Page 1

याहता (भहायाष्ट्र )— सेंट जॉन स्कूर

भें नैततक भूल्म ऩय

कामयशारा आमोजक –स्थानीम ब्रह्भाकुभायी सेवाकेंद्र याहता

(भहायाष्ट्र )

भुख्म वक्ता ---ब्रह्भकुभाय बगवान ् बाई भाउं ट आफू ववषम –- नैततक भल् ू मो का जीवन भें भहत्व पादय गगल्वटय वरंससऩर रशांत सोनवने वरयष्ट्ठ सशऺक फी के गीताजरी फहन

स्थानीम ब्रह्भाकुभायी याहता

भहायाष्ट्र फी के बफराय बाई , फी के भहे श बी उऩस्स्थत थे इस अवसय ऩय याजमोगी फी.के. बगवान बाई ने कहा कक गुणवान व्मस्क्त दे श की सम्ऩतत हैं। उन्होंने कहा कक ववद्मागथयमोंंं के सवाांगगण ववकास के सरए बौततक सशऺा के साथ-साथ नैततक सशऺा की बी आवश्मकता हैँ। चरयत्र तनभायण ही सशऺा का भूर उद्दे श्म होता हैं। उन्होंने कहा कक बोततक सशऺा

बौततकता की ओय धकेर

यही बौततक सशऺा की फजाम इंसान को नैततक सशऺा की


आवश्मकता हैं। उन्होंने सभाज भें भूल्मों की कभी हय सभस्मा का भूर कायण हैं। इससरए ववद्मागथयमों को भल् ू मांकन,आचयण,अनक ु यण,रेखन,व्मवहारयक ऻान इत्मादद ऩय जोय दे ना होगा। उन्होंने कहा कक अऻान रूऩी अंधकाय अथवा असत्म से ऻान रूऩी रकाश अथवा सत्म की ओय रे जाए,वहीं सच्चा ऻान हैं। उन्होंने कहा कक जफ तक हभाये व्मवहारयक जीवन भें ऩयोऩकाय,सेवाबाव,त्माग,उदायता,ऩववत्रता,सहनशीरता,नम्रता,धैमय ता,सत्मता,ईभानदायी, आदद सद्गुण नहीं आते। तफ तक हभायी सशऺा अधूयी हैं। उन्होंने कहा कक सभाज अभूतय होता हैं औय रेभ,सद्बावना,बातत्ृ व,नैततकता एवं भानवीम सद्गण ु ों से सचासरत होता हैं। बगवान बाई ने कहा कक हभें अऩने दृस्ष्ट्टकोण को सकायात्भक फनाने के सरए ऻान की आवश्मकता हैं। दृस्ष्ट्टकोण सकायात्भक यहने ऩय भनुष्ट्म हय ऩरयस्स्थतत भें सख ु ी यह सकता हैं। उन्होंने व्मसनों से दयू यहने ऩय बी जोय ददमा। स्थानीम याजमोग केन्द्र फहन ने कहा कक आध्मास्त्भकता अऩनाने ऩय जीवन भें नैततक भूल्मों का रवेश संबव हैं।

राहता (महाराष्ट्र )— सेंट जॉन स्कूल में नैतिक मूल्य पर कार्यशाला  
राहता (महाराष्ट्र )— सेंट जॉन स्कूल में नैतिक मूल्य पर कार्यशाला  
Advertisement