Issuu on Google+

HkwLokeh la?k"kZ lfefr o ekVw tulaxBu --------------------------------------------------------------------------izSl foKfIr 20-1-2013

?kkVh esa fiaMjxaxxk fpjathoh fnol euk;k x;k fiaMjxaxk dks vfojy cgus nks&gesa lqjf{kr jgus nks] mtkZ t#jr ls ugh badkj] fouk'kdkjh ifj;kstuk ugh Lohdkj] fiaMjxaxxk fpjatho jgs ds ukjksa ds lkFk fiMajxaxk fpjathoh fnol dh jSyh fudkyh x;hA nsoky ds fiaMjxaxk ds iapiz;kx ls tydy'k fy;k x;k vkSj jSyh ogak ls iwjs nsoky cktkj esa fudkyh xbZA vkt gh ds fnu ,d o"kZ iwoZ 20 tuojh 2012 dks psiM+ks xako esa /kks[ks ls nsolkjh cka/k ds fy;s i;kZoj.kh; tulquokbZ iwjh dh xbZ FkhA HkwLokeh la?k"kZ lfefr o ekVw tulaxBu us r; fd;k Fkk fd bl fnu dks **fiMajxaxk fpjathoh fnol** ds #i esa euk;k tk;sA fofHkUu xkaoks ls igqps efgyk&iq#"kksa us fiaMjxaxk dks fpjatho cgrs jgus nsus dk mn~?kks"k djrs gq;s cka/k dks udkjkA fofHkUu oDrkvksa fnus'k feJk] enu feJk] eghirflag dBSr] iq"dj flag] 'kksHkuflag [k=h] ucZnknsoh] ds0Mh0feJk] eqUuhnsoh] nsoujke] egs'kjke] jkepanz] t'kksnk nsoh Hkwisuflag jkor] c`teksgu'kkg vkfn us eq[;r% dgk fd %& fiaMj xaxk gekjs fy;s gS thou] laLd`fr] lH;rk] jkstxkj dk LFkk;h lk/ku] ?kkVh dk lkSanz;ZA ;g gekjh /kkfeZd vkLFkk dk dsUnz fcUnq vkSj laalkj Hkj esa iwT; gSA uanknsoh dh jkttkr ;k=k ekxZ fiaMjxaxk ds fdukjs gh gSA vHkh jk"Vh; unh xaxk th dh ;gh ,d ek= lgkf;dk gS tks fd fuckZ/k cg jgh gSA blh lqanj ?kkVh esa cka/kksa dh drkj yxus okyh gS ftldk ?kkVh ds yksxksa us dM+k fojks/k fd;k gSA turk ds la?k’kZ dk gh ifj.kke Fkk fd 3 ckj tulquok;h gq;h vkSj rhuks ckj ?kkVh us cka/k dks udkjk vkSj dEiuh dh iksy [kqy x;hA iz'kklu dh feyh Hkxr ls nsoky] ftyk peksyh] mRrjk[kaM matuganga.blogspot.com

09718479517


psiM+ks xkao esa cSjhdsV yxkdj tulquokbZ dk ukVd fd;k x;kA jkT; iznw’k.k fu;a=.k cksMZ ds vf/kdkfj;ksa us dEiuh dk lkFk fn;k vkSj turk ls Mj dj fcuk yksxksa dk fojks/k lqus fcuk gh Hkkx x;sA 20 tuojh] 2011 ls vkt rd cka/k dEiuh ds lkFk rw Mky Mky eSa ikr ikr dk [ksy py jgk gSA i;kZoj.k ea=ky; us vHkh cka/k dh Lohd`fr ugh nhA ou Lohd`fr ds fy;s vko';d dkxtkr Hkh turk ds lkeus ugh j[ksA blds ckotwn Hkh cka/kksa dks yknus dh dksf'k'ksa tkjh gSA cka/k dEiuh dh dksf'k'k ;gh jgh fd fdlh Hkh rjg ls fcuk fdlh Lohd`fr ds gh cka/k ds dke dks vkxs c<+k;k tk;A ftlds fy;s dkuwuksa dk uhfr;ksa dk mya?ku] FkksM+s iSlksa dk ykyp nsuk vkSj nyky [kM+s djokuk ;s budh dkjxj uhfr;ka gSaA lR; ;gh gS fd 2009 ls vkt rd cka/k Lohd`fr dks geus jksddj j[kk gSA ftlesa ?kkVh ds xkao&xkao ds etnwj&fdlkuksa [kkldj cguksa ds la?k’kZ dh fgLlsnkjh jgh gSA cka/k ds fy;s ou Lohd`fr dh dksf'k'ksa cka/k daiuh dj jgh gSA pwafd Ik;kZoj.k Lohd`fr] ou Lohd`fr ds ckn gh fey ik;sxhA cka/k daiuh dh dksf'k'k ;g Hkh gS fd oks ou Lohd`fr ds fy;s vko”;d dkxtkrksa dks lkoZtfud uk djsA geus bl ckr dks idM+k rks i;kZoj.k ea=ky; dh ou lfefr us cka/k dEiuh ls dkxtkr dks osclkbV ij j[kus dks dgkA ;g [ksy dbZ ckj pyk fdUrq fdUgh nckoksa ds pyrs 22 fnlEcj 2012 dks laiUu ou lfefr dh cSBd esa nsolkjh cka/k dk fo"k; yk;k x;kA fdUrq vHkh ou Lohd`fr ugh gqbZ gSA KkrO; gS fd cka/k ds fy, vko';d gS%& 1&i;kZoj.k Lohd`fr] 2&ou Lohd`fr pj.k&,d 3&ou Lohd`fr pj.k&nks 4&jkT; ljdkj dh ou Lohd`fr vkfn Lohd`fr;ak cka/k diauh dks vHkh ugh feyh gSsA ftuds fcuk cka/k ugh cu ldrk gSA 22 fnlacj 2012 dks ou lykgdkj lfefr us dgk fd oks prqosZnh lfefr dh fjiksZV ds ckn gh cka/k diauh ds izLrko ij fopkj djsxhA ljdkj us jk’Vªh; unh xaxk o mldh lgk;d ufn;ksa esa yxkrkj cgus okyk ikuh fdruk gks ;g r; djus ds fy;s ;kstuk vk;ksx ds lnL; Jheku ch- ds- prqosZnh dh v/;{krk esa fofHkUu ea=ky;ksa dh ,d lfefr cukbZ gS ftldh fjiksVZ ekpZ 2013 esa vkus dh laHkkouk gSA iwjs mRrjk[kaM esa cka/kksa ls foLFkkiu] LFkk;h jkstxkj dk fNuuk] ikuh dh leL;k] lc tkjh gSA peksyh esa gh fo’.kqxkM cka/k ls foLFkkfir 30 ifjokjksa dk iquokZl ugh gks ik;k gSA blfy;s thou Hkj jkst jkst dh leL;k;sa ijs”kkfu;ka ge Hkh D;ksa >sys\ D;ksa ugh tu vk/kkfjr ?kjkV tSlh fctyh ifj;kstuk;s cus ftlesa LFkkuh; yksxks dks LFkk;h jkstxkj Hkh feys vkSj gekjh fiaMjxaxk ?kkVh Hkh lqjf{kr jgsA pUn yksxksa ds vius ykyp ds fy, fi.M+j dh turk viuh ?kkVh dh rckgh ugh ns[k ldrhA nsoky] ftyk peksyh] mRrjk[kaM matuganga.blogspot.com

09718479517


HkwLokeh la?k"kZ lfefr o ekVw tulaxBu dh vksj ls

cyoar vkxjh

eqUuh nsoh

nsoky] ftyk peksyh] mRrjk[kaM matuganga.blogspot.com

enu feJk

09718479517

foeyHkkbZ


भूस्वामी संघर्ष र्ष सिमिति व माटू जनसंगठन ...........................................................................प्रैस िवज्ञप्तिप्ति 20.1.2013 घर्ाटी में िपिंडरगंगगा िचिरं जीवी िदिवस मनाया गया

िपिंडरगंगा को अविवरल बहने दिो-हमें सुरिक्षिति रहने दिो, उर्जार्ष जरुरति से नही इं कार, िवनाशकारी पिंिरयोजना नही स्वीकार, िपिंडरगंगगा िचिरं जीव रहे के नारों के साथ िपिंडंरगंगा िचिरं जीवी िदिवस की रै ली िनकाली गयी। दिेवाल के िपिंडरगंगा के पिंंचिप्रयाग से जलकलश िलया गया और रै ली वहंाा से पिंूरे दिेवाल बाजार में िनकाली गई। आज ही के िदिन एक वष र्ष पिंूवर्ष 20 जनवरी 2012 को चिेपिंड़ो गंााव में धोखे से दिेवसारी बांध के िलये पिंयार्षवरणीय जनसुनवाई पिंूरी की गई थी। भूस्वामी संघर्ष र्ष सिमिति व माटू जनसंगठन ने तिय िकया था िक इस िदिन को ’’िपिंडंरगंगा िचिरं जीवी िदिवस’’ के रुपिं में मनाया जाये। िविभन्न गांवो से पिंहुचिे मिहला-पिंुरुष ों ने िपिंडरगंगा को िचिरं जीव बहतिे रहने दिेने का उर्द्घोष करतिे हुये बांध को नकारा। िविभन्न वक्ताओं िदिनेश िमश्रा, मदिन िमश्रा, महीपिंतििसह कठै ति, पिंुष्कर िसह, शोभनिसह खत्री, नबर्षदिादिेवी, के 0 डी0 िमश्रा, मुन्नीदिेवी, दिेवनराम, महेशराम, रामचिंद, जशोदिा दिेवी भूपिंेनिसह रावति, बृजमोहनशाह आिदि ने मुख्यतिः कहा िक:िपिंडर गंगा हमारे िलये है जीवन, संस्कृ िति, सभ्यतिा, रोजगार का स्थायी साधन, घर्ाटी का सौंदयर्ष। यह हमारी धािमक आस्था का के न्द िबन्दिु और संसार भर में पिंूज्य है। नंदिादिेवी की राजजाति यात्रा मागर्ष िपिंडरगंगा के िकनारे ही है। अवभी राष्टीय नदिी गंगा जी की यही एक मात्र सहाियका है जो िक िनबार्षध बह रही है। इसी सुदि ं र घर्ाटी में बांधों की कतिार लगने वाली है िजसका घर्ाटी के लोगों ने कड़ा िवरोध िकया है। जनतिा के संघर्ष र्ष का ही पिंिरणाम था िक 3 बार जनसुनवायी हुयी और तिीनो बार घर्ाटी ने बांध को नकारा और कम्पिंनी की पिंोल खुल गयी। प्रशासन की िमली भगति से चिेपिंड़ो गांव में बैरीके ट लगाकर जनसुनवाई का नाटक िकया गया। राज्य प्रदिूष ण िनयंत्रण बोडर्ष के अविधकािरयों ने कम्पिंनी का साथ िदिया और जनतिा से डर कर िबना लोगों का िवरोध सुने िबना ही भाग गये। 20 जनवरी, 2011 से आज तिक बांध कम्पिंनी के साथ तिू डाल डाल मैं पिंाति पिंाति का खेल चिल रहा है। पिंयार्षवरण मंत्रालय ने अवभी बांध की स्वीकृ िति नही दिी। वन स्वीकृ िति के िलये आवश्यक कागजाति भी जनतिा के सामने नही रखे। इसके बावजूदि भी बांधों को लादिने की कोिशशें जारी है। बांध कम्पिंनी की कोिशश यही रही िक िकसी भी तिरह से िबना िकसी स्वीकृ िति के ही बांध के काम को आगे बढ़ाया जाय। िजसके िलये कानूनों nsoky] ftyk peksyh] mRrjk[kaM matuganga.blogspot.com

09718479517


का नीितियों का उर्लंघर्न, थोड़े पिंैसों का लालचि दिेना और दिलाल खड़े करवाना ये इनकी कारगर नीितियां हैं। सत्य यही है िक 2009 से आज तिक बांध स्वीकृ िति को हमने रोककर रखा है। िजसमें घर्ाटी के गांव -गांव के मजदिूर-िकसानों खासकर बहनों के संघर्ष र्ष की िहस्सेदिारी रही है। बांध के िलये वन स्वीकृ िति की कोिशशें बांध कं पिंनी कर रही है। चिूंिक पिंयार्षवरण स्वीकृ िति, वन स्वीकृ िति के बादि ही िमल पिंायेगी। बांध कं पिंनी की कोिशश यह भी है िक वो वन स्वीकृ िति के िलये आवश्यक कागजातिों को सावर्षजिनक ना करे । हमने इस बाति को पिंकड़ा तिो पिंयार्षवरण मंत्रालय की वन सिमिति ने बांध कम्पिंनी से कागजाति को वेबसाइट पिंर रखने को कहा। यह खेल कई बार चिला िकन्तिु िकन्ही दिबावों के चिलतिे 22 िदिसम्बर 2012 को संपिंन्न वन सिमिति की बैठक में दिेवसारी बांध का िवष य लाया गया। िकन्तिु अवभी वन स्वीकृ िति नही हुई है। ज्ञप्तातिव्य है िक बांध के िलए आवश्यक हैः- 1-पिंयार्षवरण स्वीकृ िति, 2-वन स्वीकृ िति चिरण-एक 3-वन स्वीकृ िति चिरण-दिो 4-राज्य सरकार की वन स्वीकृ िति आिदि स्वीकृ ितियंाा बांध कपिंंनी को अवभी नही िमली हैाे। िजनके िबना बांध नही बन सकतिा है। 22 िदिसंबर 2012 को वन सलाहकार सिमिति ने कहा िक वो चितिुवेदिी सिमिति की िरपिंोट के बादि ही बांध कपिंंनी के प्रस्तिाव पिंर िवचिार करे गी। सरकार ने राष्ट्रीय नदिी गंगा व उर्सकी सहायक निदियों में लगातिार बहने वाला पिंानी िकतिना हो यह तिय करने के िलये योजना आयोग के सदिस्य श्रीमान बी. के . चितिुवदि े ी की अवध्यक्षितिा में िविभन्न मंत्रालयों की एक सिमिति बनाई है िजसकी िरपिंोटर्ष माचिर्ष 2013 में आने की संभावना है। पिंूरे उर्त्तराखंड में बांधों से िवस्थापिंन, स्थायी रोजगार का िछिनना, पिंानी की समस्या, सब जारी है। चिमोली में ही िवष्णुगाड बांध से िवस्थािपिंति 30 पिंिरवारों का पिंुनवार्षस नही हो पिंाया है। इसिलये जीवन भर रोज रोज की समस्यायें पिंरे शािनयां हम भी क्यों झेले? क्यों नही जन आधािरति घर्राट जैसी िबजली पिंिरयोजनाये बने िजसमें स्थानीय लोगो को स्थायी रोजगार भी िमले और हमारी िपिंडरगंगा घर्ाटी भी सुरिक्षिति रहे। चिन्दि लोगों के अवपिंने लालचि के िलए िपिंण्ड़र की जनतिा अवपिंनी घर्ाटी की तिबाही नही दिेख सकतिी। भूस्वामी संघर्ष र्ष सिमिति व माटू जनसंगठन की ओर से बलवंति आगरी

मुन्नी दिेवी

nsoky] ftyk peksyh] mRrjk[kaM matuganga.blogspot.com

मदिन िमश्रा

09718479517

िवमलभाई


Press note