Bolti Anubhutiyan...

Page 1


सरस्वती वंदना


B.Ed. session 2020-2022


Table of ContentSl.No.

Topic

Student’s Name

1.

Mathology – a new religion?

Aditya Pokhriyal

2.

Fun Fact

Arti Pundir

3.

Interesting genetic facts

Divya Bhatt

4.

The beginning

Kiran Sajwan

5.

Being a Student…

Madhvi Rana

6.

Don’t be sad

Mansi Kudiyal

7.

Truths for life

Neha Sinha

8.

Why me???

Nikita

9.

Life

Ranjana

10.

If

Sakshi Bhandari

11.

Don’t give up

Sheetal Negi

12.

Hall of Fame

Shobhit Semwal

13.

Educational Thoughts

Simran Dhiman

14.

Dream

Sonam Bhandari

15.

Maths, Maths, Maths

Urvashi Thapa


क्रम सं.

ववषय

छात्र का नाम

16.

छल कपट

अंशल ु राणाकोटट

17.

तीन लकीरें

18.

सपनों में रख आस्था

19.

ख़ुद पे भरोसा रखना

20.

ओ नारी ! कैसे कह दं ,

मीना कुमारी

21.

हा​ाँ मै नारी हाँ, मैं शक्तत हाँ, पर अबला नहीं!

मीना कुमारी

22.

चल सको तो चलो

पजा पवार

23.

क़्िद करो

प्रीतत कौशशक

24.

जोश

प्रप्रया कौशशक

25.

तुम मन की आवाज सुनो

रबीना

26.

कन्या भण ृ

रजनीश भट्ट

27.

पापा

रूबी गुसाईं

28.

प्रयास

सपना

29.

मुलाकत

30.

कोशशश कर हल तनकलेगा

सुनंदा

31.

चलना हमारा काम हे

नेहा तिक्डियाल

32.

शशक्षा

सरु शभ

33.

बन्द

वशा​ा

34.

चचड़िया

35.

लीलावती

दीक्षा भट्ट कररश्मा मानशी कुकसाल

शीतल पोखररयाल

योचगता भट्ट ररतु कंिवाल


MATHOLOGY – A NEW RELIGION? - Aditya Pokhriyal

Caution - If you are orthodox towards any religion, you probably should skip this article! (This article is based on personal perspective need not to be taken personally.) ➢ WHAT IS MATHOLOGY? In short, Mathology is concept of setting mathematical values as basic structure of each and every religion. In simple word, it’s correlation of Mathematics and Religion. ➢ WHY MATHOLOGY IS REQUIRED? We usually associate religion with “faith in God/Gods” or organizations (Temple, Mosque, Church, etc.) which it doesn’t meant to be actually. Religions should be set of beliefs or values that make a person better and bind people together not to divide them. Some of the Mathematical values could be made fundamental in every religion, so it could be fruitful to living beings, like:✓ Logically Consistent – Its teaching cannot be self-contradictory. ✓ Empirically adequate – Its teaching must match what we see in reality. ✓ Existentially Relevant – Its teaching must speak directly to how we actually live our lives. ✓ Rationalism – Its teaching must value reasoning and arguments. ✓ Openness – Its teaching must be democratically open for anyone to use and explain. If such values are inculcated in peoples through religion it will be helpful in development of environment. ➢

WHAT MATHOLOGY SAYS ABOUT GOD?

Mathology has a simple and clear perspective that a religion should not have any God/Goddess/Messenger who has a name or a place associated to it, Religion should not force anyone to accept /follow it. Because if it’s done that way, followers will


follow the messenger not the message. Similarly ,the place will become a centre of business insisted of a centre of spirituality. God is like infinity the more we discover the more it needs to be discovered. Mathematically, God = Infinity – Human Knowledge

CONCLUSION

Mathology in religion will teach how to think not what to think, its ultimate goal should be to eliminate discrimination on any grounds and promote “Vasudhaiva Kutumbakam”, i.e. the world is one family (until we find aliens).

Peace


FUN FACT -ARTI PUNDIR


INTERESTING GENETIC FACTS - DIVYA BHATT ➢ ON A GENETIC LEVEL, ALL HUMANS ARE MORE THAN 99% IDENTICAL-more than 99 % of our genes are exactly the same from one person to the next. In other words, the diversity we see within the human population—including traits like eye color, height, and blood type—is due to genetic differences that account for less than 1 percent. ➢ GENES CAN DISAPPEAR OR BREAK AS SPECIES EVOLVE-most mammals were able to biologically produce their own Vitamin C in-house. But some point throughout the course of human history, we lost the ability to make Vitamin C when one of those genes stopped functioning in humans long ago. It was found that all our ancestors probably ate so much fruit that there was never any need to make our own Vitamin C. In the same way when a species loses a gene during evolution, it’s usually because they don’t need that specific gene functioning. ➢ ELIZABETH TAYLOR’S VOLUMONOUS EYELASHES WERE LIKELY CAUSED BY A GENETIC MUTATION-A mutation of the aptly named FOXC2 gene gave Hollywood icon Elizabeth Taylor two rows of eyelashes. The technical term for this rare disorder is distichiasis, and while it may seem like a desirable problem to have, sometime there can be complications for which they should be removed to prevent eye damage. ➢ A “ZOMBIE GENE” IN ELEPHANTS MIGHT HELP PROTECT THEM FROM CANCER- a cancer-suppressing gene that was previously “dead” (or nonfunctioning) in elephants turned back on at some point, this reanimated “zombie gene” might explain why elephants have such low rates of cancer—just 5 percent die from the disease, compared to 11 to 25 percent of humans.


THE BEGINNING KIRAN SAJWAN


BEING A STUDENT…….. - Madhvi Rana

Funny it is, being a Student Being told what to do, Not just at college or school But at home too All this, Is it really worth it You may ask yourself, and rightly so, Doing what your teachers and parents say Will it really help you grow Reasonable are these doubts. But to find out, there's only one way. Build yourself, on all that you learn And keep learning more, day after day. Be aware, chase what you want. Trust your intuitions, trust your goal. Nothing stops you from being great As long as you got that fire in your soul…….


DON’T BE SAD -Mansi Kudiyal


TRUTHS FOR LIFE - Neha Sinha The more generous we are, the more joyous we become. The more cooperative we are, the more valuable we become.. The more enthusiastic we are, the more productive we become. The more serving we are, the more prosperous we become. The more outgoing we are, the more helpful we become. The more curious we are, the more creative we become. The more patient we are, the more understanding we become. The more persistent we are, the more successful we become.


WHY ME????? -Nikita


LIFE - RANJANA BHATT


“IF” -Sakshi Bhandari






DON'T GIVE UP - Sheetal Negi (B.Ed)

If you keep on going and never stop. You can keep on going you can make it to the top. Life is full of mountains, Some are big and some are small. But if don't give up You can overcome them all. So keep on going Try not to stop. When you keep on going You can make it to the top.


HALL OF FAME –

SHOBHIT SEMWAL

YOU CAN BE THE GREATEST, YOU CAN BE THE BEST. YOU CAN BE THE KING KONG BANGING ON YOUR CHEST. YOU CAN BEAT THE WORLD, YOU CAN BEAT THE WAR. YOU CAN TALK TO GOD, GO BANGING ON HIS DOOR. YOU CAN THROW YOUR HANDS UP, YOU CAN BEAT THE CLOCK. YOU CAN MOVE A MOUNTAIN, YOU CAN BREAK ROCKS. SOME WILL CALL IT PRACTICE, SOME WILL CALL IT LUCK. AND , ONE DAY YOU WILL , STANDING IN THE HALL OF FAME. AND , THE WORLD’S GONNA KNOW YOUR NAME. BECAUSE YOU BURN WITH THE BRIGHTEST FLAMES. AND THE WORLD’S GONNA KNOW YOUR NAME. YOU CAN GO THE DISTANCE, YOU CAN RUN THE MILE. YOU CAN WALK STRAIGHT THROUGH HELL WITH A SMILE. YOU CAN BE A HERO, YOU CAN GET THE GOLD. BREAKING ALL THE RECORDS THEY THOUGHT NEVER COULD BE BROKE. DO IT FOR YOUR PEOPLE, DO IT FOR YOUR PRIDE. HOW YOU EVER GONNA KNOW IF YOU NEVER EVEN TRY? DO IT FOR YOUR COUNTRY, DO IT FOR YOUR NAME. BECAUSE THERE’S GONE BE A DAY, WHEN YOU WILL , STANDING IN THE HALL OF FAME. AND THE WORLD’S GONNA KNOW YOUR NAME. BE YOU BURN WITH THE BRIGHTEST FLAME AND THE WORLD’S GONNA KNOW YOUR NAME.


Educational Thoughts -Simran Dhiman

1- Education is for improving the lives of others. 2- Change is the end result of all true learning. 3- An investment in knowledge pays the best interest. 4- Education is a better safeguard of liberty than a standing army. 5- The roots of education are bitter but the fruit is sweet 6- Education is the vaccine of violence. 7- Education is not preparation for life; education is life itself. 8- Success is the sum of small efforts, repeated.


Dream Sonam Bhandari Close your eyes and let Your imagination fly away. See a picture of where You wish to be one day.

Let the colors of your Heart take command to paint the picture of your dream and place it in your hand.

Hold on tightly and nurture it, But allow it room to Grow. When you reach your dream, Open your hand and let it go.

Close your eyes and search for another, caring for it as before. Never stop searching, achieving and Letting go, for that's what dreams are for.


MATHS, MATHS, MATHS! -Urvashi Thapa


छल कपट Anshul Ranakoti


तीन लकीरें

दीक्षा भट्ट

प्रपता, माथे से तम् ु हारे ये……. तीन लकीरें कैसे हटाऊं..? तया वतत रोक दूँ …. मुमककन नहीं है……. तया बदल दूँ समाज ये रीती ररवाज…. वह कटिन है….

तया तो़ि दूँ कायदे , ये तनयम ये वायदे …

हां की तम ु से आशा नहीं है… तो…. तया जहां छो़ि दूँ .

पर बेटी तुम्हारी बुजटदल नहीं है तुम जो सुझाओ, वही कर जांच

कहो न प्रपता….. माथे से तुम्हारे ये तीन लकीरें , कैसे हटाऊं.?

🙏


सपनों पर रख आस्था. - Karishma


ख़द ु पे भरोसा रखना

-मानसी कुकशाल


ओ नारी

! कैसे कह दं, -मीना कुमारी

ओ नारी ! कैसे कह दं , तुम कुछ नहीं हो ज्ञान जो चाहें सरस्वती तुम, मान जो चाहें लक्ष्मी हो तुम अपराधों का साया छाये धरती पर, तो काली-दर् ु ा​ा का रूप हो तुम ओ नारी ! कैसे कह दं , तुम कुछ नहीं हो। खुशियों का संसार तुमहीं से, जीने के आधार तुमहीं से बंद होते और खल ु ते भी हैं, दनु नया के दरबार तुमहीं से ओ नारी ! कैसे कह दं , तुम कुछ नहीं हो। प्रेम की िुरुआत तुमहीं से, जीवन का आर्ाज तुमहीं से ये जहां है जर्मर् सरज से, सरज की चमकार तुमहीं से ओ नारी ! कैसे कह दं , तुम कुछ नहीं हो। कभी कठोर-कभी नेक हो तुम, हर ररश्ते में हरर एक हो तुम ममता-िक्तत और मह ु ब्बत, नारी तुम एक हो मर्र अनेक हो तुम ओ नारी ! कैसे कह दं , तुम कुछ नहीं हो। आन-बान और िान तुमहीं से, संस्कारों की खान तुमहीं से ददा -त्यार् और ममता की है , संसार में पहचान तुमहीं से ओ नारी ! कैसे कह दं , तुम कुछ नहीं हो।


हा​ाँ मै नारी हाँ, मैं िक्तत हाँ, पर अबला नहीं!! -मीना कुमारी मैं नारी हाँ, मैं शक्तत हाँ ।

ईश्वर की सुन्दर अशभव्यक्तत हाँ । कैसी भी कटिन पररक्स्थतत हो। मैं कभी नहीं डिगती हाँ । मैं शक्तत हाँ.....प्रवश्व की

... मधुर भावों,धैया, शाक्न्त का, सक्ृ टट को पाि पढाती हाँ ।

मैं शक्तत हाँ.....समाज की

...

नव जीवन पोप्रित करके

वीर-वीरांगनाओं को कमाि बनाती हाँ। मैं शक्तत हाँ.....पररवार की... संस्कारों का बीज पडलप्रवत करके, एक मुट्िी में बांधे रखती हाँ ।

मैं शक्तत हाँ.....स्वयं की

...

तनज सम्मान,गौरव, प्रततटिा की हर हाल में रक्षा करती हाँ।

मैं नारी हाँ, चाहें मैं शक्तत हाँ.... पर मैं कभी कमजोर भी हाँ।

,


कमजोर हाँ

..... जब बालक

दो पल को

भी़ि में

...

आाँखों से ओझल हो जाए। कमजोर हाँ

..... जब रात को अंधेरे में , स़िक पर

कोई मदा यों ही सामने आ जाए। कमजोर हाँ

..... जब कोई

मेरे भावों को

न समझ कर मुझ में ही दोि तनकाले जाए। कमजोर हाँ

..... जब अपना ही कोई कहे

तुमने ककया ही तया है आज तक मेरे शलए पररवार के शलए समाज के शलए सक्ृ टट के शलए

.....

हा​ाँ मै नारी हाँ, मैं शक्तत हाँ, पर अबला नहीं!!

- मीना कुमारी


चल सको तो चलो पजा पवार सफ़र

में

सभी

हैं

इधर

- उधर

बने

धप भी़ि

चल

सको

तो

चलो

तनकल

सको

तो

चलो।

है चल

सको

तो

चलो

,

में तुम

भी

,

कई

मंक्जल

,

हैं

सा​ाँचे जो

के

वास्ते

राहें

कहा​ाँ

बदलती

आप

को

खद ु

बदल

तुम

अपने

मुझे

चगराके

यही

है

इन्हें

खखलौनों

हर

होगी जो

बनाये

ककसी यहा​ाँ

तो

ककसी

को

टहफा़ितों कहीं

नहीं

ख़द ु

अपने

कोई

अगर

क्जदगी

एक

से

सफ़र की

ढल

,

रास्ता

तुम

कुछ को

तुम

है

ररवायत

कोई आप

सको

चंद

भी

बहल

मह्फ़ि बदल

से

बाहर

तो

दे ता तो

चलो।

चलो

,

उम्मीदें सको रास्तों

सको तो

,

सरज धआ ु ाँ धआ ु ाँ

,

हैं

सको

ख्वाब

चलो।

सको

नहीं

संभल

तो

-

तनकल

है

तो की

चलो। तलाश

चलो। कफ़िा

सको तो

,

चलो।

चल

सको

तो

चलो।






कन्या भ्रण एक बेटी मां से प्रश्न पछती है ,

अरे सुना था मैंने मां की ममता

दतु नया में सबसे बढकर होती है । मां तो अपनी बेटटयों हे तु

प्राण भी न्योछावर कर दे ती है ।। मां की ममता के आगे तो

रामकृटण की भक्तत भी झुक जाती है । पर इस कलयुग में माताएं

बेटटयों को कोख में मार चगराती हैं।। बस मां से प्रश्न एक है मेरा

कौन सा ऐसा मैंने पाप कक या। संसार में आने से पहले जो कोख में तने मुझको मार टदया।। बस मां से प्रश्न एक है मेरा

करुणा ममता उस क्षण तेरी कहां गई । संसार में आने से पहले जब

त अपनी कोख में मुझको मार गई।। मां अपनी वेदना व्यतत करती है मां की ममता तया होती है

यह बेटी त नहीं जानती है । गभा में तयों मैंने मारा तुझको

यह तेरी मां तुझे आज बताती है ।। इस संसार जगत में

बेटटयों के बरु े हो रखे हैं हाल। दटु ट राक्षस इंसानों द्वारा।

ल़िककयां हो रखी हैं बेहाल।। दाशमनी जैसी ल़िकी का यहां चार चार लोग बलात्कार करते हैं। आसपास रहने वाले लोग


कोई बचाने तक नहीं आते हैं।। कन्या भ्रण बंद करने हे तु

लोग उपदे श बहुत यहां दे ते हैं । पर सच तो यह है आि महीने की बक्चचयों के बलात्कार यहा​ाँ होते हैं।। इन बातों ने बेटी मुझे बहुत िराया है । इसशलए मैंने तुझे कोख में मार चगराया है ।। दहे ज न दे ने के कारण

सास बह को क्जदा जलाती है । आसपास की जनता बस दे खते ही रह जाती है ।।

क्जदा जलाना और दटु कमा तो ल़िककयों संग बहुत होता है । पर दे श के कानन से भी

बेटटयों को न्याय नहीं शमल पाता है ।। अपनी बेटटयों की पी़िा में

हम बस रोते ही रह जाते हैं। पर दे श के कानन बेटटयों के हक में नहीं बदले जाते हैं।। इन बातों ने बेटी मुझे बहुत िराया है इसशलए मैंने तुझे कोख में मार चगराया है ।। बेटी बचाओ, बेटी पढाओ के उपदे श नेता लोग यहां बहुत दे ते हैं। पर दे श की बेटटयों के शलए ये कुछ भी नहीं कर पाते हैं।। बेटटयों को न्याय टदलाने हेतु

कोटा के चतकर बहुत लगाने प़िते हैं। और दटु ट पाप्रपयों को दं ि दे ने हे तु नेताओं के पैर पिने प़िते हैं।। बलात्कार करने वाले लोग

अभय होकर इस दे श में रहते हैं। तयोंकक उनके आगे पीछे ऊपर नेताओं के हाथ बिे हां होते हैं।।


इन बातों ने बेटी मुझे बहुत िराया है इसशलए मैंने तुझे कोख में मार चगराया है ।। धमास्थल आश्रय समझकर

आश्रमों में बेटटयों को भेजा करते हैं। कुछ व्यापारी आश्रमों में भी

बेटटयों के बलात्कार बहुत हो जातें हैं।। ब्रह्मा प्रवटणु महे श से बढकर संतो को हम माना करते हैं। रामरहीम, आशाराम पाखंिी, दश्ु शासन बन जाते हैं।।

इन बातों ने बेटी मुझे बहुत िराया है इसशलए मैंने तुझे कोख में मार चगराया है ।। नारी की शक्तत

इन कन्याओं में शक्तत बहुत है सबको सचेत मैं करना चाहता हं । और द्रौपदी द्वारा दश्ु शासन के

खन पीने की याद पुनः टदलाता हाँ।। ये बक्चचया​ाँ कन्यायें क्जस टदन

दग ु ा​ा महाकाली के रूप में आयेंगी। पापी इंसानों को छो़िो

परे संसार की हालत बबग़ि जाएगी।। बेटटयों का क्जस टदन दे श में सम्मान होयेगा। कन्या भ्रण हत्या का होना स्वत:बंद हो जाएगा।।

- रजनीि भट्ट


पापा ये पापा ऐसे कैसे होते हैं सारा टदन दौ़िते है , चगरते है आंखें बंद सारी रात, लेककन नहीं सोते हैं

मां का तो मंटदर होता, लेककन पापा का िर होता है एक झग्ु गी झोप़िी, महल जैसा उनका टदल होता है बाहर से सख्त लेककन अन्दर से खोखला होता है बीवी की एक प्यार से खखलाई सखी रोटी, बचचों का पापा कहना उनके रोने के शलए काफी होता है अपनी बेटी की िोली कभी न िगमगाए इसशलए वो सारी क्जदगी , अपने कंधे मजबत करते हैं कभी अपने पापा की फटी कमी़ि में दे खा, वहीं अपने टटे -फटे सपने संभाले रखते हैं ना ककसी से कम कक सी से ज्यादा होते हैं पापा तो शसफा पापा होते हैं। रुबी र्ुसाईं



मुलाक़त कल मैं एक समंदर से शमला था ऐसा लगा वो शायद अकेला था.

चारों तरफ लहरों का पहरा था ऐसा लगा शायद वो अकेला था.

हमें दे खकर उछला था शायद उसे कुछ कहना था

समंदर का पानी तयों आाँस सा खारा था , शायद उसका गम भी कुछ गहरा-गहरा था शायद अब वो ख़द ु को तनहा न समझे

हमने उसकी रे त पे पैरों का तनशा​ाँ छो़िा था

कल मैं एक समंदर से शमला था, ऐसा लगा शायद वो अकेला था .

-िीतल पोखररयाल


कोशशश कर, हल तनकलेगा कोशशश कर,हल तनकलेगा,

आज नहीं तो कल तनकलेगा. अजन ुा के तीर सा सध,

मरूस्थल से भी जल तनकलेगा. मेहनत कर, पोधौं को पानी दे ,

बंजर जमीन से भी फल तनकलेगा.

ताकत जुटा,

टहम्मत को आग दे , फौलाद का भी फल तनकलेगा.

क्जदा रख, टदल में उम्मीदों को, गला के समंदर से भी गंगाजल तनकलेगा

कोशशश जारी रख कुछ कर गुजरने की, जो है आज

थमा-थमा सा ,चल तनकलेगा.

सन ु ंदा


चलना हमारा काम है -Neha Ghildiyal



शिक्षा - Surbhi


चचड़िया

- Yogita Bhatt