Page 1

जगाधयी (हरयमाणा) – भें जनता सीननमय सेकंडयी स्कूर भस् ु तपाफाद भें नैनतक शिऺा ऩय कामयक्रभ आमोजक –स्थानीम सेवाकेंद्र जगाधयी (हरयमाणा) भख् ु म वक्ता ---फी के बगवान ् बाई भाउं ट आफू ववषम – नैनतक भूल्म वरंशसऩर – सयदाय दे वेन्द्द्र शसह श्री धभयवीय खफ ु ड़ फपजजकर ट्रे ननंग इंस्ऩेक्टय फी के उषा

फहन असंध हरयमाणा

सेंटय रबायी

फी के सष ु भा जगाधयी हरयमाणा फी के तेजस असंध हरयमाणा बगवान बाई ने कहा

फक िैऺणणक जगत भें

ववद्मार्थयमों के शरए नैनतक भल् ू मों को जीवन भें धायण कयने की रेयणा दे ना आज की आवश्मकता है उन्द्होंने कहा फक नैनतक भूल्मों की कभी मही व्मजक्तगत, साभाजजक, ऩारयवारयक, याष्ट्ट्रीम एवं अन्द्तयायष्ट्ट्रीम सवय


सभस्माओं का भूर कायण है ववद्मार्थयमों का भूल्मांकन आचयण, अनस ु यण, रेखन, व्मवहारयक ऻान व अन्द्म फातों के शरए रेयणा दे ने की आवश्मकता है ऻान की व्माख्मा कयते हुए उन्द्होंने फतामा फक जो शिऺा

ववद्मार्थयमों को अंधकाय से रकाि की ओय, असत्म से सत्म की ओय, फन्द्धनों से भुजक्त की ओय रे जाए वही शिऺा है उन्द्होंने कहा फक अऩयाध भक् ु त सभाज के शरए संस्कारयत शिऺा जरूयी है बगवान बाई ने कहा फक आज के फ"ोो कर का बावी सभाज हैं अगय कर के बावी सभाज को इन्द्हीं फ"ोाोोों को नैनतक सद्गुणों की शिऺा की आधाय से चरयत्रवान फनाए तफ सभाज फेहतय फन सकता है गुणवान व चरयत्रवान फ"ोो दे ि की स"ोाोी सम्ऩवि हैं

उन्द्होंने फतामा फक ऐसे गुणवान औय चरयत्रवान फ"ोो दे ि औय सभाज के शरए कुछ यचनात्भक कामय कय सकते हैं उन्द्होंने बायतीम संस्कृनत को माद ददराते हुए कहा फक राचीन संस्कृनत आध्माजत्भकता की यही जजस


कायण राचीन भानव बी वंदनीम औय ऩज ू नीम यहा उन्द्होंने फतामा फक नैनतक शिऺा से ही भानव के व्मवहाय भें ननखाय राता है

जगाधरी (हरियाणा) – में जनता सीनियर सेकंडरी स्कूल मुस्तफाबाद में नैतिक शिक्षा पर कार्यक्रम  
जगाधरी (हरियाणा) – में जनता सीनियर सेकंडरी स्कूल मुस्तफाबाद में नैतिक शिक्षा पर कार्यक्रम  
Advertisement