Page 1

ये र

बायतीम ये र की जनयर फोगी

ऩता नही आऩने बोगी की नाहही बोगी एक फाय हभे बी काटनी ऩडी मात्रा

स्टे शन ऩय दे खकय सवारयमों की भात्रा हभाये तो ऩसीने छूटने रगे

झोरा उठा कय हभ घय को पूटने रगे | तबी एक कुरी आमा- भुस्कुयामा औय फोरा फाफूजी अॊदय जाओगे,

हभने कहा "तभ ु ऩहुॉचाओगे"?

वह फोरा "फडे फडे ऩाससर ऩहुॉचाए है आऩ क्मा चीज़ है ऩय रुपऩमे ऩूये -ऩचास रें गे "|

हभने कहा "ऩचास रुऩमा?" वह फोरा " हाॉ बैमा

बीड ददख यहा है? कॊधे ऩे उठाना ऩडेगा, धक्का दे कय खखडकी के यास्ते अॊदय ऩहुॉचाना होगा ..| भॊज़ूय हो तो फताओ"|


हभने कहा "दे खा आएगा तुभ उठाओ " |

कुरी ने फजयॊ ग फलर का नाया रेकय जैसे ही

हभे उठामा कक खद ु ही फैठ गमा...दस ू यी फाय कोलशश की तो रेट गमा|

फोरा फाफज ू ी आऩको हभ क्मा उठाएॉगे

आऩको उठाते उठाते तो हभ इस दनु नमा से उठ जाएॉगे | तबी गाडी ने ज़ोय से सीटी दी | हभ झोरा रेकय बागे | डडब्फे के अॊदय का दृश्म औय बी धभासान था... ऩयू ा डडब्फा आने आऩ भे दहन्दस् ु तान था| रोग रेटे थे फैठे थे..खडे थे|

जजन्हे जगह नही लभरी वे फतस के नीचे ऩडे थे| एक गॊजे ने कहा..बाई साहफ हभाये सय ऩय फैठ जाइए...आऩके लरए ही सॉप कयाई है|

दो रुऩमे दीजजए ..कपसर जाए तो हभसे ना कदहए| तबी एक फोया खखडकी के यास्ते चढा अॊदय फढा औय गॊजे के लसय ऩय गगया|

गॊजा गचल्रामा "कौन हे कौन हे.... ककसका फोया हे?" तबी फोया

फौयन खडा हुआ औय फोरा...

फोया ही नही इसका १२ सार का छोया बी है . अॊदय आने का मही तयीका हभने अऩने भाॉ से सीखा हे ..आऩ तो फोया से घफया

फाऩ

यहे है|

एक सज्जन फतस ऩय थे

फैठे औयतें भून्दे


इतने भे ऩडी उनऩय ऩानी की कुछ फूॊदे

वे फोरे.कौन हे कौन हे ऩानी गगया कय भौन हे | उऩय से आवाज़ आई..ऺभा कयना बाई

ऩानी नही..हभाया छ् भहीने का फच्चा हे|

औय कृऩा कय अऩने सय बी नीचे कय रीजजए वयना फच्चा हे औय फच्चे का क्मा बयोसा| तबी गाडी भे ज़ोय का हॊ गाभा हुआ

एक आदभी फोरा..हाम ये भेया फटुआ

ककसी ने भाय लरमा..ऩयू े १०० रुऩए से उताय लरमा दटकट बी उसी भे था..

तबी एक सज्जन फोरे..यहने दो यहने दो बलू भका भत फनाओ...दटकट नही लरमा तो हाथ लभराओ..हभने ही नही लरमा

इस कदय गचल्राओगे तो तुम्हाये साथ हभ बी नही ऩकड लरए जाएॉग?े ?

एक तो बफना दटकट जेमा यहे हो..उऩय से सायी दनु नमा को चोय फना यहे हो.

फटुआ धयी फोरा..भैं झट ू नही फोरता ..भैं एक टीचय हूॉ....|

तबी एक ने कहा..टीचय के ऩास फटुआ ऐसा तो इनतहास भे बी नही हुआ

टचेय फोरा..कैसा इनतहास भेया पवषम तो बूगोर है ..एक फारक फोरा...

फेटा इसी लरए तो तम् ु हाया फटुआ गोर हे|

- सारयकाॊत साहू

५ सेभेस्टय .एरेजक्िकर

RAIL  

IRONY OF INDIAN RAILWAY

Read more
Read more
Similar to
Popular now
Just for you