे मानमसक पीढा पहुचने िाला कहकर प्रोर्ेसर को जेल मभजिा सकता है यहद िो विदे श में भी इस प्रकार का भाषण करे गा तो उसे भी भारत में ला कर सजा द जायेगी | रामदे ि बाबा यहद सामान आचारसांहहता की बात करें गे तो उनपर आरोप लगेगा हक बाबा मुजस्लम विरोधी िातािरण बना रहे है | जजसके कारन बाबा रामदे ि को जेल भेजा जा सकता है | यहद हकसी हहन्द ू सांस्था के सदस्य पर मुकदमा चलता है तो उसके अध्यक्ष पर भी मुकदमा चलेगा, जजसकी लापरिाह से सांस्था के उस सदस्य ने यह हहां सा का कायम हकया | इस वबल का लाभ कोई भी अकपसांख्यक उठाते हुए हकसी हहन्द ू को अपनी प्रोपटी कामभाि में बेचने को मजबूर कर सकता है अथिा अपना कजम मार् करिा सकता है या हकसी उद्योगपमत को नौकर दे ने को बाध्य कर सकता है | इस प्रकार यह वबल एांट हहन्द ू है | यद्यवप यह वबल मुसलमानों का क्षजणक लाभ करे गा पर दरू गामी बहुत हामन करे गा | िो जजतना वपछड़ा हुआ है उससे भी अमधक वपछड जाएगा | जबहक दमु नया बहुत आग बढ़ जायेगी अमेररका ि यूरोप में मुसलमान बहुत आगे बढे है इस वबल के द्वारा हहन्द ू और मुसल मानो में स्थायी नर्रत ि ् अविश्वास पैदा हो जायेगा जजससे िे आपस में व्यापार नह ां कर सकेंगे और हहां दओ ु ां की तरह कोई बड़े उद्योगपमत या दमु नया में नाम्कारने िाले व्यवक्त नह ां बन पायेंगे | सरकार


मुजस्लम समाज की गर बी नह ां ममटा सकती पर यहद आपसी सद्भाि हो तो हहन्द ू ह आपस में मुसलमानों की गर बी उन्हें व्यापार हस्तकला नौकर इत्याहद में मदद करके दरू कर सकते है | यह वबल एांट मुजस्लम है अथामत मुजस्लम विरोधी है | बनारस में साड़

बनाने िाले मुसलमान कार गर है िे साड़

के बड़े हहन्द ू

व्यापाररयों के साथ ममलकर बहुत धन कमा रहे है और आपसी सद्भाि से भी रहते है | ममत्रों में सिाल सरकार करता हू यहद सरकार मुसलमानों का िास्तविक भला चाहती है तो इस वबल में मुसलमानों को अच्छी टे क्नीकल मशक्षा और आमथमक प्रगमत की बात क्यों नह ां कह गयी ? धामममक घृणा और हहसा छोड़ने के बात क्यों नह ां कह गयी ? क्योंहक सरकार घृणा बढ़ाना चाहती है ? मौलाना िह दद्द ु न के अनुसार “सरकार ने मुसलमानों को दमु नया में सबसे अमधक झगड़ालू, हहां सक, वपछाड़ और बदनाम कौम बनाकर रखा है और उसे दे श की ८५ % हहन्दओ के साथ मन मुटाि रखने को प्रेररत हकया गया है | ु इस वबल में मुसलमानों को बड़े िैज्ञामनक मशक्षाशास्त्री अथम शास्त्री बड़े उद्योगपमत बनाने की योजना क्यों नह ां राखी गयी है | लाल कृ ष्ण आडिाणी जी ने कहा था की काांग्रेस की िोट बैक की राजनीती से मुसलमानों को सुरक्षा, धन और िैभि नह ां ममला सकता और ना तो

उनका ककयाण हुआ है | और ना ह िे

दे श के कायों में िैध रूप से अपनी लोकताजन्त्रक भूममका मनभा सके है | टाइम्स ऑर् इां हडया के प्रमसद्द सांपादक मगर लाल जैन ने कहा था अब यह मुसलमान को मनणमय करना है हक िे हहां दओ ु ां के साथ सदभाि से रहना चाहते है हक या हर्र सेक्यूलर िाद नेताओक के बहकािे में आकार हहन्दओ के साथ ु


दश्ु मनी कायम रखना चाहते है कााँग्रेस को मुसलमानों से मार्ी माांगनी चाहहये हक उन्होंने उन्हें हहन्दओ ु ां से क्यों लड़ाया ? हजारों दां गे क्यों होने हदए ? और मुसलमानों को मुख्यधारा से क्यों काट हदया ? मुसलमानों को इतना गर ब क्यों रखा ? उपरोक्त सभी बातें दे श हक उन्नमत में बाधक है जीिन के हर क्षेत्र में जैसे उद्योग लोकताजन्त्र

राजनीमत इत्याहद में जजस विश्वास और उत्साह के िातािरण

हक आिश्यकता है िो इस वबल द्वारा नष्ट हो जाएगा | अतः यह वबल एांट प्रोगरे स है अथामत उन्नमत विरोधी है | उत्तर प्रदे श विधान सभा में १८ % मुजस्लम आरक्षण दे ने का विधयेक प्रस्तावित हकय��� है हहन्दओ को ये समझना चाहहये हक धीरे धीरे उनके लोकताजन्त्रक और ु आमथमक अमधकार मछन कर मुसलमानों को दे हदए जायेंगे क्योहक उनमे एकता है तथा इस्लाम और अपने समाज हक शवक्त बढ़ाने के मलये पैसे िाले मुजस्लम अांधाधुांध धन दे ते है | यहद हहन्दओ ने उनसे ये दो बातें शीघ्र नह ां सीखी, तो ु उनको हर्र भगिान भी नह ां बचा सकता है | पर हमें मुसलमानों से उनकी हहां सा ि धामममक घृणा नह ां लेना है | आज हहन्दओ ु ां पर सिमत्र अन्याय और अत्याचार हो रहे है | जब इसके विरोध में हहन्द ू रोता ि मचकलाता है है तो उसे साांप्रदामयक कह कर मुह पर ताला लगा हदया जाता है | उसके नेता भी उसके मलये बोलने हक हहम्मत नह ां करते, ये बड़े दभ ु ामग्य हक बात है | जबहक अमेररका के प्रेमसडे न्ट ओबामा कहते है हक हहन्द ू साम्प्रदामयक नह ां है | तब भारत के सेक्यूलरिाद नेता हहन्दओ ु ां को खत्म करने के इरादे से उन्हें हदन रात साम्प्रदामयक कहते रहते है | हकसी झूठ को यहद १०० बार कहा जाए तो उसे लोग सच मान लेते है | यह िो षडयांत्र है | इस दे श में रक्षक ह भक्षक हो रहे है | इां हदरा गाांधी के इमरजेन्सी से कई गुना खतरनाक यह वबला है | यह विधेयक मानता है हक हहन्द ू ह हहां सा करता है |


पर भारत का इमतहास कुछ और ह बताता है शाांमतवप्रय हहन्द ू ने हमेशा गैर हहन्द ू को सांरक्षण हदया है जबहक उस पर पाहकस्तान, बाांग्लादे श, कश्मीर और दे श के अन्य भागो में सिमत्र भयकर अत्याचार हुए है | यह वबल आतकिाहदयों के विरुद्ध नह ां लागू होगा क्योंहक िो मुसलमान है अतः दे श में आतकांिाद बड़े गा और दे श में हहन्द ू मुजस्लम घृणा बढे गी | इससे भविष्य में ग्रहयुद्ध हो सकता है | जजसे पाहकस्तान और चीन मदद करें गे अतः ये वबल एांट सेक्युररट अथामत सुरक्षा विरोधी भी है | इस तरह यह वबल एांट डे मोक्रेसी, एांट सेक्यूलर, एांट हारमोनी, एांट जजस्टस, एांट constittutioal, एांट प्रोगरे स, एांट हहन्द,ू एांट humanitirian एांट मुजस्लम, एांट सेक्युररट है | इससे राज्य सभा विरोधी दल के भाजपा नेता अरुण जेटली , तममलनाडु मुख्यमांत्री श्रीमती जयलमलता, बांगाल मुख्यमांत्री सुश्री ममता बनजी तथा अन्य दे श भक्त लोगों ने उसका जोरदार विरोध हकया है | इन सब हामनयों के बािजूद भी यह वबल प्रो काांग्रेश है क्योंहक अांत में भ्रममत मुजस्लम समाज के िोटों को बटोरकर काांग्रेश २०१४ के चुनाि को जजतने हक आशा करती है | इसमें दे श हक कई जमायेते उलेमा-ए-हहां द जैसी मुजस्लम पाहटम याां अपना क्षजणक स्िाथम दे ख कर काांग्रेश सरकार पर दबाि दल रह है हक इस वबल को चुनाि के पहले पास करने से मुजस्लम िोट हक मदद से सरकार चुनाि जीत जायेगें | इसमलये केंद्र य स्िस्थ मांत्री गुलाम निी आजाद ने िचन हदया है हक ये सरकार पास करके ह रहे गी| इससे दरू गामी बहुत हामन है पर यहद इसके विरुद्द शीघ्र दे शव्यापी आांदोलन हो तो यह खतरनाक षड़यांत्र रोका जा सकता है |


आदरणीय ममत्रों आपकी जानकार के मलये मै बताना चाहूाँगा की ऐसा खरतनाक मानिता विरोधी वबल स्टामलन, हहटलर के बाद अहहसाां प्रेमी भारत में आने जा रहा है | जजसके द्वारा हहटलर ने यहूहदयों पर भयांकर अत्याचार हकया | इस वबल के द्वारा अब हहन्दओ ु ां पर भी िैसा ह अत्याचार हो सकता है | इसे टाला जासकता है यहद सारे दे श में इस वबल के विरोध में

क्राांमतकार आन्दोलन

हकया जाए | यहद यह वबल पास हुआ तो हहन्दओ का जीवित रहना दभ ु ू र हो जायेगा| िसुधेि कुटु म्बकां िाक्य सतुयग ु का धमं है पर आज जब हहन्द ू चारों और से आक्रमण काररयों से मघरा हुआ है तब उसे गीता के आदे श िाक्य पर चलना चाहहए हक पररत्राणाय साधूनाां विनाशायच दस् ु क्रताम अथामत सज्जनों हक रक्षा करने के मलये दष्ट ु ों का विनाश हकया जाना चाहहए पर विनाश का अथम लोकतांत्र के इस युग में हहसा नह ां बजकक पवित्र हहन्द ू िोट बैक से दष्ट ु ों को दबा कर दे श में स्थाई शाांमत और समृहद्द स्थावपत करना है |


UPA government's Vote bank politics in India