Page 1

चाॉदवड (भहायाष्ट्र ) – भें श्रीभती के फी अफाड होमभओऩेथीक हास्पऩटर औय कारेज भें सकायात्भक चचन्तन नैततक मिऺा से योग एवभ तनाव भुस्तत

ऩय

कामयक्रभ

आमोजक –पथानीम ब्रह्भाकुभायीज चाॉदवड (भहायाष्ट्र) भुख्म वतता ---फी के बगवान ् बाई भाउॊ ट आफू ववषम –सकायत्भक चचन्तन से नैततक भल् ू म औय तनाव एवभ योग भुस्तत वरॊमसऩर – डॉ श्री ए ओ दहाड उऩ वरॊमसऩर – डॉ श्री सॊगीता जोिी डॉ तनकभ दवायकेि हास्पऩटर परी योग तदन्म –डॉ रुऩारी ऩवाय भॊच सञ्चारन –डॉ ए एन ब्राभने सॊपथा के अचधकायी मिऺक पटाप औय ववद्मथी उऩस्पथत थे


फी के िीतर फहन भनभाड सेंटय रबायी फी के फहन चाॉदवड सेंटय रबायी सकायात्भक ववचाय से सभपमा सभाधान भें फदर जाती है याजमोगी बगवान बाई सकायात्भक सोच द्वाया ववऩरयत ऩरयस्पथतत भें हरचर से फाख सकते है तनयािा भें बी आिा की ककयण ददखने रगती है । अऩनी सभपमा को सभाप्त कयने एवॊ सपर जीवन जीने के मरए ववचायों को सकायात्भक फनाने की फहुत आवश्मकता है। उतत उद्गाय रजावऩता ब्रह्भाकुभायी ईश्वयीम ववश्वववद्मारम भाउॊ टआफू से आए याजमोगी बगवान बाई ने कहे । उन्होंने कहा कक सभपमाओॊ का कायण ढूढने की फजाए तनवायण ढॊ ूूढ़े। उन्होंने कहा कक सभपमा का चचॊतन कयने से तनाव की उत्ऩवि होती है। भन


के ववचायों का रबाव वातावयण ऩेड़-ऩौधों तथा दस ू यों व पवमॊ ऩय ऩड़ता है । मदद हभाये ववचाय सकायात्भ है तो उसकासकायात्भक रबाव ऩड़ेगा। उन्होंने फतामा कक जीवन को योगभत ु त,दीघायम,ु िाॊत व सपर फनाने के मरएहभें सफसे ऩहरे ववचायों को सकायात्भक फनाना चादहए। याजमोगी बगवान बाई ने कहा कक सकायात्भक ववचाय से सभपमा सभाधान भें फदर जाती है । एक दस ू यों के रतत सकायातभक ववचाय यखने से आऩसीबाई चाया फना यहता है । उन्होंने सत्सॊग एवॊ आध्मास्त्भक ऻान को सकायात्भक सोच के मरए जस्री फताते हुए कहा कक हभ अऩने आत्भफर से अऩना भनोफर फढ़ा सकते है । सत्सॊग के द्वाया राप्त ऻान

चाँदवड (महाराष्ट्र ) – में श्रीमती के बी अबाड होमिओपेथीक हास्पिटल और कालेज में सकारात्मक चिन्तन नैति  
चाँदवड (महाराष्ट्र ) – में श्रीमती के बी अबाड होमिओपेथीक हास्पिटल और कालेज में सकारात्मक चिन्तन नैति  
Advertisement