Page 1

माऱेगाव (महाराष्ट्र )---कममवीर भाऊसाहब हीरे

उच्च

माध्यममक ववधाऱय माऱेगाव में नैतिक मल् ू यों का ऩाठ ऩढ़ाया नैतिक मूल्यों का ऩाठ ऩढ़ाया आयोजक –स्थानीय ब्रह्माकुमारीज माऱेगाव कैं ऩ सेंटर (महाराष्ट्र) मुख्य वक्िा ---बी के भगवान ् भाई माउं ट आबू ववषय –-- नैतिक मिऺा का महत्व वरंमसऩऱ --श्री बी वाय ऩाटटऱ उऩ वरंमसऩऱ ---दाभाडे सर सीतनयर मिऺक ---श्री हीरे सर श्री ऩगारे

सर

बीके ममिा बहन रभारी ब्रह्माकुमारीज माऱेगाव कैं ऩ सेंटर (महाराष्ट्र) बी के सचचन सर


एस अवसर ऩर भगवान ् भाई ने कहा कक

भौतिक

शिऺा से हम रोजगार प्राप्ि कर सकिे हैं, ऱेककन ऩररवार, समाज, काययस्थऱ में ऩरे िानी या चुनौिी का मक ु ाबऱा नह ीं कर सकिे उन्होंने

कहा कक नैतिक

मूल्यों से व्यक्तित्व में तनखार, व्यवहार में सध ु ार आिा है ।नैतिक मूल्यों का ह्रास व्यक्तिगि, सामाक्जक, राष्ट्र य समस्या का मऱ ू कारण है । समाज सध ु ार के शऱए नैतिक मूल्य जरूर है ।उन्होंने कहा कक नैतिक शिऺा की धारणा से, आींिररक सितिीकरण से इच्छाओीं को कम कर भौतिकवाद की आींधी से बचा जा सकिा है । व्यक्ति का आचरण उसकी जुबान से ज्यादा िेज बोऱिा है । ऱोग जो कुछ आींख से दे खिे हैं। उसी की नकऱ करिे हैं। हमारे जीवन में श्रेष्ट्ठ मू ्््ल्य है िो दस ू रे उससे प्रमाणणि होिे हैं।जीवन में नैतिक मल् ू य होंगे िो आदमी ऱाऱच, हहींसा, झूठ, कऩट का ववरोध


करे गा और समाज में ऩररवियन आएगा। उन्होंने कहा नैतिकिा से मनोबऱ कम होिा है। मल् ू यों की शिऺा से ह हम जीवन में ववऩर ि ऩररक्स्थति का सामना कर सकिे हैं। जब िक हम अऩने जीवन में मूल्यों और प्राथशमकिा का तनधायरण नह ीं करें गे, अऩने शऱए आचार सींहहिा नह ीं बनाएींगे िब िक हम चुनौतियों का मक ु ाबऱा नह ीं कर सकिे।

मालेगाव (महाराष्ट्र ) कर्मवीर भाऊसाहब हीरे उच्च माध्यमिक विधालय मालेगाव में नैतिक मूल्यों का पाठ पढ़ा  
मालेगाव (महाराष्ट्र ) कर्मवीर भाऊसाहब हीरे उच्च माध्यमिक विधालय मालेगाव में नैतिक मूल्यों का पाठ पढ़ा  
Advertisement