Page 1

पष्ृ हिन्दी ठ –4

प्रेस क्लब प्रस्ततु त

गरू ु वार , 13 सितम्बर पपलानी

प्रवाह

बबट्ि में बहती ख़बरों की धारा

प्री-बॉसम विशेष ांक


प्रवाह

हिन्दी प्रेस क्लब प्रस्ततु त गरू ु वार , 13 सितम्बर

बबट्ि में बहती ख़बरों की धारा

पपलानी

प्री-बॉसम विशेष ांक

बॉिम 2012 कायष करना होगा | लेककन जो

हो , क्योंकक कहा गया है न“दररयाएाँ नहीं रोकती रास्ता मुिाकिर का क्योंकक

मंजिल

समली नहीं है उिे अभी…“ बॉिम के चार जगह होने िे इि बार चयन का भार िीधेिीधे दशषकों पर आने वाला है | जहााँ जजम-जी , मेड-िी , और बबट्ि के िारे महोत्िवों में एकमात्र ऐिा महोत्िव जो खेला जाता है , दे खा जाता है और जीता जाता है चाहे ट्यूट हो , लेक्चर हो या लैब ; एकमात्र महोत्िव जजिमें

बाहरी

प्रततभागगयों

की

िंख्या

बबट्ि के प्रततभागगयों िे कहीं ज़्यादा होती है , और वो है बॉिम | इि वर्ष बॉिम का 27 वां िंस्करण होने जा रहा है और कोई शक नहीं कक इिमें भी उतना

ही

रोमांच

होगा

जजतना

परु ाने

िंस्करणों में हो चुका है , चाहे कैम्पि में ककतनी ही प्रततकूल पररजस्िततयााँ क्यों न

िैक के खेल परु ानी यादों को तािा

करें गें

वहीीँ

सशशु-पवहार

और BPS खखलाड़ियों के सलए इि बार नया अनुभव होंगें | इि बार क्लब-ड़डपाटष मेंट्ि को भी ज्यादा मेहनत करनी पिेगी | कन्ट्रोल्जि पपछले फेस्ट की अपेक्षा इि बार दो बि ू स्िापपत करे गा | प्रेि क्लब के िदस्यों को भी चार जगहों िे बॉिम कवर िमपषण

करने और

में

बेशक

िमन्ट्वयन

http://hpc.bits-student.org/

परू े िे

भी हो खखलाड़ियों के

जोश ,

स्टॉल्जि के स्वाद और “बॉिम“ के नाम के आगे िारे कायष छोटे हैं | तनजचचत ही बॉिम की इनॉग नाइट िे लेकर अंत ददवि तक का

अनुभव

अपने

आप

में

अलग है क्योंकक इन कुछ ददनों में हमें भी

खेलों के अलावा और

बहुत

कुछ

दे खने

और

िीखने को समलता है |कैम्पि का माहौल एक नए रं ग तिा रोमांच िे िराबोर रहता है |

इि

बार किकेट प्रेसमयों को पव ू ष भारतीय खखलािी “िबा करीम” िे िीधे-िीधे समलने का मौका समल रहा है | इिके िाि और भी अनुभव तछपे हैं ,बि आप ददल िे बॉिम एन्ट्जॉय करें |


पष्ृ ठ –3

जुनून 2012 बबट्ि पपलानी के प्रांगण में 2 सितम्बर का ददन अनेक

मािम चेहरों पर मस् ू ु कुराहटें

लेकर आया| मानसिक और

शारीररक रूप िे अस्वस्ि बच्चों व बिों के सलए खेल-कूद, उमंग और रोमांच िे भरपरू कुछ पल लेकर आया “जुनन ू

2012”| एन.एस.एस. बबटस ् विल नी और स्िोर्ट्स क उां ससल द्वारा आयोजजत इि अनोखे खेलोत्िव का उद्घाटन बबट्ि के

मेड-िी ग्राउं ड्ि में प्रातः 9.30 पर हुआ| यह एकददविीय खेल प्रततयोगगता पवकलांग बच्चों और जवानों के सलए आयोजजत की

गयी िी जजिमें 5 एन.जी.ओ. के 94 प्रततयोगी शासमल हुए| ये एन.जी.ओ. िे मस् ु क न(ददल्जली), उमांग(जयपरु ), अक्षय प्रततष्ठ न (गचिावा), आश क झरन (झंझ ु न ु )ू एवं अमल बबरल (पपलानी)| उद्घाटन िमारोह में मख् ु य अततगि के रूप में बबट्ि

जन ु न ू प्रततभ गगयों के स थ प्रो. रघरु म

और ढे र िारी वाहवाही लट ू ी| डांि क्लब की उम्दा

पेशकश और छात्र प्रकाश सिंह की प्रेरक कपवता ने भी

पपलानी के उप तनदे शक, श्री आर.एन. स ि और गेस्ट ऑफ

िमां बााँध ददया| तत्पचचात ् ‘मस् ु कान’ के िदस्यों के

जैन, जो ‘मस् ु कान’ नामक एन.जी.ओ. के िाि कई वर्ों िे

भी खेला जजिमें उपजस्ित जनता ने खखलाड़ियों का

ऑनर श्रीमती मधु जैन को िम्मातनत ककया गया| श्रीमती मधु

िंग बबट्ि के छात्रों ने एक दोस्ताना बास्केटबाल मैच

काम कर रही हैं, ने प्रततयोगगयों की हौिलाििाई करते हुए कहा कक इि प्रकार के आयोजन आपि में भाईचारे की भावना

उत्िाहवधषन ककया| अंत में िभी खेलों में अव्वल आए

जज़्बे को िलाम ककया और आशा जतायी

पर िभी बबट्सियन्ट्ि ने खखलाड़ियों और उनके गरु ु ओं

खखलाड़ियों को मेडल और प्रमाण पत्र िे िम्मातनत

बढ़ाने में िहायक होते हैं| आर.एन.िाह ने प्रततयोगगयों के

ककया गया| जाते-जाते प्रो. बी.एन. जैन की गि ु ाररश

आयोजजत ककया जाएगा| तत्पचचात ् खेल िगचव िईद अहमद

के िंग डांि ककया और इि ददन को और भी यादगार

कक जन ु न ू हर वर्ष

के िाि प्रततयोगगयों ने शपि ली कक वो प्रततयोगगताओ में

बना ददया|

खेल भावना के िाि भाग लेंगे|

बाहर

10.30 बजे िे प्रारं भ हुए एिलेदटक्ि, बैडसमंटन, कैरम, आदद खेलों में िभी प्रततभागगयों ने जमकर प्रदशषन ककया|

िे

आए

एन.जी.ओ.

भी

बबट्ि

के

स्वागत ित्कार िे असभभत ू ददखे और जाते जाते िभी बबट्सियन्ट्ि को अपने एन.जी.ओ. में आमंबत्रत भी कर

अपनी शारीररक और मानसिक कसमयों को भल ु ाते हुए जजि जोश व उत्िाह के िाि ये िभी प्रततभागी खेल-कूद में दहस्िा

गए| कायषिम के िंयोजक श्री एच.डी. म थरु जी ने

मेहरबानी के चलते जन ू न ू का रोमांच और भी अगधक हो गया|

उन्ट्होंने पवचवाि ददलाया कक आने वाले वर्ों में इि

िभी

अततगियों,

खखलाड़ियों

और

एन.एि.एि.

ले रहे िे वह अत्यंत ही अलौककक अनभ ु व िा| मौिम की

स्पोट्षि िंघ को तहे ददल िे शकु िया अदा ककया|

खेलों के िाि-िाि एन.जी.ओ. के िदस्यों द्वारा बनायीं गयी

प्रकार की बेहतरीन पहल को और बिे स्तर पर शरू ु

स्टॉल्जि भी लगे हुए िे|

के अन्ट्य कॉलेजों के िामने एक उदहारण पेश ककया है

िायं काल जब िांस्कृततक कायषिम प्रारं भ हुए तो मख् ु य अततगि आदरणीय कुलपतत प्रो. बी.एन.जैन व उनकी

अगधक मात्रा में होते रहें गे|

छोटी बिी वस्तए ु ाँ जैिे डायरी, मोमबजत्तयााँ, पिष, आदद के

धमषपत्नी, तनदे शक प्रो. जी.रघरु म

और उप तनदे शक प्रो.

आर.एन. स ि के िंग अन्ट्य सशक्षकगण उपजस्ित िे| इनके िमक्ष िभी एन.जी.ओ. के िदस्यों ने रं गारं ग प्रस्ततु तयााँ दीं

http://hpc.bits-

ककया जाएगा | बबट्ि पपलानी में इि आयोजन ने दे श और आशा है कक इि प्रकार के अनोखे कायषिम और


पष्ृ ठ –4

प्रलय का आगाज़...बिट्स से!! पंतछयों की चहचहाहट िे आाँख खुली तो दे खा कक िूयष की पहली ककरण धरती को चम ू चक ु ी िी | भोर के

शांततमय वातावरण में रं ग भरती मद्धम-मद्धम ककरणें और तन को ठं डक दे ती, चंचल, शीतल हवाओं का आनंद लेता मैं राम-बुद्ध मैि को जाती ििक पर पहुंचा ही िा कक पाया कृष्णा-गााँधी की तरफ की ििक रातोंरात ढह चक ु ी िी | हे ईचवर ! रात को भूकंप आया िा क्या?? इतनी तबाही कैिे हो गयी?? चलो माना की

गड्ढ़ा तो बबट्ि की िंपजत्त है (:p) परन्ट्तु ये ििक कब ढह गयी, पता भी नहीं चला | कहीं ये प्रलय की

शुरुआत तो नहीं है , ऊपर िे िाल भी 2012 चल रहा

27 अगस्त को कुछ ऐस थ कृष्ण म ग् क मांज़र |

है | इिी पवर्य में िोिा और जानने की इच्छा सलए मैं आगे बढ़ा ही िा कक ऑडी के िामने की ििक का भी वैिा ही हाल पाकर एक बार तो ददल की धिकन िम

त्यों ही है | पररवतषन पररयोजना के नाम पर गड्ढे में

िी गयी, प्रतीत हुआ प्रलय का आगाि बबट्ि िे ही होगा |

गया पपलानी आके' | पर दोस्तों एक बात तो है , खुदी

अब आप िोच रहे होंगे कक ये तो मामूली िी घटना है , ििक ही तो ढही है | पर िनाब िरा ये गौर िरमाईये कक आप जजि ििक पर चल रहें हैं यदद वो ही ढहने लगे तो 2012 तो याद आ ही जाएगी ना | चसलए वो तो कफर भी मूवी िी, हीरो को बचना ही िा | पर

कोई पररवतषन नहीं आया है | तब लगा िा मानो 'फि हुई समट्टी के टीलों पर उगी घाि को दे ख कर अब भी हं िी छूट जाती है | अब ऐिे हालात में पिी बरिात ने 'कंगाली में आटा

िरूर गीला' कर ददया है | हर जगह बबखरी समट्टी और कीचि िे बचते-बचाते चलना पिता है , कहीं रास्ते खुदे

इंतिाम भी कर रखा है (:p) | अरे ! ददल तो उिे कोि

पिे हैं तो कहीं तालाब बना हुआ है | यहााँ तक कक खाई भी अब खाई कम और तालाब ज़्यादा निर आती है |

के ख़त्म होने का इंतिार तो कर लेना िा | तब तक ये

करवाई जा िकती है , इिी बहाने वो कुछ काम तो

िनाब ये तो हकीकत है , िाि ही यहााँ तो खाई का रहा है जजिने ये गड्ढ़ा करवाया है | कम िे कम 2012 भी पता चल जाता कक गड्ढ़े पर खचाष करना भी है या अपने-आप हो जायेगा (:p) | एक तो ये बबट्ि में 'lite' लेने की परं परा पता नहीं कब शुरू हुई िी, कफर चाहे ट्यूट को लाईट लेना हो या लेक्चर को | यहााँ तक की आजकल तो छात्रों के माँह ु िे तनकला हर चौिा शब्द ही लाईट होता है | अब ऐिे में

यदद इंस्टी ने या के.एम.बी िर ने िबकुछ खोदकर कहीं "लाइट" ले सलया तो हम िबकी तो बैठे-बबठाये लग

जानी है दोस्तों! वैिे ये खतरा तब और बढ़ गया िा जब िेम कक शुरुआत में पाया की गड्ढ़ा तो ज्यों का

वैिे वहााँ पर बॉिम में तैराकी प्रततयोगगताएाँ आयोजजत आयेगी | और तो और पानी के बहने िे पिने वाली लकीरों ने भी कैम्पि को एक अलग ही आयाम में पहुंचा ददया है -भूततया आयाम में (:p) | अरे भई बबट्ि का पपलानी में होना ही क्या कम नहीं िा कक एक के बाद एक नयी मि ु ीबतें बबट्ि को घर

कर रहीं हैं | दतु नया में प्रलय कब शुरू होगी ये तो मुझे नहीं पता दोस्तों पर बबट्ि में इिके कदमों की आवाि िाि िन ु ाई पि रही है |


पष्ृ ठ –5

मरुधर न ईट “मरुधरा”- स्वयं शब्द िे ही पवशाल रे गगस्तान का दृचय मानो

आाँखों के िमक्ष िचेत हो उठता है और िंग लाता है ‘मारवािी धरा’ की िौंधी महक | 1 सितम्बर को खचाखच भरे ऑडी में मरुधरा के

िदस्यों ने िांस्कृततक कायषिम पेश ककया | कुछ मनमोहक गीत एवं मनोरं जक िामदू हक नत्ृ य प्रस्तत ु ककए गए | हालााँकक पपछले वर्ों की अपेक्षा इि वर्ष उनका प्रदशषन फीका रहा|

मरुधरा के द्वारा प्रस्तत ु की गयी व्यंग्य रचना ने शरू ु में तो बबट्सियन जनता को हाँिाया परन्ट्तु सशष्ट और िभ्य पवचारों का अभाव ‘यो बाबा!’ और ‘थ्री-बबट्सियन्ट्ि’ नाटकों में िादहर िा | मरुधरा के िदस्यों ने शालीनता की भावनाओं पर पदाष गगराते कुछ अिहनीय व्यंग्य का मंचन ककया जजिपर जनता को हो-हल्जला करने का मौका समल गया| ‘बबट्सियन्ट्ि अदालत’ में िंगम-मध्यांश को हास्य का पात्र बनाने का भरपरू प्रयत्न ककया गया; ‘डॉट’, कैपपटॉल

आदद अिॉक्ि को भी नहीं बख्शा गया | परन्ट्तु ऑडी में बैठी जनता इि नाटक िे प्रभापवत होती निर नहीं आई | ‘बाल भी बांका नहीं कर िकते’ और ‘तम् ु हें तो अंग्रेजी आती है ’ जैिे किनों के द्वारा कुछ लोगों पर व्यंग्य ककया गया |

कुल समला कर बबट्ि की प्रिम िांस्कृततक नाईट में नत्ृ य के कायषिम कािी िराहनीय रहे | गायन भी कािी

मनोरं जक रहा एवं प्रिम वर्ीय छात्रों ने अपनी पहली नाईट दे ख ही ली |

मि र ष्र मांडल न ईट- उल्ि स 2k12 गणपतत वंदना िे प्रारं भ हुई महाराष्र मंडल की िांस्कृततक िंध्या कई रं गारं ग कायषिमों की प्रस्ततु तयों के िाि िफलतापव ष पण ू क ू ष हुई | हमेशा िे ही बेहतरीन नत्ृ य प्रस्ततु तयााँ के सलए मशहूर मंडल इि बार भी दशषकों की आशाओं पर खरा उतरा | िाि ही ‘क्या मझ ु े प्यार है ’ गीत को दशषकों ने काफी पिंद ककया | C और P के कन्ट््यि ू न िे प्रारं भ हुए ‘फोडू CID’ नामक नाटक अपनी लंबी िमय िीमा के कारण लोगों का ध्यान बनाये रखने में पवफल रहा | अपनी आखरी प्रस्ततु त दे रहे िेंटी-िेमाइट्ि ने अपनी वादन कला िे िभी को भाव-पवभोर कर ददया | इि िंध्या का िमापन ‘गंगनम स्टाईल’ के िाि हुआ, जजिमें परू े मंडल ने िामदू हक प्रस्ततु त दी | “प्रक शि न” PCA न ईट : बि र ाँ 2k12 PCA द्वारा प्रस्तत ु िांस्कृततक िंध्या का आगाि गरु ु -ग्रन्ट्ि िादहब की प्रािषना के िाि हुआ | मस्ती भरे गीतों और उनपर गिरकती पंजाबी कुड़ियों ने िभी का मन मोह सलया | माइम के माध्यम िे दि ू रे िांस्कृततक िमद ु ायों व ड़डपाटष मेंट्ि पर किे गए उनके हल्जके-फुल्जके व्यंग्य भी गद ु गद ु ाने वाले रहे | प्रकाश सिंह की “बबट्सियन होने पर बधाई” कपवता ने तो िमां बांध ददया | इन िब के बावजूद भी PCA अपने पपछले वर्ष की िफलता दोहराने में अिफल िा लगा | िंगीत गायन-वादन की प्रस्ततु तयााँ भी कुछ हद तक ही कणष पप्रय रहीं ककन्ट्तु भांगिे की अंततम पेशकश के बाद ऑडी की दीघाष ‘वंि मोर, वंि मोर...’ के शोर िे गाँज ू उठी |


पष्ृ ठ –6

झांक र बॉिम 2012 में झंकार आपके सलए ला रहा है तीन रोमांचक इवेंट्िबॉक्स क्रिकेट – भारत के लोकपप्रय खेल किकेट को एक नए अंदाि में प्रस्तुत कर रहा है झंकार | बॉक्ि में खेले जाने के कारण इि खेल का रोमांच और बढ़ जाएगा तिा इिे लिके और लिककयााँ दोनों ही एन्ट्जॉय कर िकते हैं | यह 14-17 सितम्बर के मध्य 6 िदस्यों की टीम में खेला जायेगा | स्रीट फुटबॉल- गत वर्ष का िबिे ज्यादा दशषकों को आकपर्षत करने वाला इवेंट इि वर्ष भी उिी प्रकार आयोजजत ककया जायेगा | 5 िदस्यों की टीम के बीच हो रहे इि प्रकार के मक ु ाबले में गतत और गोल की िंख्या ज़्यादा होती है | चारों ओर िे जाल में बंद मैदान में खेला जाने वाला स्रीट फुटबॉल अत्यंत रोमांचक होता है | रे डडयो-कांरोल्ड क र रे ससांग- इि इवेंट में झंकार आपको ररमोट-कंरोल्जड कार मुहैय्या कराएगा, आपको केवल अपने पिंदीदा रै क पर कार दौिानी है | िैक में आयोजजत होने वाला यह इवेंट नॉक-आउट प्रणाली का होगा | क्योंकक यह एकदम नया इवेंट है , इिे दे खने जाना न भूलें |

बबर्टस में बिती ख़बरों की ध र के ब रे में ज नने ि कैम्िस की गततविगधयों से अिगत रिने के सलए दे खते रिें िम री िेबस इट

http://hpc.bits-student.org/ हिन्दी प्रेस िररि र ककशन, िरु सभ | िसु मत, अनज ु ा, तनशांक, रोदहत, सिद्धांत, तनतीश, धनंजय, नेहा | वैभव, िोमजी, ईशान, शसशन, नीतत, श्रेय, अंशल ु , माधव, रजत | अभय, आततफ, अनंत,अतनरुद्ध अग्रवाल, अतनरुद्ध समश्र, राजेश, पारि, िोनाली, कररचमा, पपयर् ू , रपव, नीततका, मॉतनका, खश ु बू , आददत्य, अखखलेश , ददव्यांशु |

अगचषत , अददतत, प्रणय, आकृतत, रजत, अंककता, यश, इलाश्री , िय ु श, रवीना, दे वेन्ट्र, ित्यम, प्रांजल, प्रवीन , तनकेश |

www.facebook.com/hpc.bitspilani

Pravah- PRE-BOSM Edition  

This edition of Pravah is dedicated to all the campus happenings before BOSM 2012.

Read more
Read more
Similar to
Popular now
Just for you